ग्लेन मैक्सवेल © IANS
ग्लेन मैक्सवेल © IANS

भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के दूसरे दिन ग्लेन मैक्सवेल ने बेहतरीन बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश करते हुए अपने टेस्ट करियर का पहला शतक ठोक डाला। जैसे ही ग्लेन मैक्सवेल ने अपने टेस्ट करियर का पहला शतक पूरा किया। मैक्सवेल ने भारत के खिलाफ बेहतरीन बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश करते हुए शानदार 104 रनों की पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 9 चौके और 2 छक्के लगाए। मैक्सवेल के टेस्ट करियर का यह पहला शतक है। साथ ही इस पारी से पहले उनपर काफी दबाव था। क्योंकि हर कोई उन्हें सीमित ओवरों का बल्लेबाज ही मानता था। ऐसे में मुश्किल भारतीय पिचों पर उन्होंने गजब की एकाग्रता का परिचय दिया और शानदार खेल दिखाया। तीसरे टेस्ट में जब मैक्सवेल खेलने उतरे तो हालात कुछ अच्छे नहीं थे और ऑस्ट्रेलियाई टीम दबाव में थी। लेकिन मैक्सवेल ने अपने कप्तान स्टीवन स्मिथ का बखूबी साथ दिया और धीरे-धीरे अपनी पारी को आगे बढ़ाया। वहीं जब उन्हें कोई कमजोर गेंद मिल रही थी, तो वह उसे बाउंड्री के बाहर भेजने से भी नहीं हिचक रहे थे। आइए जानते हैं मैक्सवेल के शतक से जुड़ी 4 बड़ी बातें।

तीनों प्रारूपों में शतक लगाने वाले दुनिया के 13वें और ऑस्ट्रेलिया के दूसरे बल्लेबाज: जैसे ही मैक्सवेल ने तीसरे टेस्ट में भारत के खिलाफ शतक ठोका। वैसे ही उन्होंने एक अनोखे कारनामे को अंजाम दिया। शतक लगाते ही मैक्सवेल अब खेल के तीनों फॉर्मेट में शतक लगाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। और इस लिहाज से वह ऐसा करने वाले दुनिया के 13वें और ऑस्ट्रेलिया के दूसरे खिलाड़ी बन गए। मैक्सवेल से पहले ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सिर्फ शेन वॉटसन के नाम ही इस कारनामे को अंजाम देने का रिकॉर्ड दर्ज था। मैक्सवेल के वनडे में 1 शतक, टी20I में 1 शतक और अब टेस्ट में भी उनके नाम एक ही शतक है। वॉटसन के नाम टेस्ट में 4 शतक, वनडे में 9 और टी20I में 1 शतक है।[भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा क्रिकेट टेस्ट मैच, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें…]

साल 2014 के बाद छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए ऑस्ट्रेलिया की तरफ से पहला शतक: काफी लंबं समय से ऑस्ट्रेलिया के लिए छठे नंबर पर खेलते हुए किसी भी बल्लेबाज ने शतक नहीं लगाया था। लेकिन मैक्सवेल ने भारत के खिलाफ शतक लगाकर ये कारनामा भी कर डाला। मैक्सवेल से पहले ऑस्ट्रेलिया की तरफ से साल 2014 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक लगाने का रिकॉर्ड कप्तान स्टीवन स्मिथ के नाम था और इसके बाद 3 साल से कोई भी बल्लेबाज ऐसा करने में सक्षम नहीं हो पा रहा था। लेकिन भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में मैक्सवेल ने शतकों के सूखे को खत्म कर दिया।

भारत में छठे नंबर पर शतक लगाने वालेकुल चौथे बल्लेबाज: ग्लेन मैक्सवेल छठे नंबर पर शतक लगाते ही भारत में इस क्रम पर खेलते हुए शतक लगाने वाले कुल चौथे बल्लेबाज बन गए। ग्लेन मैक्सवेल से पहले ये कारनामा साल 1969 में पी शेहन ने कानपुर में (114), साल 2004 में माइकल क्लार्क ने बैंगलोर में (151) और साल 2010 में मार्कस नॉर्थ ने (128) बैंगलोर में बनाए थे। अब मैक्सवेल ने भी छठे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक लगाया और वह ऐसा करने वाले कुल चौथे बल्लेबाज बन गए हैं। भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया तीसरे टेस्ट के दूसरे दिन के लाइव ब्लॉग को पढ़ने के लिए क्लिक करें

ग्लेन मैक्सवेल के करियर का सबसे धीमा शतक: ये तो सभी जानते हैं कि ग्लेन मैक्सवेल अपनी तूफानी बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। और इसी लिहाज से उन्होंने अब तक अपने क्रिकेट करियर में जितने भी शतक लगाए हैं। वो सभी बेहद ही तेज तर्रार खेलकर बनाए हैं। लेकिन भारत के खिलाफ मैक्सवेल का ये शतक उनके करियर का सबसे ज्यादा गेंदों में आया है। मैक्सलवेल ने भारत के खिलाफ 180 गेंदों में शतक लगाया है। जो कि उनके करियर का सबसे धीमा है। इससे पहले उन्होंने 147 गेंदों में सबसे धीमा शतक लगाया था।