Getty Images
भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और सौरव गांगुली Getty Images

हाल ही में भारतीय टीम के टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में साल 2016 में खेल के सभी प्रारूपों में दो हजार रन बनाने वाले क्रिकेटर बन गए। साल 2016 में विराट से आगे इंग्लैंड के ही जो रूट हैं। विराट के करियर में ये तीसरा मौका है जब उन्होंने एक साल में खेल के सभी प्रारूपों को मिलाकर दो हजार रन पूरे किए हों। इससे पहले भारत के तीन और खिलाड़ी इस कारनामे को अंजाम दे चुके हैं। विराट कोहली को मिलाकर संख्या चार हो जाती है, तो आइए जानते हैं इन चारों खिलाड़ियों के बारे में और ये भी जानते हैं कि किस खिलाड़ी ने सबसे ज्यादा बार दो हजार रन बनाने का कारनामा किया है।

4. विराट कोहली: 2012, 2014, 2016
विराट कोहली ने अब तक के करियर में साल में दो हजार रन तीन बार बनाए हैं। विराट कोहली ने यह कारनामा साल 2012, 2014 और 2016 में किया है। विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ भारत की दूसरी पारी में 40वां रन बनाते ही साल 2016 में क्रिकेट से सभी प्रारूपों में मिलाकर अपने 2,000 रन पूरे कर लिए। इसके साथ वह इस साल 2,000 रन बनाने वाले जो रूट के बाद दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। कोहली ने इस साल 32 मैचों में 80.83 की औसत से 1,940 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 8 टेस्ट में 640 रन, 10 वन-डे में 739 रन और 15 टी20 मैचों में 641 रन जड़े हैं।  [भारत बनाम इंग्लैंड, पहला टेस्ट, हिंदी लाइव स्कोर]

इससे पहले साल 2014 में कोहली ने कुल 38 मुकाबलों में 2,286 रन बनाए थे। कोहली ने साल 2014 में 10 टेस्ट मैचों में 44 की औसत से 847 रन बनाए तो 21 वनडे मैचों में उन्होंने 58 की औसत से 1054 रन बनाए। इस दौरान कोहली ने 7 टी-20 मुकाबलों में 385 रन बनाए। कोहली ने अपने करियर में एक साल में दूसरी बार दो हजार रन बनाने का कारनामा किया था। पहली बार विराट कोहली ने साल 2012 में अपने करियर में साल में दो हजार रन बनाए थे। कोहली ने 2012 में कुल 2,186 रन बनाए थे। इस दौरान कोहली ने 17 वनडे मैचों में 68 की औसत से 1026 रन बनाए। तो 9 टेस्ट में 49 की औसत से 689 रन रन तो 14 टी-20 में 39 की औसत से 471 रन बनाए थे।

राहुल द्रविड़: 1999, 2002, 2006
भारतीय टीम के दीवार राहुल द्रविड़ ने भी एक साल में दो हजार रन बनाने का कारनामा अपने करियर में कुल तीन बार किया था। राहुल ने साल 1999, साल 2002 और साल 2006 में एक साल में दो हजार रन बनाए थे। पहली बार राहुल ने 10 टेस्ट मैचों में 48 की औसत से 865 रन बनाए थे। वहीं 43 वनडे मैचों में राहुल ने 46 की औसत से 1761 रन बनाए थे। 1999 में टेस्ट और वनडे को मिलाकर राहुल के रन 2,626 थे। वहीं साल 2002 में राहुल द्रविड़ ने 16 टेस्ट में 59 की औसत के साथ 1,357 रन बनाए तो इसी दौरान उन्होंने 28 वनडे में 48 की औसत से 913 रन बनाए। 2002 में राहुल के वनडे-टेस्ट को मिलाकर रनों का कुल आंकड़ा 2,270 था। वहीं तीसरे और आखिरी मौके पर राहुल ने यह कारनामा 2006 में किया था। राहुल ने इस साल 12 टेस्ट में 60 की औसत से 1095 और 27 वनडे में 35 की औसत के साथ 919 रन बनाए थे। और इस साल टेस्ट-वनडे को मिलाकर राहुल ने कुल 2,014 रन बनाए थे।

2. सौरव गांगुली: 1997, 1999, 2002, 2007
अपने छक्कों के लिए मशहूर और भारत के सबसे आक्रामक कप्तानों में से एक सौरव गांगुली ने अपने बल्ले के दम पर भारत को कई ऐतिहासिक मैच जिताए हैं। गांगुली ने एक साल में दो हजार रन बनाने के कारनामा अपने करियर मेम चार बार किया है। सौरव ने यह कारनामा साल 1997, 1999, 2002 और 2007 में किया था। साल 1997 में गांगुली ने 11 टेस्ट मैचों में 50 की औसत से 813 रन बनाए थे तो 38 वनडे में 41 की औसत के साथ 1,338 रन बनाए। इस साल टेस्ट और वनडे को मिलाकर सौरव ने कुल 2,186 रन बनाए।

वहीं साल 1,999 में गांगुली ने 41 वनडे मैचों में 46 की औसत के साथ 1767 और 10 टेस्ट में 50 की औसत के साथ 813 रन बनाए और इस साल उनके रनों की संख्या 2,580 रन रही थी। वहीं साल 2002 में गांगुली ने 16 मैचों में 41 की औसत के साथ 945 रन बनाए तो 32 वनडे में 38 की औसत के साथ 1,114 रन बनाए। इस साल टेस्ट और वनडे को मिलाकर गांगुली के रनों का कुल आंकड़ा 2,059 रहा था। वहीं आखिरी और चौथी बार गांगुली ने यह कारनामा अपने करियर के आखिरी पड़ाव में किया था। गांगुली ने साल 2007 में 32 वनडे मैचों में 44 की औसत के साथ 1,240 और 10 टेस्ट में 61 की औसत के साथ 1,106 रन बनाए थे। गांगुली के रनों की कुल संख्या साल 2007 में 2,346 थी।

1. सचिन तेंदुलकर: 1996, 1997, 1998, 2002, 2007
दुनिया के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी ने अपने करियर में साल में दो हजार रन पांच बार बनाए हैं और वह इस सूची में सबसे आगे हैं। सचिन ने साल 1996, 1997, 1998, 2002 और 2007 में एस साल में दो हजार रन के शिखर को छूने में कामयाबी पाई थी। साल 1996 में सचिन ने 32 वनडे मैचों में 53 की औसत के साथ 1,611 और 8 टेस्ट में 41 की औसत के साथ 623 रन बनाए थे। सचिन ने इस साल कुल 2,234 रन बनाए थे। साल 1997 की बात करें तो इस साल सचिन ने 39 वनडे में 1,011 और 12 टेस्ट में 1,000 रन बनाए थे और उनके रनों की कुल संख्या 2,011 रही थी। साल 1998 में सचिन ने 5 टेस्ट में 80 की शानदार औसत के साथ 647 तो 34 वनडे में 65 की औसत के साथ 1,894 रन बनाए थे। सचिन ने इस साल कुल 2,541 रन बनाए थे।

वहीं साल 2002 में सचिन ने 16 टेस्ट में 55 की औसत के साथ 1,392 और 20 वनडे मैचों में 741 रन बनाए थे और इस साल सचिन के रनों कि कुल संख्या 2,133 रन रही थी। वहीं सचिन ने पांचवीं और आखिरी बार ये कारनामा साल 2007 में किया था। सचिन ने इस साल 33 वनडे में 1,425 और 9 टेस्ट मैचों में 776 रन बनाए थे। सचिन ने इस साल कुल 2,201 रन बनाए थे।