भारत ने 4 मैचों की सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 2-1 से हरा दिया © AFP
भारत ने 4 मैचों की सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 2-1 से हरा दिया © AFP

जब-जब भारत और ऑस्ट्रेलिया की टीमें आमने-सामने होतीं हैं। तब-तब दोनों देशों के बीच कुछ ना कुछ ऐसा जरूर होता है जो सुर्खियां बन जाता है। जब भी दोनों टीमें भिड़तीं हैं तो उस समय क्रिकेट तो अपने सर्वोच्च पर होता ही है, लेकिन इसके अलावा मैदान के अंदर और बाहर भी दोनों देशों के बीच काफी कुछ घटता है जो कि विवाद का रूप ले लेता है। साल 2008 का भारत का वो ऑस्ट्रेलिया दौरा कौन भूल सकता है। जिसमें एंड्रू साइमंड्स और हरभजन सिंह के बीच विवाद इतना बढ़ गया था कि नौबत सीरीज के रद्द होने की आ गई थी। इस सीरीज में भी कई ऐसे विवाद हुए जिसने दोनों देशों की मीडिया का ध्यान खींचा। और दोनों तरफ से एक-दूसरे को बुरा भला कहा गया। तो आइए जानते इस सीरीज के कौन से वो 5 बड़े विवाद रहे जिन्होंने सबका ध्यान अपनी तरफ खींचा।

स्टीवन स्मिथ का डीआरएस विवाद: इस विवाद को अगर सीरीज में सभी विवादों का जन्मदाता कहा जाए तो बिल्कुल भी गलत नहीं होगा। दरअसल, हुआ ये था कि दूसरे टेस्ट मैच में 20.3 ओवर में मेश यादव की गेंद स्टीवन स्मिथ के पैड पर लगी, जिसके बाद उमेश और अन्य भारतीय खिलाड़ियों की अपील पर अंपायर ने स्मिथ को आउट करार दे दिया। लेकिन आउट होने के बाद स्मिथ ने पहले दूसरे छोर पर खड़े पीटर हेंड्सकॉम्ब से डीआरएस लेने के लिए सलाह ली और इसके बाद वह ड्रेसिंग रूम से इशारा करके पूछने लगे। स्मिथ की इस हरकत पर विराट कोहली के साथ-साथ भारतीय खिलाड़ियों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और बाद में अंपायर को स्मिथ को पवेलियन जाने का इशारा करना पड़ा। हालांकि स्मिथ इसके बाद पवेलियन लौट गए। स्मिथ ने मैच के बाद इस वाकये को ‘ब्रेन फेड’ का नाम दिया था। इन पांच कारणों से भारत ने ऑस्ट्रेलिया को चटाई सीरीज में धूल

इसके बाद दोनों देशों की तरफ से एक-दूसरे पर कीचड़ उछाला गया। स्मिथ की इस हरकत पर बीसीसीआई ने शिकायत दर्ज करा दी थी। लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने भी अपने खिलाड़ी का पूरा साथ दिया और स्मिथ के बचाव में आ गए। हालांकि बीसीसीआई ने बाद में शिकायत वापस ले ली थी।

कोहली की चोट का विवाद: दूसरे ही टेस्ट में एक और विवाद तब देखने को मिला जब विराट कोहली चोटिल हो गए और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने उनकी चोट का मजाक बनाया। दरअसल, 39वें ओवर में जडेजा की गेंद को पीटर हैंड्सकॉम्ब ने लॉन्ग ऑन की दिशा में खेला। कोहली गेंद को रोकने के लिए दौड़े लेकिन गेंद को रोकने की कोशिश में वह अपना कंधा घायल कर बैठे। कोहली दर्द में नजर आ रहे थे और अंततः उन्होंने मैदान से बाहर जाने का निर्णय लिया।

