भारतीय टीम © PTI
भारतीय टीम © PTI

टीम इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रही 5 मैचों की वनडे सीरीज का चौथा मुकाबला बैंगलोर के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला जाना है। वैसे तो टीम इंडिया सीरीज में पहले ही 3-0 की अजेय बढ़त हासिल कर चुकी है लेकिन बैंगलोर वनडे में भी जीत हासिल करना उसके लिए बेहद अहम है। दरअसल टीम इंडिया बैंगलोर वनडे जीतकर कई बड़े रिकॉर्ड अपने नाम कर सकती है। बैंगलोर के मैदान पर कैसा है टीम इंडिया का प्रदर्शन, कैसी है बैंगलोर की पिच, आइए एक नजर डालते हैं कुछ बड़े आंकड़ों पर एक नजर:

1. बैंगलोर में टीम इंडिया के पास इतिहास रचने का मौका है। टीम इंडिया ने विराट कोहली की कप्तानी में 9 वनडे मैच लगातार जीते हैं। अगर टीम इंडिया बैंगलोर वनडे भी जीत जाती है तो भारतीय क्रिकेट इतिहास में पहली बार कोई कप्तान 10 वनडे मैच लगातार जीतेगा। वैसे वर्ल्ड क्रिकेट की बात करें तो इंग्लैंड, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज, श्रीलंका, द.अफ्रीका और वेस्टइंडीज लगातार 10 वनडे मैच जीतने का कारनामा कर चुकी हैं।

2. एकतरफ जहां भारतीय टीम जीत का रिकॉर्ड बना सकती है वहीं दूसरी ओर ऑस्ट्रेलियाई टीम के ऊपर हार का अनचाहा रिकॉर्ड बनाने का खतरा मंडरा रहा है। ऑस्ट्रेलियाई टीम अगर भारतीय टीम से बैंगलोर में हार गई तो ये उसकी लगातार 7वीं वनडे हार होगी। ऑस्ट्रेलियाई इतिहास में कोई भी टीम अबतक 7 वनडे मैच लगातार नहीं हारी है। वैसे विदेशी धरती की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया को पिछले 14 मैचों से वनडे मैच में जीत नसीब नहीं हुई है।

3. बैंगलोर के मैदान पर टीम इंडिया का प्रदर्शन बेहद ही अच्छा रहा है। चिन्नास्वामी स्टेडियम में टीम इंडिया पिछले 14 सालों से नहीं हारी है। टीम इंडिया ने साल 2003 में ऑस्ट्रेलिया से मैच गंवाया था लेकिन उसके बाद टीम इंडिया बैंगलोर में खेले गए 6 में से 5 मैच जीती, जबकि एक मैच इंग्लैंड के खिलाफ टाई रहा।

4. विराट कोहली को बैंगलोर के चिन्नास्वामी स्टेडियम की पिच रास नहीं आती। बैंगलोर में विराट कोहली का रिकॉर्ड बेहद ही खराब है। उन्होंने यहां 4 वनडे पारियों में सिर्फ 42 रन ही बनाए हैं। इस मैदान पर वो दो बार शून्य पर पैवेलियन लौट चुके हैं। ये भी पढ़ें: बल्ला बदलने की वजह से टीम इंडिया के खिलाफ फेल हो रहे हैं डेविड वॉर्नर?

5. बैंगलोर वनडे डेविड वॉर्नर के वनडे करियर का 100वां मैच होगा। डेविड वॉर्नर ने 2009 में वनडे डेब्यू किया था और पिछले 8 सालों में वो 44.01 की औसत से 4093 रन बना चुके हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 13 शतक और 16 अर्धशतक निकल चुके हैं।