England vs West Indies, 1st Test : Five things we learned from the first Test
वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम (Twitter)

वेस्टइंडीजइंग्लैंड के बीच खेले गए पहले टेस्ट के साथ कोरोना वायरस के बीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की शानदार वापसी हुई है। साउथम्पटन के एजेस बाउल स्टेडियम में खेले गए इस मैच में विंडीज टीम ने 4 विकेट से शानदार जीत हासिल की। यहां हम मैच से जुड़े कुछ अहम पहलुओं के बारे में आपको बताएंगे।

होल्डर का कप्तानी प्रदर्शन

पहले टेस्ट में वेस्टइंडीज की जीत का सबसे बड़ा कारण थे कप्तान जेसन होल्डर। होल्डर ने टीम की अगुवाई करते हुए पहली पारी में 42 रन देकर 6 विकेट लिए, जिसकी बदौलत इंग्लिश टीम 204 रन पर ढेर हो गई। बता दें कि टेस्ट क्रिकेट में ये होल्डर का सर्वश्रेष्ठ स्पेल है।

नंबर एक टेस्ट ऑलराउंडर होल्डर ने विपक्षी कप्तान बेन स्टोक्स को खामोश रखने का काम भी किया। होल्डर ने दोनों पारियों में स्टोक्स का विकेट लिया था।

बटलर का खराब प्रदर्शन

इंग्लैंड के विकेटकीपर जोस बटलर ने साउथम्पटन टेस्ट की दोनों पारियों में 35, 9 रन बनाए जो कि टेस्ट क्रिकेट में उनका सबसे कम स्कोर है। राष्ट्रीय चयनकर्ता एड स्मिथ ने बटलर को जॉनी बेयरस्टो की जगह बतौर विकेटकीपर इस उम्मीद में चुना था कि वो सीमित ओवर फॉर्मेट का अपना प्रदर्शन टेस्ट में दोहराएंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

पिछले 11 टेस्ट मैचों में बटलर का औसत मात्र 21.38 का है। खराब बल्लेबाजी के अलावा बटलर ने विकेटकीपिंग में भी गलतियां की। उन्हें वेस्टइंडीज के बल्लेबाज जर्मेन ब्लैकवुड का कैच तब छोड़ा जब वो मात्र 20 रन बनाकर खेल रहे थे। ब्लैकवुड ने आगे चलकर 95 रनों की मैचविनिंग पारी खेली।

जो डेन्ली पर होगा फैसला

इंग्लैंड-वेस्टइंडीज सीरीज के दौरान जिस खिलाड़ी को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा हुई वो है जो डेन्ली। 33 साल के इस बल्लेबाज ने पहली पारी में 18 रन बनाए, और दूसरी पारी में वो मात्र 29 रन पर आउट हो गए। और ऐसा लग रहा है कि डेन्ली को दूसरे टेस्ट मैच के लिए इंग्लैंड की प्लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया जाएगा।

बिना दर्शकों के भी बना रहा खेल का जुनून

कोविड-19 महामारी की वजह से इंग्लैंड-वेस्टइंडीज सीरीज बिना दर्शकों के खाली स्टेडियम में खेली जा रही है। समीक्षकों को डर था कि दर्शकों की गैरमौजूदगी का असर खिलाड़ियों पर पड़ेगा। लेकिन खाली स्टेडियम में भी दोनों टीमों के खिलाड़ियों ने पूरे जोश के साथ प्रदर्शन किया। हालांकि इंग्लिश कप्तान स्टोक्स ने कहा कि बिना दर्शकों के माहौल थोड़ा अजीब है।

अंपायर्स से हुई गलती

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद द्वारा वायरस की वजह से लागू किए गए नए नियमों और प्रतिबंधो के बाद इंग्लिश अंपायर रिचर्ड इलिंगवर्थ और रिचर्ड केटलबोरो के लिए एक अजीब मैच था। एक समय पर वेस्टइंडीज टीम ने अंपायरों के पांच फैसलों तो डीआरएस की मदद से बदला।

आईसीसी ने न्यूट्रल अंपायर के ना होने की वजह से दोनों टीमों के एक अतिरिक्त रीव्यू दिया है। इस मैच के बाद साफ हो गया कि ना केवल खिलाड़ियों बल्कि अंपायर्स को भी नए नियमों का आदी होने के लिए समय लगेगा।