© AFP
© AFP

5 मैचों की वनडे सीरीज में भले ही टीम इंडिया ने चेन्नई में खेला गया पहला मुकाबला जीत लिया लेकिन इस मुकाबले में उसने कई ऐसी गलतियां की जिन्हें अगर वो कोलकाता में भी दोहराएगी तो उसे हार मिलेगी। चेन्नई वनडे मैच में टीम इंडिया की फील्डिंग और बल्लेबाजों का शॉट सेलेक्शन बेहद ही खराब रहा। यही वजह है कि टीम इंडिया ने बल्लेबाजी के दौरान पहले 5 विकेट जल्दी गंवाए और फील्डिंग में भी टीम इंडिया ने एक-दो नहीं बल्कि तीन कैच टपकाए। यहां तक कि विकेट के पीछे विकेटकीपर एम एस धोनी से भी गलती हुई। आइए डालते हैं टीम इंडिया की उन कमजोरियों पर जिन्हें कोलकाता वनडे के दौरान सुधारना जरूरी है।

खराब शॉट सेलेक्शन- टीम इंडिया ने भले ही पहले वनडे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 281 रनों का स्कोर खड़ा किया लेकिन इस दौरान उसके बल्लेबाजों का शॉट सेलेक्शन बेहद ही खराब रहा। रोहित शर्मा, हार्दिक पांड्या और एम एस धोनी बाल-बाल आउट होने से बचे। 5वें ओवर में कमिंस की गेंद पर रोहित शर्मा ने खराब शॉट खेला और गेंद स्लिप में खड़े ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ के हाथ में गई, लेकिन उन्होंने रोहित का कैच टपका दिया।

रोहित शर्मा के अलावा हार्दिक पांड्या ने भी अपनी 83 रन की पारी के दौरान एक खराब शॉट खेला जिसमें वो आउट होने से बाल-बाल बचे। 28वें ओवर में कूल्टर नाइल की गेंद पर पांड्या को जीवनदान मिला। गेंद पांड्या के बल्ले का किनारा लेकर फर्स्ट स्लिप पर खड़े स्मिथ के पास गई और उन्होंने ये कैच भी छोड़ दिया। पांड्या का जब ये कैच छूटा तो वो सिर्फ 13 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे। अगर स्मिथ ये कैच लपक लेते तो मैच का नतीजा भारत के खिलाफ भी हो सकता था। चेन्नई वनडे के दौरान टीम इंडिया की विकेट के बीच खराब रनिंग देखने को मिली। 22वें ओवर में केदार जाधव ने धोनी को लगभग रन आउट करा दिया था। उस वक्त धोनी सिर्फ 7 रन पर खेल रहे थे। [ये भी पढ़ें: हार्दिक पांड्या से 3 छक्के खाने के बाद एडम जंपा ने बयां किया अपना ‘दर्द’]

खराब फील्डिंग

केट के खेल में कहावत है कि ‘पकड़ो कैच, जीतो मैच’, लेकिन चेन्नई वनडे के दौरान टीम इंडिया ने 1-2 नहीं बल्कि 3 कैच छोड़े और विकेटकीपर एम एस धोनी ने भी स्टंपिंग का एक मौका गंवाया। 13वें ओवर में कुलदीप यादव की गेंद पर धोनी ने स्टंपिंग छोड़ी और स्टोइनिस को मौका दिया। लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने दो कैच टपकाए। उन्होंने 13.2 ओवर में अपनी ही गेंद पर मैथ्यू वेड का कैच छोड़ा और उसके बाद 15.2 ओवर में एक बार फिर चहल ने फॉकनर को जीवनदान दिया। और तो और टीम इंडिया के सबसे काबिल फील्डर्स में से एक अजिंक्य रहाणे ने भी 15.5 ओवर में पैट कमिंस का कैच टपकाया।