इसके बाद भारतीय पारी के दौरान जब कोहली बल्लेबाजी कर रहे थे और उन्होंने एक बेहतरीन शॉट खेला। जिसे मैक्सवेल ने गजब की फील्डिंग करते हुए बाउंड्री के बाहर जाने से रोक लिया। लेकिन मैक्सवेल जब खड़े हुए तो वह अपने कंधे को पकड़कर मुस्कुरा रहे थे, मैक्सवेल को देख कर साफ लग रहा था कि वह कोहली का मजाक बना रहे हैं। लेकिन इसके बाद जब ऑस्ट्रेलियाई टीम मैच हारी तो कोहली को कई बार गुस्से में अपने कंधे पर हाथ मारते देखा गया। मानो वह अपना बदला ले रहे हों। ये भी पढ़ें: हार के बाद स्टीवन स्मिथ ने दिया टीम इंडिया को बीयर पार्टी का न्योता

ऑस्ट्रेलियन मीडिया ने विराट कोहली को बता दिया डोनाल्ड ट्रंप: सीरीज जैसे-जैसे आगे बढ़ती जा रही थी। वैसे-वैसे विवादों का दौर भी तेज और तीखा होता जा रहा था। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने भी विराट कोहली पर जमकर निशाना साधा। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने भारतीय कप्तान विराट कोहली को विश्व खेलों का डोनाल्ड ट्रंप करार दे दिया। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि कोहली उनके खिलाड़ियों के खिलाफ झूठी खबरें फैला रहे हैं। मीडिया ने कहा, ”ट्रंप की ही तरह कोहली अपनी कमियों को छिपाने के लिए मीडिया को आरोपी ठहरा रहे हैं । वह अपने आप में कानून बन गए हैं और गलत खबरें फैलाने पर भी बीसीसीआई या आईसीसी उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे।’’ मौजूदा सीरीज में कोहली ने कहा कि ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने डीआरएस फैसला लेते समय ड्रेसिंग रूम की मदद ली।

स्मिथ ने एक मौके पर यह बात स्वीकारी लेकिन इससे इनकार किया कि उन्होंने हर बार ऐसा किया। तीसरे टेस्ट के दौरान डेविड वार्नर के आउट होने पर कोहली ने अपना कंधा पकड़कर विकेट का जश्न मनाया, चूंकि स्मिथ ने उनकी कंधे की चोट का मजाक उड़ाया था। लेख में कहा गया कि ऐसी कोई फुटेज उपलब्ध नहीं है और प्रसारक ने स्मिथ से माफी मांग ली थी। क्योंकि उसी पर दावा किया गया था कि स्मिथ ने कोहली की कंधे की चोट का मजाक उड़ाया। लेख में कहा गया, ‘‘टीवी फुटेज से साफ था कि एक साथी खिलाड़ी ने स्मिथ के कंधे पर हाथ रखा था।’’

इस विवाद में भारत के महानायक अमिताभ बच्चन भी कूद पड़े थे और उन्होंने ऑस्ट्रेलियन मीडिया पर पलटवार करते हुए कहा था कि धन्यवाद आपने आखिरकार मान ही लिया कि कोहली क्रिकेट की दुनिया के चैंपियन हैं। वहीं इससे पहले भी ऑस्ट्रेलियन मीडिया ने कोहली की तुलना जानवरों से की थी।

ब्रैड हॉज ने विराट कोहली पर लगाया बड़ा आरोप: चोट के कारण कोहली आखिरी टेस्ट में नहीं खेले और ऑस्ट्रेलिया के ब्रैड हॉज ने उनपर बड़ा आरोप लगा दिया। ब्रैड हॉज ने अजीब सा कटाक्ष करते हुए कहा कि चोट के कारण धर्मशाला में चौथे टेस्ट में नहीं खेलने वाले भारतीय कप्तान विराट कोहली अगले महीने से शुरू होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग के लिये खुद को बचाकर रख रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह ‘काफी बुरा’ होगा अगर कोहली पांच अप्रैल को आईपीएल के रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के कप्तान के तौर पर शुरुआती मैच में डेविड वार्नर की सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ खेलने उतरते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘क्योंकि अगर आप टेस्ट क्रिकेट का एक मैच नहीं खेल रहे हो और आप अगले ही हफ्ते आरसीबी के लिये खेलते हो तो यह काफी बुरा संदेश होगा क्योंकि वह आस्ट्रेलिया के खिलाफ अहम सीरीज जीतने की कोशिश करने के लिये नहीं खेला। ’’ हॉज ने कहा, ‘‘ऐसा पहले भी हुआ है। विराट ही नहीं बल्कि ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो आईपीएल के लिये समय पर उबर गए। ’’

