गौतम गंभीर ने दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी की है
गौतम गंभीर ने दो साल बाद टीम इंडिया में वापसी की है

गौतम गंभीर भारत के सबसे अच्छे और सफल सलामी बल्लेबाज रहे हैं। 22 की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले गौतम गंभीर ने बहुत ही कम समय में अपनी बल्लेबाजी के दम पर टीम में जगह बना ली और भारत को सहवाग के साथी के रूप में एक शानदार सलामी बल्लेबाज मिल गया।

साल 2000 में गंभीर का बल्ला अपने चरम पर था, गंभीर ने 2007 टी-20 विश्व कप और विश्व कप 2011 में टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। हालांकि 2011 के बाद गंभीर के करियर में उतार-चढ़ाव आए और इंग्लैंड दौरे के बाद गंभीर को टीम से बाहर कर दिया गया। लेकिन गौतम गंभीर ने इससे हार नहीं मानी और घरेलू मैचों और आईपीएल में अपने बल्ले से आलोचकों को जवाब देते रहे। इसी बीच गंभीर ने 2 साल बीद टीम में वापसी करने में कामयाबी पाई और तीसरे टेस्ट की दूसरी पारी में तेज तर्रार अर्धशतक भी जड़ दिया। आइए हम आपको आज गंभीर की उन बातों से रूबरू कराते हैं जो शायद ही आपने सुनी होंगी।

17. जन्म:

भारत के स्टाइलिश बल्लेबाज गौतम गंभीर का जन्म 14 अक्टूबर, 1981 को दिल्ली में हुआ था।

16. बचपन:

गौतम गंभीर अपने दादा-दादी के साथ रहते थे, गौतम गंभीर के जन्म के 18 दिन बाद ही गंभीर के दादा-दादी ने उन्हें अपने साथ रखने का फैसला किया था।

15. एनसीए में चयन:

सिर्फ 18 साल की उम्र में ही गौतम गंभीर नेशनल क्रिकेट एकेडमी में सिलेक्ट हो गए और उसके बाद गंभीर ने भारत की अंडर 19 टीम में अपनी जगह बनाई।

वनडे और टेस्ट में पदार्पण:

14. 2003 गैतम गंभीर ने बांग्लादेश के खिलाफ अपने वनडे करियर का आगाज किया और एक साल बाद 2004 में टेस्ट में भी डेब्यू कर लिया, गंभीर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट करियर का आगाज किया था।

13. विश्व टी-20 2007:

2007 टी-20 विश्व कप के फाइनल में गंभीर ने पाकिस्तान के खिलाफ 54 गेंदों में तेज तर्रार 75 रनों की पारी खेली। टी-20 विश्व कप में गंभीर भारत की तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे थे, गंभीर ने टी-20 विश्व कप में 227 रन बनाए थे। 2007 के टी-20 विश्व कप में सिर्फ मैथ्यू हेडन ही गंभीर से आगे थे।

12. गंभीर का सम्मान:

साल 2008 में भारत सरकार ने क्रिकेट में अविश्वसनीय योगदान के लिए गौतम गंभीर को सम्मानित किया। भारत सरकार ने गौतम गंभीर को अर्जुन अवॉर्ड के सम्मान के साथ सम्मानित किया।

11. नंबर एक टेस्ट बल्लेबाज:

गौतम गंभीर को टेस्ट में निरंतर अच्छी बल्लेबाजी के लिए आईसीसी की तरफ से तोहफा मिला। टेस्ट में गंभीर के लगातार अच्छे प्रदर्शन का इनाम उन्हें 2009 में आईसीसी रैंकिंग में पहले पायदान पर पहुंच कर मिला।

10. आईसीसी टेस्ट प्लेयर:

साल 2009 में ही गंभीर के लिए एक और खुशखबरी आई। लगातार अच्छा खेल रहे गौतम गंभीर ने अपने नाम एक और उपलब्धि दर्ज कर ली, जब वह आईसीसी टेस्ट प्लेयर ऑफ द इयर बने।

9. लगातार शतकों का रिकॉर्ड:

