अपने पूरे करियर में वीरेन्द्र सहवाग गेंदबाजों के लिए एक बुरा सपना रहे © Getty images
अपने पूरे करियर में वीरेन्द्र सहवाग गेंदबाजों के लिए एक बुरा सपना रहे © Getty images

मौजूदा समय में टेस्ट क्रिकेट क्रिकेट में भी बल्लेबाजों के खेल में तेजी आई है। बल्लेबाजों का स्ट्राइक रेट सुधरा है। आजकल कोई भी टीम 1 दिन में औसतन 275 से 300 रन बनाती है। लेकिन क्या आप बता सकते हैं कि एक दिन में किसी एक बल्लेबाज द्वारा बनाया गया सर्वाधिक स्कोर क्या है? क्रिकेट के शुरूआती दौर में भी ऐसे बल्लेबाज थे जिन्होंने एक दिन में दोहरा शतक बनाया। खासकर डॉन ब्रेडमैन तो एक दिन में 200 से ज्यादा रन बनाने के माहिर मानें जाते थे। उन्होंने अपने करियर में कुल 6 बार एक दिन में 200 से ज्यादा रन बनाया। तो आइए जानते हैं एक दिन में किसी बल्लेबाज द्वारा बनाया गया सर्वाधिक स्कोर क्या है?

1. डॉन ब्रेडमैन(309 रन बनाम इंग्लैंड, 1930):

एक दिन में सबसे ज्यादा रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड डॉन ब्रेडमैन के नाम दर्ज है © Getty Images
एक दिन में सबसे ज्यादा रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड डॉन ब्रेडमैन के नाम दर्ज है © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के महान बल्लेबाज डॉन ब्रेडमैन दुनिया के एकलौते ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में एक दिन में 300 से ज्यादा रन बनाने का कारनामा अंजाम दिया। आजकल टेस्ट क्रिकेट में 275 से 300 रन पूरी टीम बनाती है, ब्रेडमैन ने एक दिन की बल्लेबाजी में ही 309 रन बना डाले थे। यह कारनामा उन्होंने 1930 में इंग्लैंड के खिलाफ लीड्स टेस्ट के दौरान किया था। इस मैच में उन्होंने मैच के पहले ही दिन जबरदस्त बल्लेबाजी करते हुए 309 रन बना दिये। ब्रेडमैन की इस विस्फोटक बल्लेबाजी की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने पहले ही दिन का खेल खत्म होने तक 458/3 का स्कोर बना लिया था।

2. वॉली हेमंड(295 रन बनाम न्यूजीलैंड, 1933):

वॉली हेमंड ने 1993 में न्यूजीलैंड के खिलाफ एक दिन में 295 रन ठोक दिये थे © Getty Images
वॉली हेमंड ने 1993 में न्यूजीलैंड के खिलाफ एक दिन में 295 रन ठोक दिये थे © Getty Images

इंग्लैंड के महान बल्लेबाज वॉली हेमंड टेस्ट क्रिकेट में एक दिन में दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। उन्होंने 1933 में न्यूजीलैंड के खिलाफ ऑकलैंड टेस्ट के दूसरे दिन 295 रन बना दिये थे। हेमंड पहले दिन 41 रन बनाकर नाबाद लौटे थे और दूसरे दिन जब वह आउट हुए तो उनका स्कोर 336 रन हो चुका था। हालांकि हेमंड की आक्रामक बल्लेबाजी भी मैच का नतीजा लाने में असफल रही और इंग्लैंड को यह मैच ड्रॉ से संतोष करना पड़ा।

3. वीरेन्द्र सहवाग(284 रन बनाम श्रीलंका, 2009):

वीरेन्द्र सहवाग ने श्रीलंका के खिलाफ 2009 में एक दिन में 284 रन बना दिये थे © Getty Images
वीरेन्द्र सहवाग ने श्रीलंका के खिलाफ 2009 में एक दिन में 284 रन बना दिये थे © Getty Images

भारत के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग क्रिकेट में भी वनडे अंदाज में बल्लेबाज करने के लिए जानें जाते थे। सहवाग एकलौते ऐसे एशियाई बल्लेबाज हैं जिन्होंने 2 बार एक दिन में 250 से ज्यादा रन बनाने का कारनामा अंजाम दिया। सहवाग ने पहली बार यह कारनामा 2009 में अंजाम दिया। श्रीलंका के खिलाफ मुंबई टेस्ट में उन्होंने एक दिन में ही 284 रन ठोंक दिये थे। मैच के दूसरे दिन उनके बल्ले से 40 चौके और 7 हवाई छक्के निकले। सहवाग मैच के तीसरे दिन 293 रन बनाकर आउट हुए। सहवाग की इस पारी की बदौलत भारत ने यह टेस्ट एक पारी और 24 रन से जीता।

4. डेनिस कांपटन(273 रन बनाम पाकिस्तान, 1954):

इंग्लैंड के डेनिस कांपटन ने पाकिस्तान के खिलाफ 1954 में नॉटिंघम टेस्ट के दौरान एक दिन में 273 रन बना दिये थे। कांपटन मैच के पहले दिन 5 रन पर नाबाद थे, लेकिन दूसरे दिन उन्होंने पाकिस्तानी गेंदबाजों की खबर लेते हुए 273 रन और जोड़ दिये। कांपटन जब आउट हुए तो वह 278 रन बना चुके थे। उनकी इस पारी की बदौलत इंग्लैंड ने पाकिस्तान को पारी के अंतर से हराया।

5. डॉन ब्रेडमैन(271 रन बनाम इंग्लैंड, 1934):

डॉन ब्रेडमैन ने अपने करियर में कुल 6 बार एक दिन में 200 से ज्यादा रन बनाने का कारनामा अंजाम दिया © Getty Images
डॉन ब्रेडमैन ने अपने करियर में कुल 6 बार एक दिन में 200 से ज्यादा रन बनाने का कारनामा अंजाम दिया © Getty Images

डॉन ब्रेडमैन ने इंग्लैंड के खिलाफ 1934 में एक बार फिर से एक दिन में 250 से ज्यादा रन बनाने का कारनामा अंजाम दिया। इस बार भी उन्होंने लीड्स का मैदान चुना। ब्रेडमैन ने इस टेस्ट के दूसरे दिन 271 रन बनाए, लेकिन उनकी यह पारी भी ऑस्ट्रेलिया को जीत नहीं दिला पाई और कंगारू टीम को ड्रॉ से संतोष करना पड़ा।

6. वीरेन्द्र सहवाग( 257 रन बनाम साउथ अफ्रीका, 2008):

अपने पूरे करियर में वीरेन्द्र सहवाग गेंदबाजों के लिए एक बुरा सपना रहे © Getty images
अपने पूरे करियर में वीरेन्द्र सहवाग गेंदबाजों के लिए एक बुरा सपना रहे © Getty images

वीरेन्द्र सहवाग ने 2008 में चेन्नई के दौरान शानदार तिहरा शतक बनाया। इस पारी के दौरान उन्होंने मैच के तीसरे दिन 257 रन बना डाले। सहवाग मैच के दूसरे दिन बल्लेबाजी करने आए और दिन का खेल खत्म होने पर वह 52 रन बनाकर नाबाद लौटे। मगर तीसरे दिन उन्होंन साउथ अफ्रीकी गेंदबाजों पर कहर बरपाना शुरू किया और तिहरा शतक जमाकर ही पवेलियन लौटे। सहवाग इस मैच में 319 रन बनाकर आउट हुए।