जो रूट ने खेली 46 रनों की विजयी पारी। © Getty Images
जो रूट ने खेली 46 रनों की विजयी पारी। © Getty Images

भारत और इंग्लैंड के बीच कानपुर के ग्रीनपार्क स्टेडियम में खेले गए पहले टी20 मैच में टीम इंडिया को इंग्लैंड के हाथों 7 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने 20 ओवरों में सात विकेट पर 147 का स्कोर बनाया था। जवाब में इंग्लैंड ने ईयोन मॉर्गन के 51 और जो रूट के 46 रनों की मदद से मैच को 18.1 ओवरों में 3 विकेट खोकर हासिल कर लिया। इंग्लैंड के मोईन अली ने मैच में शानदार गेंदबाजी की और 21 रन देकर दो विकेट लिए। उनके इस शानदार प्रदर्शन के चलते उन्हें मैन ऑफ द मैच अवॉर्ड से नवाजा गया। विराट कोहली इस मैच को हारने के साथ बतौर कप्तान पहला टी20 मैच हारने वाले पहले कप्तान बन गए हैं। इसके अलावा वह टीम इंडिया की टी20 में अगुआई करने वाले पांचवें कप्तान बने। उनके पहले टी20 टीम की वीरेंद्र सहवाग, एमएस धोनी, सुरेश रैना और अजिंक्य रहाणे अगुआई कर चुके हैं।  ये भी पढ़ें: भारत बनाम इंग्लैंड पहला टी20, कानपुर(लाइव ब्लॉग): इंग्लैंड ने भारत को 7 विकेट से हराया

इससे पहले इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया और मेजबान टीम को बल्लेबाजी करने का आमंत्रण दिया। पिछले दिनों से भारत की सलामी बल्लेबाजी लगातार फेल होती रही है और कानपुर में भी यही परेशानी भारत के सामने थी। ऐसी स्थिति में पारी की शुरुआत की जिम्मेदारी कप्तान विराट कोहली ने ली। कोहली का साथ दिया के एल राहुल ने, उनके पास मौका था कि वह अपने आप को साबित करें। भारत ने शुरुआत अच्छी की, कोहली ने पहले ओवर में एक चौका और एक छक्का भी लगाया। वहीं राहुल ने भी टेमल मिल्स की गेंद पर चौका लगाया। भारत ने पांच ओवर में 40 के ऊपर गेंद बना लिए थे। रन रेट ठीक चल रहा था। लेकिन राहुल एक बार फिर अपना विकेट विपक्षी टीम को दे बैठे। क्रिस जॉर्डन की तीसरी गेंद पर राहुल ने हवा में स्ट्रोक खेल दिया और आदिल राशिद ने बढ़िया कैच पकड़ा।

पहला विकेट भारत ने 47 रन पर खोया और क्रीज पर नए बल्लेबाज आए सुरेश रैना। रैना इस मैच से काफी लंबे समय बाद टीम में वापसी कर रहे थे। वहीं दूसरी ओर कोहली लगातार रन बना रहे थे। भारत ने सात ओवर में अपने 50 रन पूरे किए। इसके बाद इंग्लैंड टीम ने भारतीय टीम को सबसे बड़ा झटका दिया। मोइन अली के आठवें ओवर की पहली ही गेंद पर कोहली को कैच आउट किया। भारत ने 58 रन पर दूसरा और बड़ा विकेट खोया। ये भी पढ़ें: भारत बनाम इंग्लैंड पहले टी20 में इन खिलाड़ियों के बीच देखने को मिलेगी कड़ी टक्कर

दस ओवरों के अंदर भारत ने दो विकेट के नुकसान पर 75 रन बना लिए थे। युवराज और रैना दोनों ही क्रीज पर टिके हुए थे। भारत ने अपना अगला विकेट 11वें ओवर में लियाम प्लंकेट की गेंद पर खोया। युवराज ने उनकी गेंद पर छक्का जड़ने की कोशिश की लेकिन फाइन लेग पर कैच आउट हो गए। युवी ने 12 रन बनाए। इसके बाद मैदान पर आए महेंद्र सिंह धोनी। धोनी ने पारी को संभाला और आखिरी ओवर तक टिके रहे। 13वें और 14वें ओवर में भारत ने दो लगातार विकेट खोए। पहले रैना बेन स्टोक्स की गेंद पर बोल्ड हुए और फिर मनीष पांडे भी मोइन अली की गेंद पर एलबीडबल्यू हो गए। इसके बाद हार्दिक पांड्या ने धोनी का साथ दिया। हालांकि वह भी ज्यादा देर तक टिक नहीं सके। 17वें ओवर में मिल्स की दूसरी गेंद पर पांड्या कैच आउट हो गए। धोनी ने परवेज रसूल के साथ भारत का स्कोर 147 तक पहुंचाया। भारत ने 20 ओवरों में सात विकेट खोकर 147 रन बनाए। ये भी पढ़ें: टी20 फॉर्मेट में खेलना चाहते हैं चेतेश्वर पुजारा

148 रनों का पीछा करते हुए इंग्लैंड की बल्लेबाजी शुरू की सैम बिलिंग्स और जेसन रॉय ने। दोनों ही बल्लेबाजों ने इंग्लैंड को तेज शुरुआत दिलाई। दो ओवरों में इंग्लैंड ने 24 रन बना लिए। इंग्लैंड ने जरूरी रन रेट को बरकरार कर रखा था। भारतीय गेंदबाजों ने भी इंग्लैंड को शुरुआती झटके दिए। चौथे ओवर में यजुर्वेंद्र ने इंग्लैंड टीम को दो बड़े झटके दिए। पहले उन्होंने जेसन रॉय को बोल्ड किया वहीं उसी ओवर की पांचवी गेंद पर सैम बिलिंग्स को भी बोल्ड आउट किया। चहल के इस बेहतरीन स्पेल्स ने इंग्लैंड को खेल में बैकफुट पर ला दिया। ये भी पढ़ें: विराट कोहली और शेखर नायक को मिलेगा पद्म श्री अवॉर्ड

इसके बाद मैदान पर कप्तान मॉर्गन और जो रूट ने इंग्लैंड की पारी को संभाला। इसके बाद इंग्लैंड की रन रेट 7 से भी ऊपर चली गई। वहीं काफी देर तक भारतीय गेंदबाजों को कोई विकेट नहीं मिला। भारत को दूसरी सफलता दिलाई डेब्यू गेंदबाज परवेज रसूल ने। रसूल ने 16वें ओवर में अर्धशतक बना चुके कप्तान मॉर्गन को सुरेश रैना को कैच आउट किया। 129 पर तीन विकेट खोने के बाद इंग्लैंड को दो ओवरों में केवल 19 रनों की जरूरत थी। जीत भारत के हाथ से निकल चुकी थी। 18वें ओवर में आशीष नेहरा की गेंदों पर दो लगातार चौके जड़कर रूट ने इंग्लैंड की जीत को सुनिश्चित किया। रूट ने 19वें ओवर की पहली गेंद पर 1 रन लेकर अपनी टीम को सीरीज में जीत बढ़त दिलाई। इंग्लैंड ने तीन विकेट के नुकसान पर 148 रन बनाकर भारत को सात विकेट से हरा दिया।