बांग्लादेश बनाम ऑस्ट्रेलिया  © Getty Images
बांग्लादेश बनाम ऑस्ट्रेलिया © Getty Images

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए अब जंग तेज हो गई है। आज जब बांग्लादेश और ऑस्ट्रेलिया एक दूसरे के खिलाफ केनिंटन ओवल में उतरेंगे तो उनका उद्देश्य मैच में जीत दर्ज करते हुए सेमीफाइनल के लिए अपने मौके और मजबूत करने का होगा। दोनों ही टीमों के पहले मैच उनकी योजना के आधार पर नहीं गए। बांग्लादेश को जहां इंग्लैंड के हाथों हार झेलनी पड़ी। वहीं, ऑस्ट्रेलिया का पहला मैच बारिश से धुल गया। ऑस्ट्रेलिया के लिए यह राहत की बात जरूर है कि उसके पास एक अंक है।

बांग्लादेश को अगर वापसी करनी है तो उन्हें तेज तर्रार अंदाज में बल्लेबाजी करनी होगी, गेंदबाजी बेहतर करनी होगी और उन्हें अंतिम एकादश का चुनाव पिछले मैच से बेहतर और संतुलित करना होगा। तभी बात बन पाएगी। पिछले मैच में तमीम इकबाल ने शानदार शतक लगाते हुए मुशिफिकुर रहीम के साथ अच्छी साझेदारी निभाई थी। लेकिन सौम्य सरकार, इमरुल काएस व अन्य बल्लेबाज कुछ खास नहीं कर सके। लेकिन इसके पहले कि बात उनके हाथ से निकल जाए उनका उद्देश्य इस मैच में जीत हर हाल में दर्ज करने पर होगा। [ये भी पढ़ें: मैं बहुत महंगा हूं, बतौर कोच मुझे भारत ‘वहन’ नहीं कर सकता: वॉर्न]

वहीं दूसरी ओर ऑस्ट्रेलिया को अपने गेंदबाजी आक्रमण के साथ निरंतरता लानी होगी। न्यूजीलैंड के खिलाफ उनके गेंदबाज खासे महंगे साबित हुए थे। हालांकि, जोश हेजलवुड ने मध्यक्रम और निचले क्रम को खासा परेशान किया था और कुल 6 विकेट झटके। इस दौरान उन्होंने जबरदस्त गेंदबाजी की और अंतिम 7 विकेट 37 रन पर झटके। इसका मतलब ये नहीं कि बाकी गेंदबाजी क्रम पूरी तरह से बेरंग रहा, बल्कि न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने हर मौके को भुनाया।

बांग्लादेश के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया टीम में एडम जंपा को शामिल कर सकती है। वह साल 2016 में ऑस्ट्रेलिया की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे थे। जैसा कि मैच उस पिच में खेला जाएगा जो पहले से ही इस्तेमाल हो चुकी है तो वह खासे कारगर साबित हो सकते हैं। जंपा बीच के ओवरों में खासे असरकारी साबित होते हैं। ऐसे में वह बांग्लादेश के शीर्ष और मध्यक्रम के लिए बड़ा खतरा बन सकते हैं।

ऑस्ट्रेलिया टीम डेविड वॉर्नर से मिस्ताफिजुर रहमान के बारे में टिप्स लेना चाहेगा। गौर करें कि डेविड वॉर्नर आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद टीम के कप्तान हैं और इसी टीम की ओर से मिस्ताफिजुर भी खेलते हैं। वैसे ओवल की पिच में ज्यादा खुरदरापन नहीं है, ऐसे में वह मुस्ताफिजुर के लाभ में नहीं होगी। यही बात शाकिब अल हसन और अन्य बांग्लादेशी स्पिनरों के लिए कहा जा सकता है। इस मैच में भी शायद ही क्रिस लिन खेलें। ट्रेविस हेड एक बार फिर से अपनी जगह लेने को तैयार होंगे। बांग्लादेश अपनी टीम में एक अतिरिक्त गेंदबाज जोड़ने के बारे में सोच सकता है। ऐसे में इमरुल काएस को टीम बाहर निकाला जा सकता है।

पिछले मैच में मुशिफिकुर रहीम ने 72 गेंदों में 79 रन ठोके थे। लेकिन वह मैच के एक महत्वपूर्ण समय के दौरान आउट हो गए। इस तरह से इस मैच में भी इस अनुभवी बल्लेबाज से काफी अपेक्षाएं की जा रही होंगी। ऐसे में वह ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों पर कैसे टूटते हैं ये देखना दिलचस्प होगा।

इस समय जोश हेजलवुड अच्छे खासे फॉर्म में चल रहे हैं। उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ 6 विकेट लेते हुए उनके मध्यक्रम की जड़ें हिला दी थीं। ऐसे में बाकी ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी आक्रमण भी उनसे प्रेरणा लेते हुए अच्छी फॉर्म की पटरी पर लौटना चाहेगा।

ऑस्ट्रेलिया की संभावित प्लेइंग इलेवन: डेविड वॉर्नर, एरन फिंच, स्टीवन स्मिथ (कप्तान), मोइसेस हेनरिक्स, ग्लेन मैक्सवेल, ट्रैविस हेड, मैथ्यू वेड (विकेटकीपर), मिचेल स्टार्क, एडम जंपा, पैट कमिंस, जोश हेजलेवुड।

बांग्लादेश की संभावित प्लेइंग इलेवन: तमीम इकबाल, सौम्य सरकार, इमरुल कायेस/सब्बीर रहमान, मुशफिकर रहीम (विकेटकीपर), महमदुल्लाह, शाकिब अल हसन, मोसद्दीक हुसैन, मेहेंदी हसन, मशरफे मुर्तजा (कप्तान), रुबेल हुसैन, मुस्ताफिजुर रहमान।

क्या कहते हैं आंकड़े: ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश एक- दूसरे से वनडे में अप्रैल 2011 के बाद नहीं भिड़े हैं। साल 2015 में दोनों की विश्व कप वाला मैच पानी के कारण धुल गया था। साल 2012 चैंपियंस ट्रॉफी में ऑस्ट्रेलिया को श्रीलंका के खिलाफ 20 रनों से हारकर बाहर हो जाना पड़ा था।