ICC Cricket World Cup team review: Australia lose semi-final for the first time in history and out
England vs Australia World cup semi final match

आईसीसी विश्व कप 2019 में डिफेंडिंग चैंपियन के तौर पर उतरी ऑस्ट्रेलिया ने टूर्नामेंट में शानदार खेल दिखाते हुए आलोचकों को करारा जवाब दिया। शुरुआती ग्रुप मुकाबलों में बेहतरीन खेल दिखाते हुए टॉप दो टीम में शामिल रहते हुए ऑस्ट्रेलिया ने सेमीफाइनल में जगह बनाई।

दमदार खेल दिखाने वाली ऑस्ट्रेलिया के लिए आखिरी दो मुकाबलों की हार ने उसके छठी बार विश्व कप जीतने का सपना तोड़ दिया। बॉल टैंपरिंग विवाद के बाद वापसी कर रहे डेविड वार्नर और स्टीव स्मिथ ने अपना बल्लेबाजी को टीम को सेमीफाइनल तक पहुंचाया। मिशेल स्टार्क की गेंदबाजी भी दमदार रही लेकिन टीम विश्व चैंपियन नहीं बन पाई।

ऑस्ट्रेलिया का विश्व कप में प्रदर्शन

अफगानिस्तान जैसी कमतर आंकी जा रही टीम के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया ने 7 विकेट से जीत हासिल कर अभियान की शुरुआत की। दूसरे मुकाबले में वेस्टइंडीज पर 15 रन से जीत हासिल की। अहम माने जा रहे भारत के खिलाफ मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को हार मिली। टीम इंडिया के धुरंधरों ने 352 रन का स्कोर खड़ा कर कंगारू टीम को जोरदार झटका दिया।

भारत के मिली जीत के बाद एरोन फिंच की टीम ने सुधार किया और लगातार 5 मुकाबले जीतकर वह सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनीं। ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान पर 41 रन, श्रीलंका के खिलाफ 87 रन और फिर बांग्लादेश पर 48 रन से जीत हासिल की। मेजबान इंग्लैंड को कंगारू टीम ने 64 रन से मात दी और फिर न्यूजीलैंड को भी 86 रन से बड़े अंतर से हराया। आखिरी ग्रुप मैच में टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी साउथ अफ्रीका ने 10 रन से टीम को हराया।

सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया की टीम महज 223 रन का स्कोर ही खड़ा कर पाई। जवाब में इंग्लैड ने महज 32.1 ओवर में 2 विकेट खोकर लक्ष्य हासिल किया और ऑस्ट्रेलिया के फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया।

टीम का सकारात्मक पहलू

ग्रुप मुकाबलों में ऑस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों ही शानदार रही। वार्नर और फिंच की ओपनिंग जोड़ी ने जमकर रन बटोरे। वार्नर ने 600 और फिंच ने 500 से ज्यादा रन बनाए। मिशेल स्टार्क 27 विकेट लेकर एक विश्व कप में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बने। इंग्लैंड के खिलाफ ग्रुप मैच में कंगारू टीम की जीत अहम रही। इसके अलावा बांग्लादेश के खिलाफ 381 रन का स्कोर खड़ा कर ऑस्ट्रेलिया ने दमदार बल्लेबाजी का लोहा मनवाया।

टीम का नकारात्मक पहलू

अहम मुकाबलों में टीम के बल्लेबाज दबाब झेलने में नाकाम रहे। ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल गेंद और बल्ले दोनों से नाकाम रहे। 10 मुकाबले खेलने के बाद उन्होंने 177 रन ही बनाए जबकि 49 ओवर की गेंदबाजी करने के बाद उनके खाते में एक भी विकेट नहीं आया। पैट कमिंस टीम को अहम कामयाबी दिलाने में नाकाम रहे। अनुभवी स्पिनर नाथन लियोन का भी टीम को फायदा नहीं मिल पाया। चार मैच खेलकर उन्होंने सिर्फ तीन विकेट हासिल किए।

विश्‍व कप से जुड़े आकड़े

सर्वाधिक रन- डेविड वार्नर इस विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले गेंदबाज रहे। 10 मुकाबलों में वार्नर ने 3 शतक और 3 अर्धशतकीय पारी की बदौलत 71.88 की औसत के कुल 647 रन बनाए। इसमें उनकी 166 रन की सर्वश्रेष्ठ पारी भी शामिल रही।

सर्वाधिक विकेट- मिशेल स्टार्क ने 10 मैच में कुल 27 विकेट हासिल किए जो किसी भी एक विश्व कप में गेंदबाज द्वारा हासिल किया गया सर्वाधिक विकेट है। उन्होंने अपने हम वतन ग्लेन मैक्ग्रा के रिकॉर्ड को तोड़ा। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 26 रन देकर 5 विकेट हासिल करना रहा।