क्रिकेट इतिहास की पांच सबसे बेहतरीन हैट्रिक्स
फोटो साभार: www.dailymotion.com

क्रिकेट में हैट्रिक (यानि कि लगातार तीन गेंदों में तीन विकेट) लेना हर गेंदबाज का सपना होता है। क्रिकेट इतिहास में वैसे तो अब तक सैकड़ों हैट्रिक लगाई जा चुकी हैं। लेकिन कुछ हैट्रिक्स कुछ खास कारणों के कारण क्रिकेट इतिहास में छा गईं। हमने ऐसी ही चुनी हुई पांच हैट्रिक्स को संजोया है जिनका क्रिकेट इतिहास में एक खास स्थान है। 20 सितंबर 1982 यानि कि आज के ही दिन वनडे क्रिकेट में हैट्रिक पहली हैट्रिक बनी थी। ये हैट्रिक पाकिस्तान के तेज गेंदबाज है जलालउद्दीन ने हैदराबाद में बनाई थी। और इस तरह वह वनडे में हैट्रिक लेने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गए।

1. पीटर सिडल: साल 2010- 2011 को इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए पहले एशेज टेस्ट मैच के पहले दिन के अंतिम सत्र में पीटर सिडल गेंदबाजी के लिए आए। पारी के 66वें ओवर की तीसरी गेंद पर उन्होंने दूसरी स्लिप पर एलिस्टियर कुक को शेन वॉटसन के हाथों झिलवाया। उनके बाद बल्लेबाजी करने आए मैथ्यू प्रायर को उन्होंने अगली ही गेंद पर क्लीन बोल्ड कर दिया। सिडल की ये गेंद मेट प्रायर का ऑफ स्टंप ले उड़ी। लगातार दो गेंदों पर दो विकेट लेने वाले सिडल काफी उत्साह में नजर आ रहे थे।

इसी बीच बल्लेबाजी करने आए स्टुअर्ट ब्रॉड। ब्रॉड ने उनकी अगली गेंद को लेग साइड में खेलना चाहा लेकिन वह चूक गए और LBW आउट हो गए। इस तरह सिडल ने अपनी हैट्रिक पूरी कर ली। गौर करने वाली बात ये रही कि उसी दिन उनका जन्मदिन भी था और इस तरह उनकी हैट्रिक और भी मजेदार हो गई।

2. लसिथ मलिंगा:

यह बात साल 2007 विश्व कप की है। दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका के बीच मैच खेला जा रहा था। दूसरी पारी में बल्लेबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीका जीत के करीब था। लगभग यह मान लिया गया था कि दक्षिण अफ्रीका आराम से मैच जीत जाएगा। दक्षिण अफ्रीका को बाकी बचे 5 ओवरों में 4 रन चाहिए थे व 5 विकेट शेष थे लेकिन अगले ही ओवर में मलिंगा ने जो कारनामा किया उसने साउथ अफ्रीका को पूरी तरह हिलाकर रख दिया।

मलिंगा का विकेट लेने का सिलसिला 45वें ओवर की पांचवीं गेंद से शुरू हुआ और 46.2 ओवर तक आते आते मलिंगा दक्षिण अफ्रीका के 9 खिलाड़ियों को पवेलियन का रास्ता दिखा चुका था। यह पहली बार हुआ कि किसी गेंदबाज ने चार गेंदों में चार विकेट लिए हों।

मलिंगा ने हैट्रिक लगाते हुए चार गेंदों में चार विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों की कमर तोड़ दी। भले ही बाद में दक्षिण अफ्रीका ने इस मैच को 1 विकेट से जीत लिया, लेकिन ये जीत उन्हें रास तो कतई नहीं आई और ये विश्व कप मलिंगा की दहाड़ से रोचक हो गया।

3. इरफान पठान की हैट्रिक: भारत की ओर टेस्ट क्रिकेट में दूसरी हैट-ट्रिक लगाने का श्रेय भारत के इरफान पठान को प्राप्त हुआ। पठान ने यह कारनामा पाकिस्तान के खिलाफ 2006 में कराची में खेले गए टेस्ट मैच में किया था। साथ ही यह भी दिलचस्प बात रही कि यह कारनामा मैच के पहले ओवर की चौथी, पांचवी और छठी गेंद पर हुआ। इरफान ने अपना पहला शिकार सलमान बट को स्लिप में द्रविड़ के हाथों झिलवाकर, दूसरा शिकार युनिस खान को पगबाधा आउट करके व तीसरा शिकार मोहम्मद युसुफ को क्लीन बोल्ड करके प अपनी हैट-ट्रिक पूरी की। हालांकि इरफान की यह हैट-ट्रिक भारतीय टीम के काम नहीं आई औऔर अंततः भारती टीम को मैच में 341 रनों की करारी शिकस्त झेलनी पड़ी।

4. एंड्रयु फ्लिंटॉफ की हैट्रिक:इंग्लैंड के बेहतरीन गेंदबाजों में से एक एंड्रयु फ्लिंटॉफ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ हैट्रिक एक ऐसे समय में लगाई थी जब मैच किसी भी तरफ करवट ले सकता था। वेस्टइंडीज को जीतने के लिए 16 गेंदों में 33 रनों की दरकार थी और उनके चार विकेट शेष थे। गेंदबाजी कर रहे थे फ्लिंटॉफ।

वह ओवर में पहले ही चौका खा चुके थे। ऐसे में जब वह तीसरी गेंद लेकर आए तो बहुत संभलकर गेंद डाली और उन्होंने बल्लेबाज को क्लीन बोल्ड कर दिया। इसके बाद उन्होंने अगली दो गेंदों पर भी दो विकेट ले डाले और वेस्टइंडीज को हथियार डालने पर मजबूर कर दिया। अंततः वेस्टइंडीज ये मैच 26 रनों से हार गई फ्लिंटॉफ की हैट्रिक कारगर साबित हुई।

5. थिसारा परेरा की हैट्रिक: कोलंबो में पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच खेले जा रहे वनडे मैच में पाकिस्तान को 59 गेंदों में 68 रनों की जरूरत थी और उनके हाथ में अभी 5 विकेट शेष थे। ऐसे में लग रहा था कि पाकिस्तान आसानी से मैच जीत जाएगा। लेकिन समय को कुछ और ही मंजूर था। 41वें ओवर की दूसरी गेंद पर थिसारा परेरा ने युनिस खान को विकटों से पीछे झिलवाते हुए पाकिस्तान का छठवां विकेट गिरा दिया।

उनके बाद बल्लेबाजी करने आए शाहिद अफरीदी ने अगली ही गेंद पर कवर्स में दिनेश चंडीमल को एक आसान सा कैच थमा दिया। इससे पहले कि पाकिस्तानी पारी संभलती अगले बल्लेबाज सरफराज अहमद को जयवर्धने के हाथों झिलवाते हुए परेरा अपनी हैट्रिक पूरी की। इस हैट्रिक से पाकिस्तान अंत तक नहीं उबर पाया और 199 रनों पर ऑळआउट हो गया। श्रीलंका ने ये मैच 44 रनों से जीत लिया।