साल 2010 में गंभीर ने एक ऐसा रिकॉर्ड अपने नाम किया जो हर खिलाड़ी के लिए एक सपना होता है। 2010 में गंभीर 5 टेस्ट मैच में लगातार पांच शतक लगाने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बन गए और दुनिया के पांचवें खिलाड़ी जिन्होंने ये कारनामा किया हो। गौतम गंभीर ने लगातार पांच टेस्ट में पांच शतक लगाकर सबको अपना मुरीद बना दिया था।

8. विवियन रिचर्ड्स के रिकॉर्ड की बराबरी:

साल 2010 में ही गौतम गंभीर ने एक और रिकॉर्ड अपने नाम किया। गौतम गंभीर ने उस रिकॉर्ड के साथ ही विवियन रिचर्ड्स के रिरिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली। गौतम गंभीर ने लगातार 11 टेस्ट मैचों में 11 अर्धशतक लगाए और विवियन रिचर्ड्स के बाद ऐसा करने वाले सिर्फ दूसरे खिलाड़ी बन गए।

7. गजब की स्थिरता:

गौतम गंभीर भारत के एकमात्र बल्लेबाज हैं जिन्होंने लगातार चार टेस्ट सीरीज में 300 से ज्यादा रन बनाए हैं। गौतम गंभीर ने चार टेस्ट सीरीज में लगातार अपने बल्ले से बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए हर सीरीज में 300 से ज्यादा रन बनाए और ऐसा करने वाले वह भारत के पहले और एकमात्र बल्लेबाज हैं।

6. कप्तानी में पदार्पण:

गौतम गंभीर को साल 2010 में भारत की कप्तानी करने का मौका मिला, गंभीर ने न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम की कमान संभाली और भारत को एकतरफा अंदाज में 5-0 से जीत दिलवा दी। गंभीर की कप्तानी में टीम ने न्यूजीलैंड का सूपड़ा साफ कर दिया था। गंभीर की कप्तानी में भारत ने छह मैच खेले और सभी छह मैचों में भारत को जीत मिली।

5. विश्व कप 2011 का फाइनल:

साल 2011 के वनडे विश्व कप के फाइनल में जहां भारत की शुरुआत खराब रही थी तो एक छोर पर गंभीर टिके रहे और विकेट नहीं गिरने दिया। गंभीर ने उस मैच में 122 गेंदों पर 97 रन बनाए थे और शतक से मात्र 3 रन से चूक गए थे। गंभीर के 97 रनों की पारी की बदौलत भारत ने फाइनल में श्रीलंका को हराकर विश्व कप का खिताब अपने नाम किया था।

4. गंभीर की शादी:

बल्ले से धमाल मचाने वाले गंभीर ने साल 2011 में शादी के बंधन में बंध गए। गंभीर ने नताशा जैन से शादी कर ली। नताशा बिजनेसमैन की बेटी हैं।

3. आईपीएल में गंभीर पर पैसों की बरसात:

साल 2010 में गंभीर सबसे महंगे खिलाड़ी बन गए जब शाहरुख खान की कोलकाता नाइट राइडर्स ने गंभीर को 2.5 मिलियन डॉलर में खरीदा। कोलकाता की तरफ से खेलते हुए गंभीर ने कोलकाता को खिताब भी जितवाया।

2. आईपीएल में सफलता:

साल 2012 में गंभीर ने अपनी कप्तानी में कोलकाता को आईपीएल का खिताब दिलवा दिया, गंभीर ने शानदार कप्तानी का परिचय देते हुए शाहरुख खान की कोलकाता नाइट राइडर्स को आईपीएल का चैंपियन बनवा दिया। वहीं साल 2012 में एक बार फिर से गंभीर ने कोलकातावासियों को खुश होने का मौका दे दिया और दूसरी बार कोलकाता को आईपीएल जितवा दिया। गंभीर ने यह साबित कर दिया कि उनपर लगाई गई भारी भरकम राशि बेकार नहीं गई।

1. सलामी जोड़ी के रूप में सबसे ज्यादा रन:

गंभीर ने सहवाग के साथ मिलकर पारी की शुरुआत करते हुए 87 पारियों में 4412 रन बनाए, जो की किसी भी भारतीय सलामी जोड़ी से ज्यादा है। इस दौरान 4000 रन बनाने वाले साझेदारों में गंभीर-सहवाग का औसत 52.52 रहा जो सबसे ज्यादा है।