live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 3rd test match live, india vs england 3rd test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live mohali
भारत ने सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त बना ली है © AFP

भारत ने तीसरे टेस्ट मैच में इंग्लैंड को आठ विकेट से हराकर पांच मैचों की सीरीज में अजेय बढ़त बना ली है। सीरीज के तीसरे तेस्ट मैच में भारत ने इंग्लैंड को 8 विकेट से हराकर करारी शिकस्त दे दी। तीसरे टेस्ट मैच में भारत ने इंग्लैंड को चारों खाने चित करते हुए सीरीज में 2-0 की बढ़त बना ली है। वैसे तो भारत की जीत में हर खिलाड़ी ने अपनी भूमिका दर्ज कराई लेकिन आज हम आपको बताएंगे भारतीय टीम के उन चार खिलाड़ियों के बारे में जिन्होंने इंग्लैंड की टीम को वापसी का कोई मौका नहीं दिया और मैच को भारत की झोली में डाल दिया। तो आइए नजर डालते हैं ऐसे ही चार खिलाड़ियों पर जिन्होंने भारत को तीसरे मैच में जीत दिलाई।

4. पार्थिव पटेल: रिद्धिमान साहा के चोटिल होने के बाद आठ साल बाद टीम में वापसी करने वाले पार्थिव पटेल ने बेहतरीन खेल दिखाया। पटेल के ऊपर काफी दबाव भी था लेकिन उस दबाव पर खरा उतरते हुए पार्थिव ने भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई। पार्थिव पटेल ने बल्ले से तो कमाल दिखाया ही साथ ही उन्होंने विकेट के पीछे भी अपनी उपयोगिता साबित की। पटेल ने पहली पारी में 42 रनों की पारी खेली तो वही विकेट के पीछे उन्होंने 2 कैच और एक स्टंपिंग की। भारत बनाम इंग्लैंड तीसरे टेस्ट का स्कोरबोर्ड जानने के लिए क्लिक करें

वहीं दूसरी पारी में पटेल ने टी-20 के स्टाइल में बल्लेबाजी करते हुए 54 गेंदों में 11 चौकों और एक छक्के की मदद से नाबाद 67 रन बनाए। पटेल ने लक्ष्य का पीछा करने के दौरान आक्रामक बल्लेबाजी से आसानी से भारत को जीत दिला दी। वहीं दूसरी पारी में पटेल ने दो खिलाड़ियों को कैच आउट किया। तीसरे टेस्ट में पटेल के खेल से भारतीय टीम को उनसे आने वाले मैचों में ढेरों उम्मीदें होंगी।

3. जयंत यादव: टेस्ट क्रिकेट में नए-नवेले जयंत ने काफी कम ही समय में कप्तान विराट कोहली का भरोसा जीत लिया है। जयंत ने बल्ले और गेंद दोनों से ही अपनी उपयोगिता साबित की है। कोहली उन्हें अपने तरीके से इस्तेमाल करते हैं। जब कोहली को लगता है कि उन्हें विकेट की तलाश है तो वह जयंत को गेंद थमा देते हैं और जयंत अपने कप्तान के भरोसे पर खरा उतरते हैं। तीसरे टेस्ट की बात करें तो पहली पारी में जयंत ने गेंदबाजी करते हुए दो बड़े विकेट अपने नाम किए। जयंत ने जो रूट और जॉनी बेयरेस्टो को अपना शिकार बनाया। बाद में जब भारत की पारी लड़खड़ा रही थी तो जडेजा के साथ मिलकर पारी को मजबूती दी और अर्धशतक जड़ा। जयंत ने पहली पारी में 55 रन बनाए।

वहीं दूसरी पारी में भी जयंत ने गेंद से कमाल दिखाते हुए दो विकेट चटकाए। जयंत ने पहले जॉनी बेयरेस्टो और फिर जोस बटलर को अपना शिकार बनाया। जयंत के प्रदर्शन को देखते हुए लग रहा है कि वह भविष्य में भारत के लिए एक बड़े खिलाड़ी के रूप में खुद को स्थापित कर सकते हैं।

2. रविंद्र जडेजा: भारतीय टीम के लिए हरफनमौला खिलाड़ी के रूप में खेल रहे रविंद्र जडेजा ने अपने प्रदर्शन से सभी के मुंह पर ताले जड़ दिए हैं। जडेजा ने बल्ले और गेंद दोनों से कमाल दिखाया और तीसरे टेस्ट में अपनी उपयोगिता साबित की। जडेजा ने पहले गेंदबाजी में इंग्लैंड को परेशान किया और फिर बल्लेबाजी से इंग्लैंड को हैरान किया। जडेजा ने पहली पारी में बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए बेन स्टोक्स और जोस बटलर के बहुमूल्य विकेट लिए और फिर बल्लेबाजी में भारत की लड़खड़ाती पारी को सहारा दिया। जडेजा ने पहले अश्विन और फिर जयंत के साथ मिलकर भारत की पारी को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। जडेजा ने पहली पारी में 90 रन बनाए और शतक से मात्र 10 रनों से चूक गए।

दूसरी पारी में भी जडेजा ने गेंद से कमाल दिखाते हुए जो रूट और गैरेथ बैटी को आउट किया। हालांकि जडेजा को दूसरी पारी में बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला। लेकिन जडेजा ने जिस तरह का प्रदर्शन किया है उससे वह टीम के लिए सबसे बड़े मैच विनर बनकर उभरे हैं।

1. रविचंद्रन अश्विन: मैच दर मैच भारत के लिए जीत की गारंटी बनते जा रहे रविचंद्रन अश्विन ने तीसरे टेस्ट में भी अंग्रेजों को छठी का दूध याद दिला दिया। चाहे वो बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी अश्विन ने दोनों मोर्चों पर खुद को साबित किया और टीम के लिए काफी उपयोगी साबित हुए। अश्विन ने पहली पारी में गेंदबाजी करते हुए कुक और मोईन अली के विकेट निकाले तो बल्ले से बेहतरीन खेल दिखाकर भारत की डूबती पारी को सहारा दिया। अश्विन ने बल्लेबाजी में 72 रन बनाए।

वहीं दूसरी पारी में अश्विन इंग्लैंड पर कहर बनकर टूट पड़े। अश्विन ने तीसरे दिन ही इंग्लैंड के तीन विकेट झटककर भारत की जीत तय कर दी। अश्विन ने दूसरी पारी में तीन विकेट झटके। अश्विन जिस तरह से खेल रहे हैं वह भारत के लिए सबसे बड़े और अहम खिलाड़ी बनते जा रहे हैं। बल्ले और गेंद दोनों से अश्विन कहर ढा रहे हैं और भारत को मैच जिता रहे हैं।