live cricket score, live score, live score cricket, india vs england live, india vs england live score, ind vs england live cricket score, india vs england 4th test match live, india vs england 4th test live, cricket live score, cricket score, cricket, live cricket streaming, live cricket video, live cricket, cricket live Mumbai
भारतीय टीम ने चौथे टेस्ट में इंग्लैंड को करारी शिकस्त दी © AFP

भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए चौथे टेस्ट मैच को भारत ने एकतरफा अंदाज में जीतकर सीरीज में 3-0 की अजेय बढ़त बना ली है। भारत ने चौथे टेस्ट में इंग्लैंड को चारों खाने चित करते हुए उनकी एक नहीं चलने दी और खेल के हर विभाग में उन्हें पीछे छोड़ते हुए मैच को एक पारी और 36 रनों से जीत लिया। भारत की जीत में वैसे तो हर खिलाड़ी ने अपना योगदान दिया पर आज हम आपको बताएंगे उन पांच खिलाड़ियों के बारे में जिन्होंने मुंबई टेस्ट में अहम भूमिका निभाई। हम आपको बताएंगे उन पांच खलिाड़ियों के बारे में जिन्हें हम असल मायनों में मुंबई टेस्ट का हीरो कह सकते हैं।

5. जयंत यादव: 104 रन और एक विकेट: जयंत यादव के रूप में ऐसा लगता है भारत को एक ऑलराउंडर खिलाड़ी मिल गया है, हालांकि ऐसा कहना अभी जल्दबाजी होगी लेकिन उनके अभी तक के आंकड़े इस बात को पुख्ता करते हैं। चौथे टेस्ट मैच की पहली पारी में जयंत यादव को कोई भी विकेट हासिल नहीं हुआ था। जयंत ने इस दौरान 25 ओवर की गेंदबाजी की थी और 89 रन दिए थे। लेकिन बल्लेबीज में उन्होंने अपनी उपयोगिता साबित करते हुए बेहतरीन बल्लेबाजी की। जयंत ने कप्तान विराट कोहली के साथ मिलकर 241 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी की। जयंत ने अपने टेस्ट करियर का पहला शतक लगाने के बाद कहा कि पहली पारी में एक भी विकेट ना मिलने के कारण मैं बल्ले के साथ अपना योगदान देना चाहता था।  [Also Read: भारत बनाम इंग्लैंड, चौथा टेस्ट, फुल स्कोरकार्ड हिंदी में]

जयंत ने बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए शानदार 104 रन बनाए। वहीं दूसरी पारी में उन्होंने इंग्लैंड के सबसे खतरनाक बल्लेबाज जो रूट का विकेट लिया। साफ है जयंक के करियर की अभी शुरुआत है लेकिन अगर वह इसी तरह का खेल दिखाते रहे तो वह भारत के लिए आने वाले समय में बेहतरीन खिलाड़ी बनकर उभर सकते हैं।

4. मुरली विजय: 136 रन: काफी लंबे समय से खामोश चल रहा मुरली विजय का बल्ला मुंबई में आकर रन उगलने लगा। मुरली विजय सीरीज में मुंबई टेस्ट से पहले उतने प्रभावशाली नहीं रहे थे और आलोचकों के निशाने पर आ गए थे। लेकिन कप्तान विराट कोहली और कोच अनिल कुंबले ने उनपर भरोसा बनाए रखा और विजय ने मुंबई में कप्तान-कोच के भरोसे पर खरा उतर कर दिखा दिया। विजय ने मुंबई टेस्ट में शानदार बल्लेबाजी करते हुए 136 रनों की पारी खेली। विजय ने पहले पुजारा के साथ मिलकर शतकीय साझेदारी निभाई और इसके बाद कोहली के साथ भी शतकीय साझेदारी कर भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया।

मुरली विजय ने मैच शुरू होने के बाद पहले तो अपनी निगाहें जमाईं और इसके बाद इंग्लैंड के हर गेंदबाज पर हल्ला बोल दिया। विजय ने 136 रनों की पारी में 282 गेंदों का सामना किया इस दौरान विजय ने 10 चौके और 3 गगनचुंबी छक्के जड़े। विजय ने शतक के बाद कहा कि तीसरे टेस्ट और चौथे टेस्ट के बीच के समय का उन्हों फायदा मिला और उन्होंने इस दौरान काफी विचार-विमर्श कर खुद को फिर से तैयार किया। भारतीय प्रशंसकों को उम्मीद है कि विजय आने वाले मैचों में भी इसी तरह का प्रदर्शन जारी रखेंगे।

