विश्व कप फाइनल में शतक बनाने वाले बल्लेबाज
फोटो साभार: sportsmirchi.com

विश्व कप क्रिकेट का सबसे बड़ा मंच है, यहां शतक बनाना हर बल्लेबाज का सपना होता है और अगर कोई बल्लेबाज विश्व कप फाइनल में शतक बना दे तो क्या कहना। सचिन तेंदुलकर के नाम विश्व कप में 6 शतक हैं, लेकिन सचिन विश्व कप के सबसे बड़े मुकाबले फाइनल में एक भी शतक नहीं पाए। विश्व कप के सबसे बड़े मुकाबले में अब तक कुल 6 बल्लेबाजों ने शतक जमाने का कारनामा अंजाम दिया है। तो आइए जानते हैं इन बल्लेबाजों के बारे में जिन्होंने क्रिकेट के सबसे बड़े मुकाबले में शतक बनाने का गौरव पाया।

1. क्लाइव लॉयड( 102 बनाम ऑस्ट्रेलिया, विश्व कप 1975):

Batsman who has scored Centuries in Cricket World Cup Final since 1975
फोटो साभार: sportskeeda.com
क्रिकेट विश्व कप के पहले फाइनल में ही वेस्टइंडीज के कप्तान क्लाइव लॉयड ने शतक बनाकर विश्व कप फाइनल में शतक बनाने का सिलसिला शुरू कर दिया था। ऑस्ट्रेलिया के साथ हुए फाइनल मुकाबले में क्लाइव लॉयड ने कप्तानी पारी खेलते हुए आक्रामक अंदाज में शतक जमाते हुए 102 रनों की पारी खेली। लॉयड की इस पारी की बदौलत वेस्टइंडीज ने ऑस्ट्रेलिया को 17 रनों से मात देकर पहले विश्व कप खिताब पर कब्जा जमाया।

2. विव रिचर्ड्स( 138* बनाम इंग्लैंड, विश्व कप 1979):

Batsman who has scored Centuries in Cricket World Cup Final since 1975
फोटो साभार: PA Photos
क्रिकेट के दूसरे महाकुंभ में भी वेस्टइंडीज के ही एक और बल्लेबाज ने शतक बनाने का कारनामा अंजाम दिया। वेस्टइंडीज के मध्यक्रम के बल्लेबाज विव रिचर्ड्स ने इंग्लैंड के खिलाफ हुए फाइनल मुकाबले में नाबाद 138 रनों की पारी खेल कर टीम का स्कोर 286 पहुंचा दिया। 287 रनों के विशाल लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम मात्र 194 रनों पर सिमट गई और वेस्टइंडीज को 92 रनों की बड़ी जीत मिली। विव रिचर्ड्स को उनकी शानदार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। [इसे भी पढ़ें– ]

3. अरविंद डीसिल्वा( 107* बनाम ऑस्ट्रेलिया, विश्व कप 1996):

Batsman who has scored Centuries in Cricket World Cup Final since 1975
फोटो साभार: sportsmirchi.com
1979 विश्व कप फाइनल के बाद अगले तीन विश्व कप फाइनल में कोई भी बल्लेबाज शतक नहीं जमा पाया। ये सिलसिला तोड़ा श्रीलंका के मिस्टर भरोसेमंद अरविंदा डीसिल्वा ने। अरविंद डीसिल्वा ने 1996 विश्व कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लक्ष्य का पीछा करते हुए नाबाद 107 रनों की पारी खेल कर टीम को पहली बार विश्व विजेता बनाया। शतक बनाने के अलावा डीसिल्वा ने पहली पारी में 3 कंगारू बल्लेबाजों को पवेलियन की राह भी दिखाई। उनके इस हरफनमौला प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजा गया।

4. रिकी पोंटिंग( 140* बनाम भारत, विश्व कप 2003):

Batsman who has scored Centuries in Cricket World Cup Final since 1975
फोटो साभार: Getty Images
विश्व कप 2003 में रिकी पोंटिंग ने शतक जमाकर करोड़ों भारतीय फैंस का दिल तोड़ दिया। भारत के खिलाफ हुए फाइनल मुकाबले में रिकी पोंटिंग ने नाबाद 140 रनों की पारी खेल कर भारत के सामने 360 रनों का लक्ष्य रखा। रिकी पोंटिंग ने इस मैच में धीमी शुरूआत करने के बाद आक्रामक रूख अपनाया। एक बार उन्होंने चौके छक्के लगाने का सिलसिला शुरू किया वो 50 ओवर के बाद ही रूका। रिकी पोंटिंग को इस पारी के लिए मैन ऑफ द मैच खिताब दिया गया।

5. एडम गिलक्रिस्ट( 149 बनाम ऑस्ट्रेलिया, विश्व कप 2007):

Batsman who has scored Centuries in Cricket World Cup Final since 1975
फोटो साभार: sportsmirchi.com
पूरी सीरिज में बल्ले से संघर्ष कर रहे विस्फोटक बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने फाइनल मुकाबले में अपने बल्ले की ताकत दिखाई। एडम गिलक्रिस्ट ने श्रीलंका के खिलाफ हुए फाइनल मुकाबले में 149 रनों की पारी खेल कर श्रीलंकाई टीम के हौसले पस्त कर दिये। अपनी इस पारी में गिलक्रिस्ट ने 13 चौके और 8 छक्के लगाए। गिलक्रिस्ट के यह स्कोर विश्व कप फाइनल में बनाया गया सबसे बड़ा स्कोर है।

6. महेला जयवर्धने( 103* बनाम भारत, विश्व कप 2011):

Batsman who has scored Centuries in Cricket World Cup Final since 1975
फोटो साभार: sportsmirchi.com
श्रीलंकाई टीम 2011 में एक बार फिर फाइनल में पहुंची और इस बार सामने थी भारतीय टीम। श्रीलंकाई टीम की शुरूआत अच्छी नहीं रही लेकिन श्रीलंका के मध्यक्रम के बल्लेबाज महेला जयवर्धने ने 103 रनों की शतकीय पारी खेल कर टीम को अच्छी स्थिति में पहुंचाया लेकिन उनका यह प्रयास नाकाफी रहा और श्रीलंका को हार का सामना करना पड़ा। भारत ने गौतम गंभीर और महेन्द्र सिंह धोनी की शानदार पारियों की बदौलत टीम लक्ष्य को आसानी से हासिल कर लिया। यह विश्व कप फाइनल इतिहास में पहला मौका था जब शतक बनाने के बावजूद कोई टीम हार गई थी