live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 3rd test match live, india vs england 3rd test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live mohali
अजिंक्य रहाणे © AFP

अजिंक्य रहाणे जिन्हें भारतीय टीम में वीवीएस लक्ष्मण का उत्तराधिकारी कहा जाता है वह आजकल अपनी खराब फॉर्म से लगातार जूझ रहे हैं। आलम ये है कि वह पिछली 5 पारियों में महज 53 रन ही बना पाए हैं। ये रन उन्होंने 10.60 के बेहद खराब औसत के साथ बनाए हैं। जो रहाणे की क्लास के हिसाब से बहुत खराब प्रदर्शन है। रहाणे की अगर पिछली पांच पारियों को गौर से देखें तो वह हर मौके पर स्पिनर्स के खिलाफ खराब शॉट सिलेक्शन का शिकार हुए हैं। आपको ये सुनने में भले ही अजीब लगे लेकिन रहाणे को इस दौरान तीनों प्रकार के स्पिनरों ने आउट किया है। ऑफ स्पिनर मोईन अली और बाएं- हाथ के स्पिनर जफर अंसारी ने उन्हें राजकोट में जमने का मौका ही नहीं दिया। वहीं रविवार को वह लेग स्पिनर आदिल राशिद की स्पिन को भांपने में कामयाब नहीं हो पाए। इसके अलावा विशाखापत्तनम में तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड ने उन्हें खासा परेशान किया था।

लेकिन एक बात जो सबसे ज्यादा नोट की जा रही है वह है उनका स्पिनरों के खिलाफ खराब शॉट सिलेक्शन। मोईन अली के खिलाफ उन्होंने परंपरागत ऑफ ब्रेक गेंद पर टर्न के खिलाफ जाकर के शॉट खेलने का प्रयास किया और बोल्ड हो गए। वहीं पहली पारी में अंसारी ने एक फुल लेंथ की गेंद फेंकी जिसे उन्होंने अक्रॉस द लाइन खेलने का प्रयास किया और आउट हो गए। तीसरे टेस्ट के दूसरे दिन वह राशिद की गुगली को पढ़ने में नाकामयाब रहे और पगबाधा(LBW)आउट हो गए। अब ये जानना दिलचस्प होगा कि ऐसे समय में किस तरह का सुझाव बैटिंग कोच संजय बांगड़ उन्हें देना चाहेंगे। राशिद ने दूसरे दिन के खेल की समाप्ति पर बताया था कि उन्हें भीतर से लग रहा था कि रहाणे पर गुगली का असर होगा क्योंकि उन्हें उस गेंद को खेलने में दिक्कत हो रही थी जो उनके आस-पास टर्न हो रही थी। राशिद ने कहा, “मैं उन्हें सीधी और मिक्स गुगली फेंकना चाह रहा था। उससे काफी फायदा मिला और वह सामने ही जाल में फंस गए। कभी- कभार आप योजना बनाते हैं और कभी आपके भीतर से आवाज आती है। जो भी हो, लेकिन यह है।” [भारत बनाम इंग्लैंड, तीसरे टेस्ट का स्कोरबोर्ड देखने के लिए क्लिक करें]

बहरहाल जिस फॉर्म से रहाणे आजकल जूझ रहे हैं। उससे उन्हें उबरने की जरूरत है वरना दिक्कत हो सकती है। हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब रहाणे इतने बुरे दौर से गुजर रहे हैं। इसके पहले साल 2015 में श्रीलंका के खिलाफ खेले गए अंतिम टेस्ट में रहाणे दोनों पारियों में क्रमशः 8 और 4 रन बनाकर आउट हो गए थे। उसके बाद वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अगली चार पारियों में क्रमशः 15, 2, 13, और 9 रन बनाकर आउट हुए थे। इस तरह उन्होंने 6 पारियों में 61 रन बनाए थे। ऐसे में रहाणे की बल्लेबाजी को लेकर सवाल तल्ख हो गए थे। लेकिन इस सीरीज के अंतिम टेस्ट में रहाणे ने दोनों पारियों में शतक 127 और 100* जड़कर अपनी जगह बचा ली थी।

ऐसे में सवाल उठता है कि क्या रहाणे वैसा ही कमाल फिर से दिखा पाएंगे? जाहिर है कि रहाणे को अपनी तकनीकी के साथ काम करने की जरूरत है। रहाणे को इस बात पर विश्लेषण करने की जरूरत है कि आखिर वह गलती कहां कर रहे हैं। रहाणे का घरेलू पिचों में प्रदर्शन ज्यादा बढ़िया नहीं रहा है और वह महज 40 की औसत के साथ ही रन बना पाए हैं। वहीं बाहर की पिचों में रहाणे ने कमाल किया है और 51 के ऊपर की औसत से रन बनाए हैं। गौर करने वाली बात है कि भारत को इस सीजन में इंग्लैंड के खिलाफ 2 टेस्ट और खेलने हैं और फिर ऑस्ट्रेलिया और बांग्लादेश भारतीय सरजमीं पर टेस्ट सीरीज खेलने को आ रही हैं। ऐसे में मध्यक्रम में सशक्तिकरण आना जरूरी है। ऐसे में रहाणे को मध्यक्रम में मजबूती लाने के लिए अतिरिक्त जिम्मेदारी लेनी होगी।