Happy Birthday Sunil Gavaskar: interesting facts from former India captain’s, Know about test records

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर (Happy Birthday Sunil Gavaskar)आज यानी 10 जुलाई शुक्रवार को अपना 71वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रहे हैं। दाएं हाथ के इस पूर्व बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे पहले 10 हजार रन का जादुई आंकड़ा छूआ। ‘लिटिल मास्टर’ के नाम से विख्यात गावस्कर 1983 वर्ल्ड कप चैंपियन टीम का हिस्सा रहे।

टीम इंडिया (Team India) के इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने 125 टेस्ट मैचों में कुल 10,122 रन बनाए जिसमें 34 शतक शामिल है। साल 1949 में बॉम्बे (अब मुंबई) में जन्मे गावस्कर ने 108 वनडे इंटरनेशनल मैचों में कुल 3,093 रन बनाए। फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 25 हजार से अधिक रन बनाने वाले गावस्कर इस समय कमेंट्री बॉक्स की शोभा बढ़ा रहे हैं। आइए जानते हैं उनके करियर के 5  रोचक तथ्य:

विंडीज के खिलाफ जड़े 13 शतक

सुनील गावस्कर ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 13 टेस्ट सेंचुरी लगाई है जो भारत की ओर से किसी बल्लेबाज का किसी एक टीम के खिलाफ सर्वाधिक है। किसी एक टीम के खिलाफ सर्वाधिक शतक जड़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज सर डॉन ब्रैडमैन के नाम है जिन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ कुल 19 बार शतकीय पारी खेली थी। ऐसे में इस लिस्ट में गावस्कर दूसरे नंबर पर हैं।

डेब्यू टेस्ट सीरीज में सर्वाधिक रन

डेब्यू टेस्ट सीरीज में सुनील गावस्कर ने सर्वाधिक 774 रन बनाए हैं। गावस्कर ने ये उपलब्धि 1971 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ हासिल की थी। उन्होंने चार टेस्ट मैचों की सीरीज में 4 शतक भी जड़े। ये किसी बल्लेबाज का डेब्यू सीरीज में सर्वाधिक रन है। वैसे किसी एक सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड विंडीज के दिग्गज विवियन रिचडर्स के नाम दर्ज है जिन्होंने 1976 में चार मैचों की सीरीज में कुल 829 रन जुटाए थे।

टेस्ट में सबसे पहले बनाए 10 हजार रन

सुनील गावस्कर 7 मार्च 1987 को टेस्ट करियर में 10 हजार रन पूरा करने वाले वर्ल्ड के पहले बल्लेबाज बने। उन्होंने ये उपलब्धि पाकिस्तान के खिलाफ 124वें टेस्ट में हासिल की। ये मैच ड्रॉ रहा था।

टेस्ट करियर में 4 बार दोहरा शतक लगाए

गावस्कर ने अपने करियर में चार दोहरे शतक लगए। ये सभी शतक उन्होंने अलग अलग पारियों में लगाए। उन्होंने अपना पहला दोहरा शतक (220 रन) अपनी डेबयू सीरीज में ही 1971 में वेस्टइंडीज के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन में मैच की तीसरी पारी में बनाया था ।इसके बाद इस दिग्गज बल्लेबाज ने 1978 में वेस्टइंडीज के खिलाफ ही मुंबई में मैच की पहली पारी में 205 रन बनाए और इसके एक साल बाद इंग्लैंड के खिलाफ ओवल में मैच की चौथी पारी में 221 रन की मैराथन पारी खेली थी। उन्होंने अपना आखिरी दोहरा शतक (नाबाद 236) 1985 में चेन्नई में वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच की दूसरी पारी में बनाया था।