अश्विन-जडेजा की अनुपस्थिति में अमित मिश्रा और अक्षर पटेल संभालेंगे स्पिन आक्रमण की कमान © Getty Images
अश्विन-जडेजा की अनुपस्थिति में अमित मिश्रा और अक्षर पटेल संभालेंगे स्पिन आक्रमण की कमान © Getty Images

भारत और न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खत्म हो चुकी है और अब बारी है वनडे सीरीज की। टेस्ट में जहां भारत ने न्यूजीलैंड को चारों खाने चित करते हुए तीन मैचों की सीरीज में कीवियों का सूपड़ा साफ कर दिया तो अब वनडे में भी भारत न्यूजीलैंड को हराकर सीरीज को जीतना और आईसीसी रैंकिंग में नंबर पर काबिज होना चाहेगी।

पहले तीन वनडे मैचों के लिए टीम का ऐलान हो चुका है और इसमें टेस्ट में अपनी फिरकी से न्यूजीलैंड को परेशान करने वाले आर अश्विन और रविंद्र जडेजा के नाम शामिल नहीं हैं। तो ऐसे में सवाल ये उठता है कि इन दोनों दिग्गज स्पिनरों की गैरमौजूदगी में भारत वनडे में कीवियों पर कैसे नकेल कसेगा। भारतीय टीम में वनडे सीरीज के लिए दो विशेषज्ञ स्पिनर हैं, अक्षर पटेल और अमित मिश्रा। अमित मिश्रा और अक्षर पटेल पर पहले तीन वनडे में भारत के स्पिन अटैक का दारोमदार होगा।

मिश्रा और अक्षर पटेल के सामने चुनौतियां भी बहुत होंगी, क्योंकि टेस्ट में भारत के स्पिन गेंदबाजों ने न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों को जमकर छकाया था और उनकी एक नहीं चलने दी थी। ऐसे में अमित मिश्रा और अक्षर पटेल के ऊपर इस बात की चुनौती होगी कि वो दोनों वनडे में टीम को अश्विन और जडेजा की कमी न खले दें। दोनों गेंदबीजों के कंधों पर टीम के लिए अच्छी गेंदबाजी करने की जिम्मेदारी होगी और साथ ही दोनों खिलाड़ी टीम में अपनी जगह पक्की करने के इरादे से मैदान पर उतरेंगे।

टेस्ट मैचों की बात करें तो अश्विन और जडेजा की जोड़ी ने मिलकर कीवियों को जमकर परेशान करते हुए पूरी सीरीज में कुल 41 विकेट हासिल किए थे। अश्वविन ने 3 मैचों मे कीवी टीम के 27 और जडेजा ने 14 विकेट लिए थे। अश्विन इसी के साथ ही भारत की तरफ से सबसे जल्दी 200 विकेट लेने वाले गेंदबाज बने थे। अश्विन और जडेजा के दम पर ही भारत ने कीवियों को एकतरफा अंदाज में 3 मैचों की सीरीज में 3-0 से करारी शिकस्त दी थी।

हालांकि पहले तीन वनडे मैचों में दोनों की अनुपस्थिति में ये जिम्मेदारी अमित मिश्रा और अक्षर पटेल पर होगी। अक्षर पटेल की गेंदबाजी की बात करें तो पचेल ने अब तक अपने करियर में 25 मैच खेले हैं जिनमें उन्हें 22 पारियों में गेंदबाजी करने का मौका मिला है, पटेल ने 28 की औसत से अब तक 31 विकेट लिए हैं, जिनमें उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 39 रन देकर 3 विकेट रहा है। पटेल अभी क्रिकेट में नौसिखिया हैं और उन्हें अभी बहुत कुछ सीखने की जरूरत है ऐसे में उनके सामने एक बड़ी चुनौती होगी खुद को साबित करने की।

वहीं दूसरी तरफ बात करें दूसरे स्पिन गेंदबाज अमित मिश्रा की तो अमित मिश्रा ने जबसे टीम में वापसी की है तबसे अब तक उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन अश्विन और जडेजा की अनुपस्थिति में उन पर दबाव थोड़ा बढ़ जाएगा। क्योंकि वह सीनीयर खिलाड़ी हैं, मिश्रा के प्रदर्शन पर नजर डालें तो अमित मिश्रा ने अब कर अपने करियर में 31 मैच खेले हैं, जिनमें उन्हें 29 पारियों में गेंदबाजी का मौका मिला है और इस दौरान उन्होंने 26 की औसत से 49 विकेट लिए हैं, जिनमें मैच में चार विकेट दो बार और एक बार पांच विकेट लेने में भी कामयाब हुए हैं। अमित मिश्रा का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 48 रन देकर 6 विकेट रहा है। वहीं न्यूजीलैंड के खिलाफ अमित मिश्रा को अभी गेंदबाजी करने का मौका नहीं मिला है।

अमित मिश्रा और अक्षर पटेल के पास खुद को साबित करने का मौका तो होगा ही साथ में दोनों पर अच्छे प्रदर्शन का दबाव भी होगा, क्योंकि अभी टीम सिर्फ तीन मैचों के लिए चुनी गई है और अगर ये दोनों अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए तो हो सकता है अगले दो वनडे के लिए अश्विन और जडेजा की वापसी हो जाए और इन दोनों पर गाज गिर जाए। ऐसे में दोनों खिलाड़ी अपने प्रदर्शन से ये साबित करना चाहेंगे कि चयनकर्ताओं ने उनपर भरोसा दिखाकर कोई गलती नहीं की।

भारत और न्यूजीलैंड के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का आगाज रविवार से हो रहा है, वनडे सीरीज का पहला मैच धर्मशाला में खेला जाएगा। भारत के लिए मैच से पहले ही एक बुरी खबर आ गई है कि वायरल बुखार के कारण टीम के आक्रामक बल्लेबाज सुरेश रैना पहले मैच में नहीं खेल पाएंगे। भारतीय टीम धोनी की कप्तानी में टेस्ट की तरह वनडे में भी न्यूजीलैंड को धूल चटाने के इरादे से मैदान पर उतरेगी। अगर भारत न्यूजीलैंड को 4-1 के अंतर से हरा देता है तो भारत आईसीसी की रैंकिंग में चौथे से तीसरे स्थान पर पहुच जाएगा।