ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड © Getty Images
ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड © Getty Images

आज न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच चैंपियंस ट्रॉफी का पहला मुकाबला एजबेस्टन, बर्मिंघम में खेला जाएगा। पिछली बार इन दोनों टीमों के बीच जब मुकाबला हुआ था तब न्यूजीलैंड ने ऑस्ट्रेलिया को अपनी सरजमीं पर 2-0 से हराया था। चूंकि, इंग्लैंड की परिस्थितियां न्यूजीलैंड से काफी भिन्न हैं। ऐसे में यहां दोनों टीमों के बीच दिलचस्प मुकाबला होने की उम्मीद है। जाहिर है कि न्यूजीलैंड अपने चिरप्रतिद्वंदी को हर हाल में करारी चुनौती देना चाहेगी। चैंपियंस ट्रॉफी में कम मैच खेले जाते हैं। ऐसे में जो भी टीम अपना पहला मैच हारती है उसपर भारी दबाव आ जाएगा। ऐसे में दोनों ही टीमें इस दबाव को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहेंगी। वैसे न्यूजीलैंड ने हाल फिलहाल में आयरलैंड में कुछ वनडे मैच खेले हैं। वहीं, ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी लंबे समय के बाद वनडे क्रिकेट खेलते नजर आएंगे। ऐसे में जान लेते हैं उन खिलाड़ियों के बारे में जो अपनी- अपनी टीमों के लिए मैच में बड़ा फर्क पैदा कर सकते हैं।

ऑस्ट्रेलिया-

डेविड वॉर्नर: डेविड वॉर्नर आजकल जबरदस्त फॉर्म में चल रहे हैं। वॉर्नर ने आईपीएल 2017 में रनों का अंबार लगा दिया था। उन्होंने टूर्नामेंट में 641 रन बनाए और औरेंज कैप के विजेता रहे। इसके पहले वनडे क्रिकेट में भी वॉर्नर ने धमाल मचाया था। इस साल जनवरी में पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में वॉर्नर पूरे रंग में नजर आए थे और उन्होंने दो शतकों के सहारे पांच मैचों में 367 रन ठोंक दिए थे। ये दोनों शतक टूर्नामेंट के आखिरी दोनों मैचों में आए थे। वहीं वॉर्नर का न्यूजीलैंड के खिलाफ रिकॉर्ड भी काफी बढ़िया रहा है। वह अब तक न्यूजीलैंड के खिलाफ 10 मैचों में 51.30 की औसत से 513 रन बना चुके हैं। जिसमें दो शतक और एक अर्धशतक शामिल है। इसके अलावा वॉर्नर न्यूजीलैंड के खिलाफ छक्के भी खूब मारते हैं। उनके नाम कुल 10 छक्के हैं।

स्टीवन स्मिथ: स्टीवन स्मिथ भी आईपीएल में खासे रंग में नजर आए थे। उन्होंने 15 मैचों में 39.33 की बढ़िया औसत के साथ 472 रन बनाए। उनकी बल्लेबाजी ने ही पुणे टीम को फाइनल में पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। वैसे स्मिथ टी20 क्रिकेट से ज्यादा वनडे के माहिर बल्लेबाज हैं। यह उनका रिकॉर्ड खुद बयां करता है। 2017 में स्मिथ ने वनडे क्रिकेट में भी खूब कमाल किया है। उन्होंने 5 मैचों में 55.25 की औसत से 221 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 1 शतक और एक अर्धशतक लगाया। इसके अलावा स्मिथ का न्यूजीलैंड के खिलाफ भी प्रदर्शन बेहतरीन रहा है। वह अब तक 9 मैचों की 8 पारियों में 48.14 की औसत से 337 रन बना चुके हैं जिसमें एक शतक और दो अर्धशतक शामिल हैं। पिछली तीन पारियों में न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने एक शतक और एक अर्धशतक लगाया है।

मिचेल स्टार्क: मिचेल स्टार्क भले ही चोट के कारण पिछले लंबे समय से बाहर रहे हों। लेकिन वह किस स्तर के खिलाड़ी हैं, पूरी दुनिया इस बात को जानती है। साल 2015 विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया की जीत में स्टार्क ने महती भूमिका निभाई थी। स्टार्क ने साल 2017 में 6 मैचो में 13 विकेट लिए हैं। जो गजब है। न्यूजीलैंड के खिलाफ तो स्टार्क काल बन जाते हैं। उन्होंने 7 मैचों में 18 विकेट झटके हैं। 2015 विश्व कप में स्टार्क ने ही न्यूजीलैंड के खिताब जीतने के सपने पर पानी फेर दिया था। इस बार भी उनकी नजरें यही कुछ करने पर होंगी।

न्यूजीलैंड-

केन विलियमसन: न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन को भले ही आईपीएल 2017 में ज्यादा मैच खेलने के मौके न मिले हों। लेकिन जितने भी मौके उन्हें मिले उन्होंने उन्हें जमकर भुनाया। उन्होंने 7 मैचों में एक बार नॉट आउट रहते हुए 42.66 की औसत से 256 रन बनाए जिसमें दो अर्धशतक शामिल थे। जाहिर है कि विलियमसन इस रिकॉर्ड को बरकरार रखना चाहेंगे। वैसे भारत के खिलाफ वनडे सीरीज में विलियमसन खासे असहज नजर आए थे। वह उस सीरीज को काफी पहले पीछे छोड़ चुके हैं। चैंपियंस ट्रॉफी के साथ उनकी नजरें बढ़िया शुरुआत करने पर होंगी।

मार्टिन गप्टिल: आईपीएल में पहले ही अपनी फॉर्म का शानदार सुबूत पेश करने के बाद गप्टिल ने श्रीलंका के खिलाफ वॉर्म अप मैच में 116 रनों की पारी खेली जो बताता है कि वह खासे फॉर्म में हैं। जाहिर है कि उनकी बैटिंग इस मैच में अच्छा- खासा अंतर पैदा कर सकती है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गप्टिल का प्रदर्शन भी ठीक रहा है। उन्होंने 22 मैचों में 35.19 की औसत से 739 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने एक शतक और चार अर्धशतक लगाए हैं। कहने का मतलब ये है कि अगर उनका दिन हुआ तो वह किसी पर भी भारी पड़ सकते हैं।

मिचेल मैकलेनिघन: मिचेल मैकलेनिघन पिछले कुछ समय से एक बेहतरीन गेंदबाज के रूप में उभरे हैं। आईपीएल 2017 में मुंबई इंडियंस की ओर से खेलते हुए उन्होंने 19 विकेट निकाले। वहीं, वनडे क्रिकेट में मैकलेनिघन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अबतक एक ही मैच खेले हैं। इस दौरान उन्होंने 65 रन देकर चार विकेट झटके थे। जाहिर है कि वह वैसा ही प्रदर्शन करने के लिए फिर से आतुर होंगे। वैसे जिस तरह से वह गेंदों को जमीन में पटकते हैं उसे देखते हुए उन्हें खेलना कतई आसान नहीं होने वाला।