Asia cup 2018: Mashrafe Mortaza match changing catch of shoaib malik
Mashrafe Mortaza's catch of shoaib malik

बांग्लादेश ने एशिया के सेमीफाइनल माने जा रहे सुपर फोर के आखिरी मुकाबले में पाकिस्तान को 37 रन से हराकर फाइनल में जगह पक्की कर ली। बांग्लादेश के कप्तान मशरफे मुर्तजा का कैच मैच का टर्निंग प्वाइंट बन गया। शोएब मलिक को आउट करने के लिए मुर्तजा ने हवा में छलांग लगाकर शानदार कैच लपका और मैच भी झोली में डाल लिया।

एशिया कप के आखिरी सुपर फोर मुकाबले में बांग्लादेश के कप्तान मशरफे मुर्तजा ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया। टीम की शुरुआत बेहद खराब रही और 12 रन के स्कोर पर ही तीन विकेट गिर गए। मुशफिकुर रहीम ने मोहम्मद मिथुन के साथ मिलकर शानदार साझेदारी की और टीम के स्कोर को 239 के सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। रहीम एक रन से शतक बनाने से चूक गए।

37 रन से जीता बांग्लादेश

240 रन का पीछा करने उतरे पाकिस्तान की बल्लेबाजी एक बार फिर से नाकाम साबित हुई। 50 ओवर में पाकिस्तान की टीम 9 विकेट पर 202 रन ही बना सकी। बांग्लादेश ने 37 रन से मैच जीता और शान से लगातार दूसरी बार एशिया कप फाइनल में जगह बना ली।

मुर्तजा के कैच ने बदला मैच

बांग्लादेश के कप्तान मशरफे मुर्तजा ने पाकिस्तान के सबसे अनुभवी बल्लेबाज शोएब मलिक का शानदार कैच लकपकर मैच बदल दिया। इमाम उल हक और शोएब मलिक बांग्लादेश के लिए मुसीबत बनते जा रहे थे। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 67 रन जोड़ लिए थे तभी मुर्तजा ने हवा में उड़ते हुए असाधारण कैच पकड़ मलिक को पवेलियन का रास्ता दिखा दिया।

खुशकिस्मत हूं मलिक का कैच नहीं छोड़ा

इस शानदार कैच के बाद हर तरफ सन्नाटा छा गया था। पाकिस्तानी फैंस को इस विकेट का महत्व पता था तभी सभी चेहरे उतर गए। तेज गेंदबाज रुबेल हुसैन की गेंद पर लगभग हवा में तैरते हुए मलिक का कैच हर किसी को हैरान कर गया। मुर्तजा को उनकी गेंदबाजी और कप्तानी के लिए जाना जाता है लेकिन फील्डर वो औसत हैं। कैच पर मुर्तजा ने कहा, ‘खुशकिस्मत हूं कि मैंने उस कैच नहीं छोड़ा, मलिक टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं और वो फॉर्म में हैं।’