3. रवींद्र जडेजा: मैच में कुल 6 विकेट, 25 रन: मैच दर मैच निखरते दर जा रहे रवींद्र जडेजा भारत के लिए संकटमोचक के रूप में उभरे हैं। जडेजा भारत के लिए गेंद और बल्ले दोनों के साथ उपयोगी साबित हो रहे हैं। जब टीम को गेंद से उनसे जरूरत होती है तो वह भारत को विकेट निकालकर देते हैं और जब बल्ले से उनकी जरूरत होती है तो वह मैदान पर टिककर भी दिखाते हैं। मुंबई टेस्ट की बात करें तो जडेजा ने पहली पारी में 4 विकेट लिए तो दूसरी पारी में उन्होंने 2 खिलाड़ियों को आउट किया। वहीं जडेजा ने पहली पारी में 25 रन भी बनाए।

जडेजा ने पहली पारी में एलिस्टेयर कुक, जोस बटलर, आदिल राशिद और क्रिस वोक्स के विकेट झटके तो दूसरी पारी में उन्होंने एलिस्टेयर कुक और मोईन अली के विकेट लिए। जडेजा ने दोनों पारियों में कुक को आउट किया। जेडजा ने अश्विन के साथ मिलकर इंग्लैंड के बल्लेबाजों पर लगातार दबाव बनाए रखा और उन्हें मैदान पर टिकने नहीं दिया। जडेजा जिस तरह से खेल रहे हैं आने वाले मैचों में वह भारत के लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकते हैं। ये भी पढ़ें: भारत टीम की ऐतिहासिक जीत पर ट्विटर प्रतिक्रिया

2. रविचंद्रन अश्विन: मैच में कुल 12 विकेट: भारत के लिए जीत की गारंटी बन चुके रविचंद्रन अश्विन ने अपनी फिरकी से इंग्लिश बल्लेबाजों के पसीने छुड़ा दिए। अश्विन ने पहली पारी में 6 और दूसरी पारी में भी 6 विकेट झटकने के साथ ही मैच में कुल 12 विकेट अपने नाम किए। अश्विन ने पहली पारी में कीटन, जो रूट, मोईन अली, जॉनी बेयरस्टो, बेन स्टोक्स और जेक बॉल के विकेट लिए तो दूसरी पारी में उन्होंने जॉनी बेयरस्टो, बेन स्टोक्स, जेक बॉल, आदिल राशिद और जेम्स एंडरसन के शिकार किए।

अश्विन लगातार पांच विकेट झटकते जा रहे हैं और ऐसा लगने लगा है कि उनके लिए पांच विकेट लेना अब मजाक बन गया है। अश्विन अभी तक कुल 24 मर्तबा पांच विकेट ले चुके हैं। साथ ही अगर अश्विन चेन्नई टेस्ट में दोनों पारियों में पांच विकेट ले लेते हैं तो वह एक साल में सबसे ज्यादा बार पांच विकेट लेने के मुरलीधरन और मैल्कम मार्शल के रिकॉर्ड को तोड़ देंगे। अश्विन 2016 में अब तक 8 बार पांच विकेट ले चुके हैं। वहीं मुरलीधरन और मैल्कम मार्शल के नाम एस साल में 9 बार पांच विकेट लेने का रिकॉर्ड दर्ज है। अश्विन के प्रदर्शन को देखते हुए ऐसा साफ लग रहा है कि वह इस रिकॉर्ड के साथ रही रई रिकॉर्डों को तोड़ सकते हैं।

1. विराट कोहली: 235 रन: भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली गजब की क्रिकेट खेल रहे हैं। उन्हें आउट करने में विरोधी टीम के पसीने छूट जाते हैं। विराट कोहली ने इंग्लैंड के खिलाफ खेली जा रही सीरीज में 600 से भी ज्यादा रन बनाए हैं। विराट कोहली ने सीरीज में अब तक शतक तो लगाया ही था साथ ही उन्होंने मुंबई में दोहरा शतक भी जड़ दिया। कोहली के दोहरे शतक की बदौलत भारत ने पहली पारी में इंग्लैंड के 400 रनों के जवाब में 631 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया और इंग्लैंड को एक पारी और 36 रनों से करारी शिकस्त दी।

मौजूदा सीरीज में कोहली की धमाकेदार बल्लेबाजी से हताश विरोधी टीम ने कोहली के बेहतरीन प्रदर्शन के पीछे भारतीय पिचों को बता दिया। जेम्स एंडरसन ने कहा कि कोहली के प्रदर्शन के पीछे भारतीय पिचों का बल्लेबाजी के लिए मददगार होना है। हालांकि जिस तरह से कोहली खेल रहे हैं और लगातार नए कीर्तिमान रच रहे हैं उसे देखकर कोई भी एंडरसन के बयान से इत्तेफाक नहीं रखता। कोहली अगर इसी तरह खेलते रहे तो वह आने वाले समय में क्रिकेट के कई रिकॉर्डों पर अपना नाम लिखवा लेंगे।