स्मिथ ने दी मुरली विजय को गाली और जडेजा का वेड से विवाद: दूसरे टेस्ट से शुरू हुआ विवादों का दौर अंतिम टेस्ट के चौथे दिन तक जारी रहा। अंतिम टेस्ट में पहले जडेजा और वेड के बीच जमकर कहासुनी हुई और इसके बाद स्मिथ ने मुरली विजय को गाली दे दी। हुआ ये कि 33वें ओवर में अश्विन की गेंद पर मैक्सवेल को अंपायर मराइस इरासमस ने एलबीडब्ल्यू आउट दिया जिसके बाद मैक्सवेल ने तुरंत ही डीआरएस लिया। रीप्ले देखने के बाद थर्ड अंपायर ने मैक्सवेल को आउट दे दिया और वो पैवेलियन की तरफ लौटने लगे। लेकिन तभी गुस्साए वेड ने भारतीय खिलाड़ियों के साथ बहस करनी शुरू कर दी और ऑफ स्पिनर आर अश्विन को बीच-बचाव करना पड़ा। वेड जडेजा से बहस कर रहे थे, जडेजा भी इसमें बराबर जवाब दे रहे थे लेकिन अश्विन ने उन्हें हटाया। जिसके बाद वेड क्रीज पर वापस चले और मुरली विजय से बहस करने लगे। इसके बाद दोनों अंपायरों ने भारतीय कप्तान अजिंक्य रहाणे और रविंद्र जडेदा को बुलाकर मामला शांत करने की कोशिश की। जडेजा की बल्लेबाजी के दौरान भी मैथ्यू वेड जडेजा से उलझ रहे थे और जडेजा उन्हें करारा जवाब दे रहे थे। [ये भी पढ़ें-ऑस्ट्रेलियन खिलाड़ियों को कभी दोस्त नहीं कहूंगा-विराट कोहली]

वहीं इसके बाद स्टीवन स्मिथ ने ड्रेसिंग रूम से मुरली विजय को अपशब्द कहे। दरअसल ये वाकया उस वक्त हुआ जब मुरली विजय गली पर फील्डिंग कर रहे थे और उन्होंने अश्विन की गेंद पर जोश हेजलवुड का कैच पकड़ा। कैच बेहद करीबी था इसलिए फील्ड अंपायर ने थर्ड अंपायर से मदद मांगी लेकिन मुरली विजय को अपने कैच पकड़ने पर विश्वास था, उनका मानना था कि उन्होंने हेजलवुड का सही कैच पकड़ा है। लेकिन रीप्ले देखने पर साफ हुआ कि गेंद मुरली विजय के हाथों में जाने से पहले जमीन पर गिरी थी। बस ये सब देखकर ड्रेसिंग रूम में बैठे ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ भड़क गए और उन्होंने मुरली विजय को गाली दी।

स्टीवन स्मिथ की ये हरकत कैमरों में भी कैद हुई और उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। स्टीवन स्मिथ ने मुरली विजय को अपशब्द कहते हुए चीटर(बेईमान) बताया। ऐसा पहली बार नहीं है कि इस सीरीज में चीटर(बेईमान) शब्द का इस्तेमाल हुआ है। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ के खिलाफ भी इस शब्द का इस्तेमाल हुआ था।