सीरीज में 1-1 से बराबरी पर है दोनों टीमें  © IANS
सीरीज में 1-1 से बराबरी पर है दोनों टीमें © IANS

बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी का तीसरा टेस्ट आज रांची के झारखंड स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम में खेला जाना है। चार टेस्ट मैचों की इस सीरीज में एक-एक मैच जीतकर दोनों टींमें बराबरी पर हैं। इस मैच को जीतकर दोनों में से कोई एक टीम सीरीज में बढ़त बना लेगी। फिलहाल दोनों ही टीमों में अंतिम एकादश को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है। ऑस्ट्रेलिया टीम को मिचेल मार्श और मिचेल स्टार्क के चोट के कारण दौरे से बाहर होने पर तगड़ा झटका लगा है। वहीं भारतीय टीम में भी सलामी बल्लेबाज मुरली विजय के कंधे की चोट के ठीक होने की कोई खबर नहीं आई है। यहां हम बात करने जा रहे दोनों टीमों के संभावित 11 खिलाड़ियों की जो रांची टेस्ट में खेल सकते हैं।

शीर्ष क्रम: टीम इंडिया की सबसे बड़ी परेशानी उनका शीर्ष क्रम रहा है। बैंगलौर में खेले गए दूसरे टेस्ट में मुरली विजय चोट के कारण बाहर रहे थे। कोहली ने उनकी जगह अभिनव मुकुंद को मौका दिया था जो कि दोनों ही पारियों में फ्लॉप रहे थे। अब कोहली तीसरे टेस्ट के लिए विजय को वापस अंतिम एकादश का हिस्सा बनाएंगे। वहीं उनके जोड़ीदार के एल राहुल जबरदस्त फॉर्म में चल रहे हैं। टीम इंडिया के शीर्ष क्रम की जिम्मेदारी मुरली विजय, के एल राहुल और चेतेश्वर पुजारा के कंधों पर रहेगी।

मेहमान टीम का शीर्ष क्रम भी काफी मजबूत है। डेविड वॉर्नर जैसे अनुभवी खिलाड़ी के साथ युवा मैथ्यू रैनशॉ की जोड़ी ऑस्ट्रेलिया के लिए सफल साबित हुई है। वहीं तीसरे स्थान पर कप्तान स्टीवन स्मिथ खुद उतरते हैं। स्मिथ टेस्ट के शीर्ष बल्लेबाज है और उनके रहते हुए ऑस्ट्रेलियन टीम के शीर्ष क्रम को कोई खतरा नहीं है।

मध्य क्रम: टेस्ट क्रिकेट में मध्य क्रम का क्या महत्व है यह तो सभी ने बैंगलौर टेस्ट में देख लिया। अगर चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे शतकीय साझेदारी ना बनाते तो मैच दूसरे दिन से ही भारत के हाथों से फिसल जाता। भारत के मध्य क्रम की सबसे मजबूत कड़ी कप्तान विराट कोहली इन दिनों फेल होते दिख रहे हैं, कोहली ने दूसरे टेस्ट में पहली पारी में 12 और दूसरी में 15 रन ही बनाए। हालांकि कोहली ऐसा कह चुके हैं कि विपक्षी गेंदबाजों का सारा ध्यान उन पर होने से टीम को फायदा मिल रहा है। उम्मीद है की तीसरे टेस्ट में कोहली बड़ी पारी खेलेंगे। वहीं कोहली का साथ देंगे अजिंक्य रहाणे, जिन्होंने बैंगलौर टेस्ट में शानदार अर्धशतक जमाया था। अब तक रहाणे पर टीम से बाहर होने का खतरा था लेकिन दूसरे टेस्ट में उनकी 52 रनों की संघर्षपूर्ण पारी की बदौलत उनकी जगह एक बार फिर पक्की हो गई है। टीम इंडिया के मध्य क्रम के तीसरे बल्लेबाज है रिद्धिमान साहा। साहा अब तक विकेट के पीछे को सुपरहिट रहे हैं लेकिन बल्लेबाजी में कोई कमाल नहीं दिखा पाएं हैं। साहा के लिए तीसरा टेस्ट अहम होगा।

