India vs Australia 5th odi: 5 reasons why India lost the final odi at Feroz Shah Kotla, Delhi

भारत में आकर ऑस्ट्रेलिया ने घरेलू टीम को मात देकर विश्व कप से पहले उसकी आंखे खोल दी है। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया ने एक बार फिर से भारतीय टीम की कमियों को सामने ला दिया। चलिए, जानते हैं भारतीय टीम से इस मुकाबले में कहां हुई चूक।

उस्मान ख्वाजा का शतक

ऑस्ट्रेलिया के ओपनर उस्मान ख्वाजा ने इस मैच में शतक जमाकर यह तय किया की टीम एक ऐसे स्कोर तक पहुंच सके जहां से गेंदबाज लड़ने लायक रहे। ख्वाजा ने ना सिर्फ शतकीय पारी खेली बल्कि पहले विकेट के लिए एरोन फिंच के साथ मिलकर 76 रन और पीटर हैंड्सकॉम्ब के साथ दूसरे विकेट के लिए 99 रन की भागेदारी की। ख्वाजा की शतकीय पारी के बाद यह साफ हो गया सीरीज में रनों का अंबार लगाने वाले इस बल्लेबाज के खिलाफ टीम इंडिया की प्लानिंग फेल रही।

पढ़ें:- भारत को 35 रन से हरा ऑस्ट्रेलिया ने 3-2 से जीती वनडे सीरीज

चौथे नंबर पर रिषभ पंत

भारतीय टीम के लिए चौथा नंबर लगातार चर्चा का विषय बना हुआ है। इस मैच में सीरीज दांव पर लगी हुई थी लेकिन रिषभ पंत के साथ टीम ने प्रयोग किया। पंत के लिए यह विश्व कप से पहले खुद को साबित करने का मौका था लेकिन अपनी ही शैली में बल्लेबाजी करने की वजह से वह महज 16 रनाकर आउट हो गए। भारत के सामने 273 रन का लक्ष्य था लिहाजा पंत को वक्त बिताने की जरूरत थी लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और नतीजा सामने है। पंत को अगर इस नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा ही गया था तो उनकी भूमिका भी साफ करनी चाहिए थी। चौथे नंबर पर पारी को संवारने की जरुरत होती है आते ही बड़े शॉट खेलने की नहीं।

जाधव – भुवनेश्वर की जोड़ी टूटी

भारतीय टीम को केदार जाधव और भुवनेश्वर कुमार की जोड़ी ने मैच में वापसी कराई। भुवनेश्वर और जाधव दोनों ही इससे पहले पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ मिलकर भारत के लिए मैच जीता चुके थे। इस जोड़ी से भी एक वक्त उम्मीद जाग गई थी। भारत का स्कोर 45 ओवर के बाद 214 रन था और उसे अगले 30 गेंद पर 59 रन की जरूरत थी। पैट कमिंस ने भुवी का विकेट हासिल कर ऑस्ट्रेलिया के जीत को तय कर दिया। इसके ठीक बाद झाय रिचर्डसन की गेंद पर केदार जाधव भी अपना विकेट गंवा बैठे । यह जोड़ी जिस तरह से बल्लेबाजी कर रही थी उससे भारत के लिए जीत संभव दिख रही थी।

झाय रिचर्डसन ने बिगाड़ा भारत का खेल

ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 45 ओवर के बाद 228 रन था यहां से झाय रिचर्डसन ने पारी को उपर उठाया। झाय ने जसप्रीत बुमराह के 48वें ओवर में कमिंस के साथ मिलकर 19 रन बटोरे। इस ओवर में झाय ने तीन लगातार चौके लगाए और कमिंस ने आखिरी गेंद को बाउंड्री पार पहुंचा। इस एक ओवर की वजह से भारतीय टीम के सामने ऑस्ट्रेलिया ने 273 रन का लक्ष्य रखने में कामयाबी हासिल की।

एडम जाम्पा ने बदला मैच

सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के स्पिनर एडम जाम्पा ने लगातार बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए भारतीय टीम के बड़े-बड़े विकेट निकाले। फाइनल वनडे में भी जाम्पा के किए गए शिकार पर नजर डाले तो रोहित शर्मा का विकेट उन्होंने ऐसे वक्त हासिल किया, जब वह भारत को जीत तक पहुंचा सकते थे। जाम्पा ने विजय शंकर, रोहित शर्मा और रविंद्र जडेजा का विकेट हासिल किया। रोहित और जडेजा का विकेट को उन्होंने एक ही ओवर में झटका।