Yuvraj Singh: Virat is taking team India in right direction with his fitness and discipline
विराट कोहली और युवराज सिंह © IANS

लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे स्टार खिलाड़ी युवराज सिंह अब भी राष्ट्रीय टीम में वापसी को लेकर सकारात्मक सोच रखते हैं। पिछले साल वेस्टइंडीज दौरे पर आखिरी बार भारत की नीली जर्सी में नजर आए युवराज फिटनेस की वजह से टीम से बाहर हैं। हाल ही में स्पोर्ट्सस्टार को दिए बयान में युवराज ने फिटनेस पर जोर देने के लिए विराट कोहली की तारीफ की है। युवराज का कहना है कि कोहली कड़े फिटनेस पैमानों के दम पर टीम इंडिया को सही दिशा में ले जा रहे हैं।

युवराज ने कहा, “विराट काफी आक्रामक है। नतीजों से साफ होता है कि बतौर कप्तान वो अच्छा कर रहे हैं। विराट के नेतृत्व में टीम काफी बदली है। वो खुद भी काफी फिट और बाकियों की फिटनेस पर भी जोर देता है। पुरानी पीढ़ी के खिलाड़ियों की तुलना में आज के क्रिकेटर कितने ज्यादा फिट हैं क्योंकि खेल और भी ज्याजा प्रतिद्वंदी हो गया है। 2019 विश्व कप को ध्यान में रखते हुए कोहली अपने फिटनेस और अनुशासन से टीम को सही दिशा में ले जा रहा है।” आईपीएल 2018 में किंग्स इलेवन पंजाब में वापस लौटे युवराज 11वें सीजन को लेकर उत्साहित हैं।

करन केसी, संदीप लाचिमाने की अर्धशतकीय साझेदारी की बदौलत नेपाल ने आईसीसी विश्व क्वालिफायर में जगह बनाई
करन केसी, संदीप लाचिमाने की अर्धशतकीय साझेदारी की बदौलत नेपाल ने आईसीसी विश्व क्वालिफायर में जगह बनाई

उन्होंने कहा, “मैं किसी पछतावे के साथ खेल को नहीं छोड़ना चाहता, कि मैं बाद ये सोचता रहूं कि मुझे कुछ और साल खेलना चाहिए था। मैं तब जाउंगा, जब मुझे लगेगा कि जाने का सही समय है, जब मुझे लगेगा कि मैने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर लिया है और मैं इससे बेहतर नहीं कर सकता हूं। मैं अब भी खेल रहा हूं क्योंकि मैं क्रिकेट का आनंद ले रहा हूं, इसलिए नहीं क्योंकि मुझे भारतीय टीम के लिए या आईपीएल में खेलना है। भारत के लिए खेलना मेरा लक्ष्य जरूर है। मुझे लगता है कि अभी मुझमें दो या तीन साल आईपीएल खेलना बचा है।”

भारत को 2011 विश्व कप जिताने वाले इस खिलाड़ी ने कैंसर से लड़कर एक बार फिर क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने के अपने सफर को यादगार बताया। युवराज ने कहा, “मेरा सफर अच्छा रहा। मैने मुश्किल हालातों का सामना डटकर किया। मैं उन लोगों के लिए ताकत का स्रोत बना, जो अपनी जिंदगी में कैंसर या दूसरी परेशानियों से जूझ रहे हैं। मैं ऐसे इंसान के रूप में याद किया जाना चाहता हूं, जो कभी हार नहीं मानता है। मैं भारत के लिए खेलूं या नहीं लेकिन मैं मैदान पर अपना 100 प्रतिशत दूंगा।”