Happy birthday shane warne 1993 ashes series will be remembered for shane warnes ball of the century 4139987

Happy Birthday Shane Warne: बात जब फिरकी गेंद डालने की आती है तो ऑस्‍ट्रेलिया के स्‍टार गेंदबाज रहे शेन वार्न (Shane Warne) का नाम सबसे पहले लिया जाता है. श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) के बाद खेल के सबसे लंबे प्रारूप में सर्वाधिक विकेट लेने वालों की सूची में वार्न का नाम दूसरे स्‍थान पर आता है. मुरलीधरन 800 टेस्‍ट विकेट ले चुके हैं. वहीं, वार्न के नाम 708 विकेट हैं. आज (13 सितंबर 2020) शेन वार्न (Happy Birthday Shane Warne) का जन्‍मदिन है. वो 51 साल के हो गए हैं. आईये इस मौके पर हम आपको उनकी बॉल ऑफ द सेंचुरी के बारे में बताते हैं.

यह किस्‍सा साल 1993 में खेली गई एशेज (The Ashes 1993) सीरीज का है. ऑस्‍ट्रेलिया की टीम इंग्‍लैंड दौरे पर थी जहां मैनचेस्‍टर में टेस्‍ट मैच खेला जा रहा था. इस दौरान वार्न ने एक ऐसी गेंद फेंकी थी, जिसको अगर आज भी देखा जाए तो उसे असाधारण ही कहा जाएगा. ये गेंद किसी चमतकार से कम नहीं थी. वार्न उन दिनों अपने करियर के शुरुआती दिनों में ही थे. ऑस्‍ट्रेलिया की टीम अपनी पहली पारी के दौरान 289 रन पर ऑलआउट हो गई. इंग्लिश स्पिनर पीटर सच ने छह विकेट हॉल लेकर इंग्‍लैंड को बड़ा स्‍कोर बनाने से रोक दिया. अब बारी इंग्‍लैंड की बल्‍लेबाजी की थी.

जल्‍द पहली सफलता मिलने के बाद शेन वार्न (Happy Birthday Shane Warne) को गेंदबाजी अटैक पर लगा दिया गया. इंग्‍लैंड के कप्‍तान ग्राहम गूच और माइक गेटिंग मैदान पर थे.

इसी बीच चार रन पर खेल रहे गेटिंग वार्न की बॉल ऑफ द सेंचुरी का शिकार बने. वार्न की गेंद लेग स्‍टंप के बाहर पिच हुई. गेटिंग को लगा गेंद उनके पीछे से निकल जाएगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. गेंद इस कदर टर्न हुई कि उसने पिच होने के बाद गेटिंग की लेग स्‍टंप की गिल्लियां बिखेर दी.

वार्न  की इस गेंद को देखने के बाद मैदान पर मौजूद हर कोई हैरान था. बल्‍लेबाज अपने आउट होने का विश्‍वास नहीं कर पा रहा था. इस गेंद को बॉल ऑफ द सेंचुरी का नाम दिया गया.

राजस्‍थान रॉयल्‍स को दिलाया आईपीएल खिताब

शेन वार्न (Happy Birthday Shane Warne) की उपलब्धियों की बात की जाए तो वो ऑस्‍ट्रेलिया को विश्‍व कप जिताने में अहम भूमिका निभा चुके हैं. इतना ही नहीं ये वार्न ही हैं जिन्‍होंने 2008 में हुए आईपीएल के आगाज के साथ राजस्‍थान की टीम को खिताब तक पहुंचाया था. वार्न आज भी राजस्‍थान फ्रेंचाइजी में मेंटर की भूमिका निभाते हैं.