जानें भारतीय टीम की जीत के बाद क्यों स्टंप्स उखाड़कर ले जाते हैं एमएस धोनी
फोटो साभार: hotmaggy.in

आपने देखा होगा जब भारतीय टीम मैच जीतती है तो अक्सर भारतीय टीम के सीमित ओवरों के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी स्टंप्स उखाड़कर पवेलियन की ओर कदम बढ़ाते हैं। लेकिन धोनी स्टंप्स क्यों उखाड़ते हैं? इस संबंध में पिछले कुछ समय से लगातार बातों का दौर जारी था। लेकिन पिछले महीनों के दौरान धोनी ने खुद ही इस संबंध में सफाई दी थी।

फोटो साभार: www.sportymost.com
फोटो साभार: www.sportymost.com

एक अंग्रेजी वेबसाइट में छपी खबर के मुताबिक धोनी ने कहा था, “मुझे अपना पोस्ट- क्रिकेट प्लान बनाना है। जिन स्टंप्स को मैं कलेक्ट करता हूं उसमें मैं निशान नहीं बनाता। रिटायरमेंट के बाद मैं मैच देखूंगा और इन स्टंप्स की ओर देखते हुए कहूंगा कि ये उस मैच के स्टंप्स थे। मेरे पास कई स्टंप्स हैं जो मेरी सालों की यादों के लिए काफी हैं।” जिसका मतलब सीधा है कि धोनी इन स्टंप्स को अपने पोस्ट रिटायरमेंट दिनों के लिए सहेज कर रख रहे हैं ताकि जब वह क्रिकेट मैदान पर नहीं होंगे तो वह इन स्टंप्स की यादों में डुबकी लगा लिया करेंगे। 

पिछले महीनों में आई एक मीडिया रिपोर्ट में धोनी के स्टंप कलेक्शन की दीवानगी के पीछे एक दूसरी वजह बताई गई थी। इस रिपोर्ट के मुताबिक  वह अपने बचपन के मित्र कुलबिंदर के लिए स्टंप्स कलेक्ट करते हैं। कुलबिंदर जिनके पिता वॉचमैन हैं वह धोनी के स्कूल के दिनों में उन्हें क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित करते थे।

कुलबिंदर क्रिकेट को बहुत प्यार करते हैं, लेकिन वह क्रिकेट में कुछ खास नहीं कर सके। लेकिन वह हमेशा चाहते थे कि धोनी क्रिकेट में अपना नाम कमाए। माही के दोस्त कुलबिंदर की माली हालत आजकल ठीक नहीं चल रही है, लेकिन इसके बावजूद वह धोनी से किसी प्रकार की मदद नहीं मांगते।

खबरों के मुताबिक कुलबिंदर जिन्होंने अपने लिए एक छोटा सा घर बनाया है अब चाहते हैं कि धोनी उन्हें 320 स्टंप्स दें। बहरहाल, इस रिपोर्ट में कितनी सचाई इसके बारे में धोनी ने कभी बात नहीं की। धोनी अगले महीने भारतीय टीम के साथ जिम्बाब्वे दौरे के लिए जा रहे हैं। जाहिर है कि धोनी इस दौरे में कुछ खास करना चाहेंगे। गौरतलब है कि वह पिछले कुछ समय से खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। ऐसे में वह अपनी खराब फॉर्म में जाहिर तौर पर निजात पाना चाहेंगे।