जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम को बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में 218 रन की बड़ी हार झेलनी पड़ी। इस मुकाबले में जिम्बाब्वे की तरफ से अनुभवी बल्लेबाज ब्रेंडन टेलर ने दोनों पारी में शतक बनाया। बांग्लादेश के खिलाफ दो बार ऐसा करने वाले टेलर जिम्बाब्वे के पहले बल्लेबाज बन गए हैं।

बांग्लादेश के खिलाफ दो मैचों की सीरीज में पहला मुकाबला हारने के बाद मेजबान ने जोरदार वापसी करते हुए शानदार जीत दर्ज की। पांचवें दिन जिम्बाब्वे की टीम को 224 रन पर ऑलआउट कर बांग्लादेश ने 218 रन से जीत दर्ज की। इसी के साथ दो मैचों की सीरीज को बांग्लादेश ने 1-1 से बराबर कर लिया।

पहली पारी में बांग्लादेश ने मुशफिकुर रहीम के दोहरा शतक की बदौलत टीम ने 522 रन का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा कर पारी घोषित की। जवाब में जिम्बाब्वे की तरफ से ब्रेंडन टेलर ने 110 रन की पारी खेल अकेले संघर्ष किया। दूसरी पारी में टेलर 106 रन बनाकर नाबाद रहे।

टेलर जिम्बाब्वे के पहले बल्लेबाज

जिम्बाब्वे क्रिकेट में चार बार ऐसे मौके आए जब किसी टेस्ट की दोनों पारी में बल्लेबाज ने शतक बनाया हो। इससे पहले ग्रांट फ्लावर ने साल 1997 में न्यूजीलैंड के खिलाफ दोनों पारी में शतक बनाया था। साल 2001 में उनके भाई एंडी फ्लावर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट मैच की दोनों पारी में शतक बनाने का कारनामा किया। टेलर बांग्लादेश के खिलाफ दो टेस्ट मैच में ऐसा करने वाली पहला जिम्बाब्वे के बल्लेबाज हैं।

बांग्लादेश के खिलाफ दूसरी बार किया कारनामा

ब्रेंडन टेलर ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरी बार किसी टेस्ट की दोनों पारियों में शतक बनाया है। इससे पहले 2013 में उन्होंने हरारे टेस्ट में दोनों पारी में शतक जमाया था।