ICC Cricket world cup 2019 West Indies cricket team review
जेसन होल्डर-निकोलस पूरन (IANS)

एक समय पर विश्व क्रिकेट पर राज करने वाली विंडीज टीम को 2019 में हिस्सा लेने के लिए क्वालिफायर टूर्नामेंट से गुजरना पड़ा। इंग्लैंड पहुंची विंडीज टीम को लेकर शुरूआत से ही ये कहा जा रहा था कि वो अपने अच्छे दिन पर किसी भी विपक्ष को हराने का दम रखती है। लेकिन जेसन होल्डर एंड कंपनी के लिए लिए परेशानी की बात यही रही कि विश्व कप में उनके ‘अच्छे दिन’ बहुत कम आए।

पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में 7 विकेट से जीत दर्ज कर विंडीज टीम ने फैंस की उम्मीदें बढ़ाई। दूसरे मैच में कैरेबियन खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलिया जैसी दिग्गज टीम को जीत के लिए तरसा दिया। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उनका तीसरा मैच बारिश की वजह से रद्द हुआ, जिसके बाद से उनका बुरा समय शुरू हुआ। वेस्टइंडीज टीम ने लगातार पांच मैच हारे और सेमीफाइनल की रेस से बाहर हो गई। हालांकि आखिरी मैच में अफगानिस्तान को हराकर विंडीज टीम ने जीत के साथ विश्व कप टूर्नामेंट से विदा ली।

टीम के सकारात्मक पहलू: इंग्लैंड में आयोजित टूर्नामेंट वेस्टइंडीज के सीनियर बल्लेबाज क्रिस गेल का आखिरी विश्व कप था। जहां एक तरफ विंडीज टीम का एक बड़ा बल्लेबाज अपने करियर के आखिरी दौर में पहुंचा वहीं शाई होप, निकोलस पूरन और शिमरोन हेटमायर के रूप में टीम को भविष्य के तीन बड़े खिलाड़ी मिले।

CWC19 ,Team Review: विवादों में फंस जीत को तरसा अफगानिस्‍तान

तीनों खिलाड़ियों ने वेस्टइंडीज के लिए कुल 9 मैच खेले। पूरन 52.42 की औसत से 367 रन बनाकर विंडीज के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने। 274 रन के साथ होप दूसरे और 257 रन बनाकर हेटमायर तीसरे नंबर पर रहे। इन तीनों ही खिलाड़ियों ने आने वाले समय में वेस्टइंडीज का बल्लेबाजी क्रम कितना मजबूत होगा इसकी एक झलक दिखाई।

वेस्टइंडीज टीम के लिए विश्व कप में सबसे शानदार प्रदर्शन तेज गेंदबाज शेल्डन कॉटरेल का रहा। कॉटरेल ने ना केवल अपने अनोखे सेलिब्रेशन से फैंस का दिल जीता बल्कि अपनी घातक गेंदबाजी से बल्लेबाजों को परेशान किया। कॉटरेल ने 9 मैचों में 5.85 की इकॉनामी के साथ कुल 12 विकेट लिए।

विश्व कप फाइनल मैच के दौरान हुई बड़ी गलती

कहां रह गई कमी: कॉटरेल अकेले विंडीज गेंदबाजी रहे, जिन्होंने विश्व कप में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया। लेकिन उनके अलावा बाकी गेंदबाजों के प्रदर्शन में निरंतरता की कमी दिखी। विंडीज गेंदबाज इंग्लैंड और फिर बांग्लादेश के खिलाफ मैच में लक्ष्य बचाने में असफल रहे। इंग्लैंड के खिलाफ मैच में मेजबानों की मजबूत बल्लेबाजी और 200 के कम के स्कोर का तर्क दिया जा सकता है लेकिन बांग्लादेश के खिलाफ मैच में 322 रन का बड़ा स्कोर बचाते हुए 7 विकेट से मिली हार का विंडीज के पास कोई जवाब नहीं है। जो कि उनके गेंदबाजी अटैक की असफलता साफ दिखाता है।

विंडीज टीम की असफलता का एक कारण रहा जेसन होल्डर का खराब फॉर्म। वेस्टइंडीज टीम अपने कप्तान होल्डर पर काफी निर्भर करती है। चाहे बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी होल्डर ने वेस्टइंडीज के लिए कई मैचविनिंग प्रदर्शन किए हैं लेकिन ये विश्व कप होल्डर के लिए अच्छा नहीं रहा और उसका प्रभाव वेस्टइंडीज के कैपेंन पर साफ दिखा। होल्डर ने 9 मैचों की केवल 170 रन बनाए और 8 विकेट लिए।

ICC की विश्‍व कप टीम में विराट-मोर्गन को नहीं मिली जगह

फेल रहे गेल: ये विश्व कप टूर्नामेंट यूनीवर्स बॉल गेल के लिए बेहद खास था क्योंकि ये उनका आखिरी विश्व कप था। ऐसे में गेल के बड़े धमाके की उम्मीद थी जो कि पूरी नहीं हुई। गेल ने 9 मैचों की 8 पारियों में 30.25 की औसत से 242 रन बनाए जिसमें दो अर्धशतक हैं लेकिन एक भी शतक नहीं। इस सलामी बल्लेबाज का आखिरी विश्व कप फैंस की अपेक्षाओं पर खरा नहीं उतरा।