© Getty Images
© Getty Images

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच दूसरा वनडे कोलकाता के ईडन गार्डन्स में होना है। इस मैदान पर टीम इंडिया का लक्ष्य सीरीज में अपनी बढ़त को और बढ़ाना होगा वहीं कंगारू टीम इस कोलकाता में चेन्नई का हिसाब बराबर करना चाहेगी। लेकिन सवाल ये है कि क्या ऑस्ट्रेलियाई टीम ऐसा कर सकती है? इसका जवाब है…हां ऐसा हो सकता है। दरअसल ईडन गार्डन्स ऑस्ट्रेलिया के लिए लकी मैदान है वहीं दूसरी ओर टीम इंडिया का प्रदर्शन यहां खराब है। आइए डालते हैं ईडन गार्डन्स के 3 बड़े आंकड़ों पर एक नजर।

1. ईडन गार्डन्स में ऑस्ट्रेलिया है अजेय- ऑस्ट्रेलियाई टीम ने कोलकाता के ईडन गार्डन्स में एक भी मैच नहीं गंवाया है। इस मैदान पर कंगारू टीम ने दो वनडे खेले हैं और दोनों में उसे जीत मिली है। साल 1987 में ऑस्ट्रेलिया ने अपना पहला वर्ल्ड कप कोलकाता के इसी ऐतिहासिक मैदान पर जीता था। वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को 7 रन से मात दी थी। इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम ने भारतीय टीम को भी टीवीएस कप में मात दी थी। 18 नवंबर 2003 को हुए इस फाइनल मैच में कंगारू टीम की 37 रनों से जीत हुई थी।

2. ईडन गार्डन्स में टीम इंडिया का खराब रिकॉर्ड- भारत का ईडन गार्डन्स मैदान पर कुछ खास अच्छा रिकॉर्ड नहीं है। यहां उसने अबतक 21 वनडे मैच में 11 में जीत दर्ज की है। 8 में उसे हार मिली है जबकि दो मैचों का नतीजा नहीं निकल सका। वैसे पिछले 8 मैचों की बात करें तो टीम इंडिया ने यहा 5 मैच गंवाए हैं। पिछले मुकाबले में भी टीम इंडिया ईडन गार्डन्स में इंग्लैंड से 5 रनों से हार गई थी। गलतियों को दोहराया तो कोलकाता वनडे में हारेगी टीम इंडिया!

3. ईडन गार्डन्स में रोहित-विराट-धोनी का जलवा: ईडन गार्डन्स में टीम इंडिया के ओपनर रोहित शर्मा, कप्तान विराट कोहली और एम एस धोनी का बल्ला जमकर चलता है। रोहित शर्मा ने इस मैदान पर एक ही मैच खेला है जिसमें उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ वनडे इतिहास की सबसे बड़ी पारी खेल डाली थी। रोहित शर्मा ने साल 2014 में ईडन गार्डन्स में 264 रन बना डाले थे। विराट कोहली ने भी इस मैदान पर 5 मैच में 46.80 के औसत से 234 रन बनाए हैं, जिसमें वो 1 शतक और 2 अर्धशतक लगा चुके हैं। एम एस धोनी ने ईडन गार्डन्स में 4 पारियां खेली हैं जिसमें उन्होंने 84 के औसत से 168 रन बनाए हैं। इस दौरान उनके बल्ले से दो अर्धशतक निकले हैं।