Birthday Special: BS chandrashekhar stars as India registered first win in England’s soil
BS chandrashekhar @ Twitter

भारत ने 1932 में इंग्‍लैंड के खिलाफ (India vs England) अपना पहला टेस्‍ट मैच खेला था। इंग्‍लैंड की धरती पर जाकर अपनी पहली टेस्‍ट जीत दर्ज करने में भारतीय टीम को करीब 40 साल का वक्‍त लगा। साल था 1971 अजीत वाडेकर की कप्‍तानी वाली भारतीय टीम इंग्‍लैंड क्रिकेट खेलने गई। स्पिनर बीएस चंद्रशेखर (BS chandrashekhar) ने पहली पारी में दो और दूसरी पारी में छह विकेट निकाल हारी हुई बाजी को जीत में बदल दिया और इस तरह भारत ने अंग्रेजों को पहली बार उन्‍हीं की धरती पर हराया।

‘मैंने सचिन को 190 पर ही आउट कर दिया था, अंपायर ने फैन्‍स के डर से आउट नहीं दिया’

चंद्रशेखर पोलियो की बीमारी से थे ग्रसित

आज बीएस चंद्रशेखर (BS chandrashekhar) का 75वां जन्‍मदिन है। भारत के लिए 58 टेस्‍ट मैचों में 29.74 की औसत से 242 विकेट लेने वाले चंद्रशेखर इस जीत के साथ ही उस दौर में टीम इंडिया के नायक बनकर उभरे। बताया जाता है कि बीएस चंद्रशेखर बचपन से ही पोलियों की बीमारी से ग्रस्‍त थे। चंद्रशेखर ने अपने करियर में 16 बार पांच विकेट हॉल लिया। वहीं, दो बार वो एक मैच में 10 विकेट निकाल पाने में भी सफल रहे।

BS chandrashekhar Bishan Singh Bedi Twitter
BS chandrashekhar with Bishan Singh Bedi @ Twitter

स्पिन चौकड़ी का थे हिस्‍सा

70 के दशक में भारत की स्पिन चौकड़ी फैन्‍स के बीच काफी मशहूर थी। इस चौकड़ी में बीएस चंद्रशेखर के अलावा ईरापली प्रसन्‍ना, बिशन सिंह बेदी औरऔर एस वेंकटराघवन शामिल थे।

गावस्कर की सर्वकालिक टेस्ट XI टीम में द्रविड़ और कुंबले को जगह नहीं, सहवाग बने ओपनर

मैच जीता, लेकिन 1-3 से गंवाई सीरीज

इंग्‍लैंड दौर पर छह मैचों की टेस्‍ट सीरीज के पहले दो मुकाबले ड्रॉ पर खत्‍म हुए। ओवल में खेले गए तीसरे मैच की पहली पारी में इंग्‍लैंड दौरा बनाए गए 355 रन के सामने भारतीय टीम 284 रन पर ही ऑलआउट हो गई थी। इंग्लिश टीम को पहली पारी के आधार पर 71 रन की बढ़ मिली।

चंद्रशेखर ने दूसरी पारी में गेंदबाजी के दौरान अपने 18 ओवरों में 38 रन देकर छह विकेट झटक लिए। जिसे इंग्लैंड की टीम 101 रन पर ही ऑलआउट हो गई। भारत ने इस मैच में चार विकेट से जीत दर्ज की। हालांकि इसके बाद खेले गए बाकी तीन मैच जीतकर इंग्‍लैंड ने सीरीज अपने नाम की।