क्रिकेट के मैदान पर यूएई, नीदरलैंड, आयरलैंड जैसी टीम सामने हो तो किसी भी टॉप टीम के लिए उन्‍हें हल्‍के में लेना लाजमी है. अगर मंच विश्‍व कप (T20 World Cup 2009) का हो तो ऐसा करना भारी भी पड़ सकता है. कुछ ऐसा ही टी20 विश्‍व कप 2009 के दौरान आज ही के दिन (On This Day) इंग्‍लैंड की टीम के साथ हुआ था जब उसे पड़ोसी देश नीदरलैंड के हाथों चार विकेट से हार झेलनी पड़ी थी.

पांच जून 2009 यानी आज ही के दिन 11 साल पहले इंग्‍लैंड में दूसरे टी20 विश्‍व का का आगाज हुआ था. पहले मैच में मेजबान इंग्‍लैंड के सामने नीदरलैंड की टीम थी. लंदन के लॉर्ड्स मैदान पर यह क्रिकेट मैच शुरू हुआ. क्रिकेट के जनक इंग्‍लैंड पर उस वक्‍त यह ठप्‍पा लगा हुआ था कि वो कभी आईसीसी के टूर्नामेंट में खिताब अपने नाम नहीं कर पाया है. फिर भी मेजबान टीम ने नीदरलैंड को हल्‍के में लेने की गलती कर दी और उसे परिणाम भुगतना पड़ा.

नीदरलैंड ने टॉस जीतकर पहले इंग्‍लैंड को बल्‍लेबाजी के लिए बुलाया. रवि बोपारा 46(34) और लुक वाइट 71(49) ने इंग्‍लैंड को शानदार शुरुआत दिलाई. दोनों ने पहले विकेट के लिए महज 11 ओवरों में ही 100 रन जोड़ लिए थे. हालांकि इसके बाद निचले क्रम के बल्‍लेबाज रनों की गति को बनाने में विफल रहे और 20 ओवरों में इंग्लिश टीम पांच विकेट के नुकसान पर 162 रन ही बना पाई.

नीदरलैंड के लिए 163 रन का लक्ष्‍य मुश्किल जरूर था लेकिन नामुम्किन नहीं. 23 रन पर दो विकेट खोने के बाद नीदरलैंड की मुश्किलें और बढ़ गई. हालांकि मध्‍यमक्रम में टॉम डी ग्रोथ ने 30 गेंद पर 49 रन, पीटर बोरेन ने 25 गेंद पर 30 रन और रियान टेन ने 17 गेंद पर नाबाद 22 रन ठोक इंग्‍लैंड को उन्‍हीं के घर में धूल चटाने में अहम भूमिका निभाई.

इस जीत के बावजूद भी नीदरलैंड ग्रुप स्‍तर से आगे नहीं बढ़ सका था और इंग्‍लैंड ने अगले दौर में कदम रखा. फाइनल में पाकिस्‍तान ने श्रीलंका को हराकर खिताब पर कब्‍जा किया था.