इंग्लैंड टीम © Getty Images
इंग्लैंड टीम © Getty Images

पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के 25 दिन बाद अब भारत और इंग्लैंड की टीमें वनडे सीरीज में एक- दूसरे से भिड़ेंगी। पहला वनडे 15 जनवरी को पुणे में खेला जा रहा है। इंग्लैंड को टेस्ट सीरीज में 0-4 से हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन जब वह वनडे में टीम इंडिया के सामने होगा तो ये इंग्लैंड की पूरी तरह से बदली हुई टीम होगी। इयोन मॉर्गन की अगुआई में इंग्लैंड टीम ने पिछले कुछ सालों में बेहतरीन क्रिकेट खेली है इसलिए ये सीरीज किसी भी हिसाब से अलग नहीं होगी। उन्होंने अपनी काबिलियत की झलक भी पिछले दो वॉर्म अप मैचों में दिखा दी है। अगर वे वैसी ही फॉर्म वनडे सीरीज में भी दिखाते हैं तो टीम इंडिया के लिए मु्श्किलें खड़ी हो सकती हैं।

इंग्लैंड की विपक्षी टीम के कप्तान विराट कोहली होंगे। उल्लेखनीय है कि कोहली की ही कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड टीम के टेस्ट सीरीज में परखच्चे उड़ा दिए थे। हालांकि, विराट कोहली के लिए अपनी कप्तानी के वजूद को सीमित ओवरों की क्रिकेट में साबित करने का दारोमदार होगा। कोहली ने भारतीय टीम की वनडे में कुल 17 मैचों में कप्तानी की है जिसमें उन्होंने 14 में जीत दिलवाई है और तीन में हार झेली है। चूंकि, इस समय उन्होंने धोनी की अनुपस्थिति में कप्तानी की थी। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि वह पूर्णकालिक कप्तान के तौर पर क्या कमाल दिखाते हैं। इसके साथ ही आइए जानते हैं कि इंग्लैंड टीम पहले वनडे मैच में किन 11 खिलाड़ियों के साथ उतर सकती है।

शीर्ष क्रम: जेसन रॉय और एलेक्स हेल्स ने पिछले कुछ सालों में इंग्लैंड के लिए जबरदस्त ओपनिंग साझेदारी की है। दोनों ने पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में भी अच्छा प्रदर्शन किया था। वहीं पिछले दिनों भारत ए के खिलाफ वॉर्म अप मैचों में दोनों ने भारतीय गेंदबाजों की बखिया उधेड़ दी थी। जब ये दोनों रंग में होते हैं तो विपक्षी टीम के लिए खतरनाक ही नहीं बल्कि बेहद खतरनाक हो जाते हैं। तीसरे नंबर पर जो रूट मोर्चा संभालेंगे। रूट पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए इंग्लैंड टीम का हिस्सा रहे थे और इसलिए भारतीय पिचों के बारे में वह भली- भांति परिचित हैं। वह मैच के थोड़े पहले ही स्क्वाड में शामिल होंगे क्योंकि उनकी पत्नी ने हाल ही में उनके पुत्र को जन्म दिया है। इसी के चलते रूट वॉर्म अप मैचों में भी शामिल नहीं हुए थे। रूट एक विश्वस्तर के खिलाड़ी हैं और प्रेक्टिश मैच खेलन न खेलने से उनके प्रदर्शन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। ये तो तय है।

मध्यक्रम: इयोन मॉर्गन प्रेक्टिश मैच में कुछ खास नहीं कर सके थे। ऐसे में वह वनडे सीरीज में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए बेताब होंगे। मॉर्गन हाल ही में बीबीएल से लौटे हैं जहां उन्होंने कुछ अर्धशतक भी जड़े थे और ठीक- ठाक फॉर्म दिखाई थी। इसके अलावा मॉर्गन ने पाकिस्तान के खिलाफ 5 मैचों की सीरीज में भी अच्छा प्रदर्शन किया था। नंबर पांच पर बल्लेबाजी की बात करें तो परिस्थिति को देखते हुए मोईन अली या जोस बटलर में से कोई एक आ सकता है।

वहीं बात करें बेन स्टोक्स की तो उन्होंने टेस्ट सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया था लेकिन इसके बावजूद अपनी टीम को जीत नहीं दिलवा सके। स्टोक्स पिछले कुछ सालों में बतौर क्रिकेटर खासे विकसित हुए हैं और अक्सर परिस्थिति के आधार पर खेलते हैं। स्टोक्स इंग्लैंड के लिए ऑलराउंडर की भूमिका निभाएंगे। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम इंग्लैंड, पहला वनडे(प्रिव्यू): जीत के साथ शुरू साल 2017 का अभियान शुरू करना चाहेगी टीम इंडिया]

गेंदबाजी: डेविड विली को अगर आप सिर्फ गेंदबाज मान रहे हैं तो आप गलत मान रहे हैं क्योंकि वह बल्लेबाजी में भी खासे माहिर हैं। वह अपनी काउंटी टीम नॉर्थपंटशायर की ओर से ओपनिंग कर चुके हैं। इसके अलावा उनके नाम टी20 शतक भी है। लेकिन वह इंग्लैंड टीम में बतौर गेंदबाज शामिल हुए हैं। और उनकी जिम्मेदारी ओपनिंग टाइट स्पैल फेंकनी की होगी ताकि भारतीय बल्लेबाज रन बनाने के लिए जूझते नजर आएं। हालांकि, विली अक्सर डेथ ओवरों में ज्यादा रन दे देते हैं जिससे उन्हें निजात पाने की कोशिश करनी होगी। वहीं लियाम प्लंकेट और क्रिस वोक्स इंग्लैंड को तेज गेंदबाजी विभाग में अतिरिक्त गहराई देना चाहेंगे। इसके अलावा ये दोनों बल्ले से भी बढ़िया हैं। पिछले दिनों श्रीलंका के खिलाफ मैच टाई कराने में इन दोनों ने बल्ले से महती भूमिका निभाई थी। वोक्स ने इस मैच में नाबाद 95 और प्लंकेट ने 22 रनों की पारी खेली थी। वहीं स्पिन विभाग की जिम्मेदारी आदिल राशिद और मोईन अली पर रहेगी। दोनों ने हाल ही में संपन्न हुई टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड की ओर से सर्वाधिक विकेट लिए थे। चूंकि, भारत की पिचें स्पिनरों के लिए मददगार साबित होती हैं तो ये दोनों अपनी टीम के लिए बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

भारत के खिलाफ पहले वनडे के लिए इंग्लैंड की अंतिम एकादश: इयोन मोर्गन(कप्तान), जेसन रॉय, एलेक्स हेल्स, जो रूट, मोइन अली, बेन स्टोक्स, जोस बटलर(विकेटकीपर), डेविड विली, लियाम प्लंकेट, आदिल रशीद, क्रिस वोक्स।