live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 1st test match live, india vs england 1st test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live rajkot
विराट कोहली © Getty Images

भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली पहले टेस्ट मैच में सौराष्ट्र क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा उपलब्ध करवाई गई पिच से खासे खुश नजर नहीं आए। उन्होंने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो मैं पिच पर इतनी ज्यादा घास देखकर काफी आश्चर्यचकित था। यह चीज नहीं होनी चाहिए थी।” इंग्लैंड को यह पिच खूब भाई और उन्होंने पहली पारी में जहां 537 रनों का स्कोर खड़ा किया वहीं दूसरी पारी 260/3 के साथ घोषित कर दी। यही कारण रहा कि टीम इंडिया अंतिम सत्र में दबाव में आ गई। विराट कोहली के बयान से पता चलता है कि वह इस पिच पर अपने स्पिनरों के लिए मदद की आशा कर रहे थे। लेकिन उनकी उम्मीदों के विपरीत पहले दो दिनों में पिच से स्पिनरों को बिल्कुल भी मदद नहीं मिली।

उन्होंने कहा, “यहां तक कि अंतिम दिन भी जब टीम इंडिया विकेट खो रही थी तब भी पिच बल्लेबाजी के हिसाब से खराब नहीं थी।” हालांकि, विकेट एक ओर से धड़ाधड़ गिर रहे थे लेकिन शायद ही ऐसा कोई मौका नजर आया जब कोहली मुश्किल में नजर आए और अंत तक 49 रनों पर नाबाद नजर आए। कोहली ने आगे कहा, “पहले दो दिन बैटिंग करने के लिए बहुत बढ़िया थे। तीसरे दिन पिच थोड़ी धीमी जरूर हुई थी लेकिन कुछ खास खराबी नजर नहीं आई। कभी कभार परिस्थितियां ऐसी बन जाती हैं कि यहां तक की बतौर बल्लेबाज आप पाटा विकेट पर गलतियां कर जाते हैं। मैंने विकेट पर ठीक- ठाक समय बिताया। हमने जल्दी- जल्दी चार विकेट गंवाए। ऐसा लग रहा था कि गुड लेंथ क्षेत्र पर पड़ने वाली गेंदें परेशान करेंगी। लेकिन ऐसा कुछ देखने को नहीं मिला। शुरू से अंत तक पिच बढ़िया रही।”  [Also Read: भारत बनाम इंग्लैंड, पहला टेस्ट, फुल स्कोरकार्ड हिंदी में]

कोहली ने रविचंद्रन अश्विन और जडेजा की बल्लेबाजी पर भरोसा जताते हुए कहा कि इनकी वजह से एक अतिरिक्त गेंदबाज को खिलाने में मदद मिली। पिछले कुछ समय में टीम इंडिया अपने घर में जबरदस्त प्रदर्शन कर रही है और अमूमन हर टीम को उन्होंने अपने घर में पछाड़ा है। पिछले 13 टेस्ट मैचों में से 12 में टीम इंडिया ने जीत दर्ज की है। लेकिन रोजकोट में टीम इंडिया पूरी तरह से दबाव में नजर आई। कोहली की मानें तो उनका कहना है कि इससे उन्हें और उनकी टीम को सीखने को मिलेगा। जाहिर है कि विराट कोहली को लंबे समय तक अगर टीम इंडिया को नंबर एक बनाना है तो उन्हें हर पहलू का अनुभव लेना होगा।  [Also Read: एक और रिकॉर्ड बनाने से कुछ कदम दूर रह गए चेतेश्वर पुजारा और मुरली विजय]

कोहली ने आगे कहा, “कम से कम हम ये तो जानते हैं कि मैच को कैसे ड्रॉ करवाया जाए। इसके पहले कुछ लोगों को संदेह था कि या हम मैच जीतते हैं या हारते हैं। जब मैं विकेट पर था तब मैंने जडेजा से बात की और कहा कि यही मौका है कि हम खेल के दूसरे पहलू को हम मजबूत बनाएं। हो सकता है कि भविष्य में हमें इस तरह की परिस्थिति का सामना फिर से करना पड़े। हो सकता है कि हमें खुद से इन चीजों को खुद पर लागू करना पड़े और जौहर दिखाना पड़े। इसलिए हमारा उद्देश्य है कि बीच में रन बनाए जाएं लेकिन परसेंटेज क्रिकेट खेलने का। लेकिन उस समय हमें इन चीजों का निर्धारित करना होगा कि हमें बाउंड्री जड़नी है या सिंगल्स लेने हैं और य रक्षात्मक स्ट्रोक खेलने हैं। तो इस तरह यह चुनौतीपूर्ण परिस्थिति है लेकिन हमने काफी बढ़िया तरीके से इसका सामना किया।”

कोहली ने जिस तरह से अपनी बेबाक राय रखी है। उससे एक बात तो साफ हो गई है कि टीम इंडिया सीरीज के बाकी मैचों में और भी सतर्क रहने वाली है। जरूरी भी है। जाहिर है कि अगले समय में टीम इंडिया में और भी सुधार देखने को मिलेंगे।