ऑस्ट्रेलियाई टीम का मध्य क्रम भी मजबूत है। चौथे नंबर के बल्लेबाज शॉन मार्श का प्रदर्शन अब तक इस सीरीज में बढ़िया रहा है। उन्होंने दूसरे टेस्ट में सर्वाधिक 66 रन बनाए थे। वहीं पांचवे स्थान पर पीटर हैंड्सकॉम्ब भी बढ़िया बल्लेबाजी हैं लेकिन अब तक वह इस दौरे पर कोई बेहतरीन पारी नहीं खेल पाएं हैं। हालांकि तीसरे टेस्ट में उनकी जगह फिर भी निश्चित ही रहेगी। दूसरे टेस्ट में छठें स्ठान पर मिचेल मार्श ने बल्लेबाजी की थी लेकिन वह फिलहाल चोट के चलते टीम से बाहर है इसलिए तीसरे टेस्ट में उनकी जगह टीम में शामिल किए गए पैट कमिन्स को यह स्थान दिया जा सकता है। उम्मीद यह भी है कि विकेटकीपर बल्लेबाज मैथ्यू वेड को छठें स्थान पर भेजकर कमिन्स को निचले क्रम में बल्लेबाजी करने के लिए भेजा जा सकता है।

स्पिन गेंदबाजी: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज में स्पिन सबसे बड़ा फैक्टर साबित हुआ है। दोनों ही टीमों के स्पिन गेंदबाजों ने लगातार विकेट चटकाए हैं। भारत के पास रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे विश्वस्तरीय स्पिनर्स हैं वहीं तीसरे स्पिन गेंदबाज के लिए जयंत यादव और कुलदीप यादव विकल्प हैं। रांची के मैदान पर कोहली चार गेंदबाजों के साथ उतरेंगे या पांच गेंदबाजों के साथ यह तय नहीं है। कोहली अगर पांच गेंदबाजों के साथ खेलते हैं तो उम्मीद है कि चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव को इस सीरीज में उनका पहला मौका मिल सकता है। वहीं अगर कोहली ने चार गेंदबाजों की रणनीति अपनाई तो करुण नायर को एक और मौका मिल सकता है।

ऑस्ट्रेलिया के स्पिन डिपार्टमेंट का नेतृत्व करेंगे नाथन लॉयन और उनका साथ देंगे स्टीव ओ कीफी। ऑस्ट्रेलिया का तीसरा स्पिन गेंदबाज मिचेल मॉर्श इस टेस्ट मैच में नहीं खेल रहा है लेकिन इससे मेहमान टीम को ज्यादी फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि मार्श का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है।

तेज गेंदबाजी: भारतीय तेज गेंदबाजों ने इस सीरीज में अब तक उम्दा प्रदर्शन किया है। उमेश यादव और ईशांत शर्मा दोनों ने ही विपक्षी टीम को खूब परेशान किया है। भारतीय तेज गेंदबाजों ने विकेट तो लिए ही साथ ही रन भी बचाए। हालांकि ईशांत ने कई बात नो बॉल फेंकी और कई अतिरिक्त रन लुटाए। रांची के मैदान पर भी भारतीय तेज गेंदबाजी का जिम्मा भी यही दो वरिष्ठ खिलाड़ी संभालेंगे।

ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाजी डिपार्टमेंट को मिचेल स्टार्क के जाने से बड़ा झटका लगा है। स्टार्क ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख गेंदबाज है और उनके टीम में ना रहने पर मेजबान टीम को राहत जरूर मिली है। हालांकि अब भी जाश हेजलवुड टीम में मौजूद है। वहीं स्टार्क की जगह जैक्सन बर्ड को मौका दिया जा सकता है। भारत ए के खिलाफ अभ्यास मैच में उनका प्रदर्शन काफी अच्छा रहा था। वहीं पैट कमिन्स भी गेंदबाजी का जिम्मा संभाल सकते हैं।

दोनों टीमों के अंतिम एकादश इस प्रकार हो सकते हैं:

भारतीय टीम- के एल राहुल, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, रिद्धिमान साहा, रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा, उमेश यादव, इशांत शर्मा, कुलदीप यादव/करुण नायर।

ऑस्ट्रेलिया टीम- मैथ्यू रैनशॉ, डेविड वॉर्नर, स्टीव स्मिथ, शॉन मार्श, पीटर हैंड्सकॉम्ब, मैथ्यू वेड, पैट कमिन्स, स्टीव ओ फीफ, जॉश हैजलवुड, नाथन लॉयन, जैक्सन बर्ड।