भारतीय टीम के 5 सबसे ज्यादा रन लुटाने वाले गेंदबाज
फोटो साभार: archive.indianexpress.com

भारतीय गेंदबाजी को भारतीय क्रिकेट टीम की हमेशा ही कमजोर कड़ी माना गया है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण गेंदबाजी में रफ्तार की कमी का होना है। भारतीय गेंदबाज हमेशा से ही बल्लेबाजी को मदद देने वाली पिचों में अपने आपको असहाय महसूस करते हैं। आपको यह जानकर हैरत होगी कि वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन लुटाने वाले टॉप 10 गेंदबाजों की सूची में भारत के दो गेंदबाज शमिल हैं। तो आइए नजर डालते हैं ऐसे ही पांच भारतीय गेंदबाजों पर जिन्होंने सबसे ज्यादा रन लुटाए।

1. भुवनेश्वर कुमार:

फोटो साभार: archive.indianexpress.com
फोटो साभार: archive.indianexpress.com

भारत के भुवनेश्वर कुमार वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन लुटाने वाले भारत के पहले व विश्व के दूसरे गेंदबाज हैं। भवनेश्वर ने 25 अक्टूबर 2015 को दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध खेले गए मैच में अपने 10 ओवर के कोटे में 10.6 के इकॉनमी रेट से 106 रन लुटा दिए थे। भुवनेश्वर को इस दौरान डीविलियर्स और डुप्लेसी ने लगातार बाउंड्री लगाकर हलाकान कर दिया था।

भुवनेश्वर की खराब गेंदबाजी का ही असर था कि दक्षिण अफ्रीका ने भारी-भरकम 438 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया था। रन लुटाने के मामले में अनचाहे नंबर दो स्थान पर काबिज हो चुके भुवनेश्वर के आगे सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के मिक लुईस हैं। मिक लुईस ने 2006 में दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध खेले गए एक बड़े मुकाबले में 10 ओवरों में अकेले 113 रन लुटाए थे। लुईस उस मैच के बाद ऑस्ट्रेलिया के लिए फिर कभी खेलते नजर नहीं आए।

2. विनय कुमार:

फोटो साभार: www.zimbio.com
फोटो साभार: www.zimbio.com

आईपीएल में अपनी गेंदों से कमाल दिखाने वाले मध्यम तेज गति के गेंदबाज विनय कुमार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कुछ ज्यादा रास नहीं आया। ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध नवंबर 2013 में खेला गया मैच उनके लिए एक बुरा सपने जैसा रहा और वह मैच में खासे महंगे साबित हुए। इस मैच में भारत ने रोहित शर्मा के दोहरे शतक की मदद से 383 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया था।

लेकिन ऑस्ट्रेलिया के फॉकनर और मैक्सवेल ने भारतीय गेंदबाजों की खूब धुनाई की और टीम के स्कोर को 326 रनों तक ले गए। इस मैच में सबसे महंगे विनय कुमार साबित हुए और उन्होंने 9 ओवरों में 11.33 की इकॉनमी रेट से 102 रन लुटा दिए। हालांकि भारत के अन्य गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन ने विनय कुमार के खराब प्रदर्शन को संभाल लिया और भारत अंततः 57 रनों से मैच जीतने में कामयाब रहा।

विनय कुमार भारत की ओर से सर्वाधिक रन लुटाने वाले गेंदबाजों की सूची में दूसरे स्थान पर हैं। साथ ही विश्व के वे सबसे ज्यादा रन लुटाने वाले सातवें गेंदबाज हैं। इस मैच के बाद से विनय कुमार अभी तक टीम में वापसी नहीं कर पाए हैं।

3. जहीर खान:

फोटो साभार: www.pagalparrot.com
फोटो साभार: www.pagalparrot.com

भारत के बेहतरीन गेंदबाजों में से एक रहे जहीर खान भी एक बार बल्लेबाजों के कहर का शिकार बन चुके हैं और उन्होंने मैच में 10 ओवरों में 88 रन लुटा दिए थे। सन् 2009 में भारत और श्रीलंका के बीच राजकोट में खेले गए मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सहवाग के धुआंधार शतक व सचिन-धोनी के अर्धशतकों की बदौलत 414 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया।

लेकिन जवाब में श्रीलंका के बल्लेबाजों ने कातिलाना बल्लेबाजी का प्रदर्शन किया और मैच को अंतिम छड़ तक लड़ाया। श्रीलंका के तिलकरत्ने दिलशान और कुमार संगकारा ने भारतीय गेंदबाजों की खूब खबर ली। इस बीच जहीर खान को उन्होंने जमकर निशाना बनाया। फलस्वरूप जहीर अपने करियर में पहली बार बेहद महंगे साबित हुए और उन्होंने 10 ओवरों में बिना कोई विकेट लिए 88 रन दे डाले। यह हाईस्कोरिंग मैच आखिरकार भारत 3 रनों से जीतने में कामयाब रहा।

4. जवागल श्रीनाथ:

फोटो साभार: www.alloutcricket.com
फोटो साभार: www.alloutcricket.com

भारत के बेहतरीन गेंदबाजों में से एक रहे जवागल श्रीनाथ का फेयरवेल मैच उनके लिए एक बुरे सपने से कम नहीं रहा। विश्व कप 2003 का फाइनल मैच श्रीनाथ के क्रिकेट जीवन का अंतिम मैच था। श्रीनाथ ने इस मैच में अपने 10 ओवरों के कोटे में 87 रन लुटा दिए। उस मैच में अन्य भारतीय गेंदबाज भी बेहद महंगे साबित हुए और हरभजन के अलावा कोई भी भारतीय गेंदबाज विकेट लेने में कामयाब नहीं हुआ। ऑस्ट्रेलिया ने 50 ओवरों में 359/2 का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया औरर भारत इस मैच को 125 रनों से हार गया।

5. टी. कुमारन: टी. कुमारन भारतीय टीम में नए-नए आए थे। सन् 2000 में भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए मैच ने उनके क्रिकेट करियर पर फुल स्टॉप लगा दिया जब उन्होंने अपने 10 ओवरों के कोटे में 86 रन लुटा दिए। टी कुमारन को मोहम्मद युसुफ ने जमकर निशाना बनाया और शानदार शतक लगाया। टी. कुमारन की खराब गेंदबाजी का ही यह नतीजा था कि पाकिस्तान ने 295 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया और भारत मैच 44 रनों से हार गया। इसके बाद से टी. कुमारन को भारतीय टीम में फिर कभी भी जगह नहीं मिली।