10 facts about former south africa umpire rudi koertzen all you need know
क्रिकेट की दुनिया के सबसे लोकप्रिय अंपायरों में शुमार रहे साउथ अफ्रीका के रूडी कर्स्टजन की एक कार दुर्घटना में मौत हो गई। उनके साथ ही तीन बड़े लोग भी शामिल थे। एक स्थानीय अखबार ने यह जानकारी दी है। यह कार दुर्घटना मंगलवार सुबह रिवर्सडेल में हुई। जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें-

कब हुआ जन्म

रुडॉल्फ एरिक कर्स्टजन का जन्म 26 मार्च, 1949 को कनिस्ना, केप प्रांत में हुआ था।

शुरुआती जीवन

कर्स्टजन बचपन से ही क्रिकेट के दीवाने थे। साउथ अफ्रीकी रेलवे के लिए काम करते हुए उन्होंने लीग क्रिकेट खेला। और साल 1981 में वह अंपायरिंग से जुड़ गए।

अंपायरिंग डेब्यू

कर्स्टजन ने 9 दिसंबर 1992 को भारत के खिलाफ पहली बार वनडे इंटरनैशनल में अंपायरिंग की। इसके बाद  इसी महीने टेस्ट क्रिकेट में उन्हें भारत के ही खिलाफ डेब्यू किया। ये दोनों मैच पोर्ट एलिजाबेथ में खेले गए थे।

ओरिजनल एलीट पैनल अंपायर

कर्स्टजन 1997 में आईसीसी के फुल टाइम अंपायर बने थे। साल 2002 में जब पहली बार आईसीसी के एलीट अंपायर पैनल का गठन हुआ तो वह इससे ओरिजनल सदस्य थे।

लंबा करियर

कर्स्जन ने 250 वनडे इंटरनैशनल मैचों में अंपायरिंग की थी। इसमें बतौर टीवी अंपायर भी शामिल हैं। उन्होंने (250 ODI, 128 Test, 19 T20I और 1 WT20I में  अंपायरिंग की थी।

आईसीसी सुपर सीरीज में रहे मौजूद

साल 2005 में ऑस्ट्रेलिया बनाम वर्ल्ड इलेवन के बीच हुए मुकाबले में उन्हें बतौर अंपायर चुना गया था। इनके अलावा साइमन टफल, अलीम डार और डैरेल हेयर को चुना गया था।

जब फिक्सिंग का मिला ऑफऱ

कर्स्टजन को उनके प्रफेशनलिज्म के लिए सराहा जाता था। सितंबर 1999 में उन्हें वेस्टइंडीज और भारत के बीच कोका-कोला सिंगापुर चैलेंज के फाइनल के नतीजे को प्रभावित करने का ऑफर मिला था। जनवरी 2000 में वह इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका के बीच टेस्ट मैच में अंपायरिंग कर रहे थे जहां दोनों टीमों ने मैच का नतीजा निकालने के लिए एक-एक पारी को खत्म करने का फैसला किया था। इसमें साउथ अफ्रीका के अंपायर हैंसी क्रोन्ये को बुकमेकर ने अप्रोच किया था।

कब मिली पहचान

कर्स्टजन को साल 2002 में टॉप अंपायर चुना गया था। साल 2005 और 2006 में उन्हें आईसीसी अंपायर ऑफ द ईयर के अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट किया गया। लेकिन दोनों बार वह साइमन टफल और अलीम डार के बाद तीसरे नंबर पर रहे।

विवाद

कर्स्टजन के साथ कुछ विवाद भी रहे। साल 2007 के वर्ल्ड कप फाइनल में खराब रोशनी के नियमों की उन्होंने गलत व्याख्या की। इस गलती की वजह से उन्हें इसी साल हुए पहले वर्ल्ड टी20 टूर्नमेंट में अंपायरिंग से बैन कर दिया गया।

आखिरी मुकाबला

साल 2010 में उन्होंने अंपायरिंग से रिटारमेंट ले ली थी। 9 जून को श्रीलंका और जिम्बाब्वे के बीच हुआ मैच उनका आखिरी वनडे इंटरनैशनल था। और 21-24 जुलाई को पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच लीड्स में हुआ टेस्ट उनका आखिरी अंतरराष्ट्रीय मुकाबला था।