ICC CRICKET WORLD CUP 2019: Players who let down during world cup 2019
Rashid Khan, Glenn Maxwell, Mashrafe Mortaza, Kedar Jadhav

इंग्‍लैंड एंड वेल्‍स में जारी आईसीसी के 12वें वनडे विश्‍व कप के ग्रुप स्‍टेज के मुकाबले शनिवार को खत्‍म हो गए। इस दौरान कई शानदार प्रदर्शन देखने को मिले जिनके बारे में आने वाले वर्षों में बात की जाएगी।

पढ़ें: ये 5 युवा खिलाड़ी भविष्‍य में बन सकते हैं ‘सुपरस्‍टार’

मौजूदा चैंपियन ऑस्‍ट्रेलिया, भारत, न्‍यूजीलैंड और मेजबान इंग्‍लैंड सेमीफाइनल में प्रवेश कर चुके हैं। विश्‍व कप जैसा टूर्नामेंट दुनिया के क्रिकेटरों को एक अनूठा मंच प्रदान करता है जहां कुछ खिलाड़ी अच्‍छे प्रदर्शन कर देश के हीरो जबकि कुछ खराब प्रदर्शन के कारण विलेन बन जाते हैं।

हमेशा की तरह इस बार के वर्ल्‍ड कप में भी कई टैलेंटेड खिलाड़ी उम्‍मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए।

राशिद खान (अफगानिस्‍तान)

विश्‍व कप से पहले सभी को उम्‍मीद थी कि राशिद खान बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाडि़यों की लिस्‍ट में जरूर शामिल होंगे लेकिन 20 साल के इस लेग स्पिनर के लिए ये वर्ल्‍ड कप कुछ खास नहीं रहा। राशिद भी इस वर्ल्‍ड कप के अपने प्रदर्शन को जल्‍द भूलना चाहेंगे।

पढ़ें: ‘ऑस्‍ट्रेलिया के लिए सेमीफाइनल से पहले हार और चोट से जूझना अच्‍छा नहीं’

विश्‍व कप के 9 मैचों में राशिद महज 6 विकेट ही झटक पाए। राशिद ने इस दौरान 10 रन प्रति ओवर के हिसाब से दिए। अफगानिस्‍तान के खराब प्रदर्शन की एक वजह ये भी हो सकती है। हालांकि अभी वो युवा हैं और उम्‍मीद की जानी चाहिए कि वो जल्‍द ही बेहतरीन लय में लौटेंगे।

ग्‍लेन मैक्‍सवेल (ऑस्‍ट्रेलिया)

ऑस्‍ट्रेलियाई ऑलराउंडर ग्‍लेन मैक्‍सवेल बड़े-बड़े शॉट्स लगाने के लिए जाने जाते हैं। मैक्‍सवेल उन खिलाडि़यों में से हैं जो अपना नेचुरल गेम खेलने से कभी भी पीछे नहीं हटता चाहे परिस्थिति कैसी भी क्‍यों न हो। उन्‍हें एक विस्‍फोटक बल्‍लेबाज के रूप में जाना जाता है।

मौजूदा वर्ल्‍ड कप में ऑस्‍ट्रेलियाई टीम सेमीफाइनल में पहुंच चुकी है लेकिन मैक्‍सवेल का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है। 30 साल के मैक्‍सवेल ने इस टूर्नामेंट में 8 मैच खेले। इस दौरान उनके बल्‍ले से 23 की खराब औसत से केवल 143 रन ही आए।

मैक्‍सवेल का औसत नेथन कूल्‍टर नाइल से भी खराब है।

मशरफे मुर्तजा (बांग्‍लादेश)

बांग्‍लादेश के कप्‍तान मशरफे मुर्तजा के बारे में वर्ल्‍ड कप शुरू होने से पहले ये कहा जा रहा था कि वो इसके बाद इंटरनेशनल क्रिकेट को बाय-बाय कह देंगे लेकिन अभी तक उनकी ओर से इसपर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

35 साल के इस खिलाड़ी का निश्चिततौर पर बेहतरीन समय खत्‍म हो चुका है। मौजूदा वर्ल्‍ड कप के 8 मैचों में मुर्तजा को केवल एक विकेट ही हासिल हुआ। उन्‍होंने इस दौरान 6 रन प्रति ओवर के हिसाब से दिए। मुर्तजा बल्‍लेबाजी में भी असफल रहे।

मोइन अली (इंग्‍लैंड)

मोइन अली आईपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन कर वर्ल्‍ड कप खेलने आए हैं। आईपीएल फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ओर से मोइन ने विराट कोहली की कप्‍तानी में शानदार प्रदर्शन किया था। इंग्लिश फैंस को उम्‍मीद थी कि ये ऑलराउंडर आईपीएल के प्रदर्शन को यहां भी दोहराएगा लेकिन ऐसा हो नहीं सका।

पढ़ें: सेमीफाइनल से पहले ऑस्‍ट्रेलिया को झटका, चोटिल ख्‍वाजा विश्‍व कप से बाहर

32 साल के मोइन ने वर्ल्‍ड कप के 5 मैचों में केवल 75 रन ही बना पाए। इसमें उनकी औसत 20 के नीचे रही। आमतौर पर देखा ये जाता है कि मोइन यदि बल्‍लेबाजी में फ्लॉप रहे तो गेंदबाजी में उसका कसर निकाल लेते हैं लेकिन वर्ल्‍ड कप में ऐसा नहीं हो सका। उन्‍होंने सिर्फ 5 विकेट ही चटकाए और वो भी 5 रन प्रति ओवर के हिसाब से। उन्‍हें प्‍लेइंग इलेवन से ड्रॉप भी किया गया।

केदार जाधव (भारत)

केदार जाधव जब वर्ल्‍ड कप खेलने के लिए इंग्‍लैंड रवाना हुए तब कई भारतीय दिग्‍गजों को उनके स्‍थान को लेकर डर था। हालांकि इसमें जाधव एक मात्र खिलाड़ी नहीं थे। उनकी विस्‍फोटक बल्‍लेबाजी और बेहतरीन अनॉर्थोडोक्‍स गेंदबाजी ने उन्‍हें टीम इंडिया में जगह दिलाई।

हालांकि अब तक देखा जाए तो ये ऑलराउंडर उम्‍मीदों पर खरा नहीं उतर सका है। केदार ने 5 मैचों में 80 रन बनाए हैं। इस दौरान उनकी धीमी बल्‍लेबाजी ने आलोचकों को बोलने का मौका दे दिया है। गेंदबाजी में भी जाधव इंग्‍लैंड की पिचों पर कुछ खास कमाल नहीं दिखा पा रहे हैं। 34 वर्षीय जाधव का सेमीफाइनल के प्‍लेइंग इलेवन में शामिल होना मुश्किल है।