india vs england it is necessary to assess conditions says shubman gill
शुभमन गिल @ICCTwitter

भारतीय टेस्ट टीम के युवा ओपनिंग बल्लेबाज शुबमन गिल (Shubman Gill) टीम इंडिया के आगामी इंग्लैंड दौरे पर पहली बार भारतीय टीम की जर्सी में खेलेंगे. युवा शुबमन गिल ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी और उन्होंने दमदार खेल दिखाते हुए अपनी जगह पक्की की थी. शुबमन अब इंग्लैंड का टेस्ट देने को तैयार हैं. उन्होंने कहा कि इंग्लैंड में लगातार परिस्थितियां बदलती हैं और इनका आंकलन कर परिस्थितियों के लिहाज से खेलना होगा.

भारत को इंग्लैंड में छह टेस्ट मैच खेलने हैं. जून में उसे न्यूजीलैंड के साथ वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) फाइनल खेलना है और उसके बाद अगस्त-सितंबर में इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैच खेलने हैं. गिल ने इंडिया टीवी से बात करते हुए कहा, एक सलामी बल्लेबाज के रूप में, न केवल इंग्लैंड में बल्कि हर जगह, आपको यह जानने की जरूरत है कि दिन के अलग-अलग सत्र में कैसे खेलें. सत्रों में खेलना बहुत महत्वपूर्ण है.

इंग्लैंड में यह देखा गया है कि जब भी बादल छाए रहते हैं, तो गेंद बहुत स्विंग करती है. जब सूरज होता है , पिच बल्लेबाजी के लिए अच्छी हो जाती है. सलामी बल्लेबाज के रूप में परिस्थितियों का आकलन करना आवश्यक है.

21 वर्षीय गिल, जिन्होंने पांच महीने पहले ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था और अब तक सात टेस्ट मैचों में 378 रन बनाए हैं. उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में अच्छे प्रदर्शन के बाद टीम के साथ-साथ उनके अंदर भी आत्मविश्वास का संचार हुआ है.

गिल ने कहा, ऑस्ट्रेलिया में हमारा प्रदर्शन बहुत अच्छा था. पिछले कुछ वर्षों में, हम विदेशी दौरों में बहुत अच्छा कर रहे हैं, इसलिए हमारा आत्मविश्वास बहुत अधिक है. मुझे लगता है कि हम विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) के फाइनल के लिए इससे बेहतर तैयार नहीं हो सकते.

पंजाब का यह बल्लेबाज मुंबई में भारतीय टीम के साथ सख्त क्वॉरंटीन से गुजर रहा है. उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में किसी के लिए खुद को व्यस्त रखना कठिन है. गिल ने कहा, क्वॉरंटीन अवधि बहुत कठिन है क्योंकि 14 दिनों के लिए आप केवल एक कमरे में रहते हैं, और कुछ करने के लिए नहीं है. लेकिन हम अभी भी अपने कमरों में कसरत करते हैं और खुद को किसी न किसी तरह से व्यस्त रखते हैं. हम आई-पैड पर फिल्में देखते हैं. हम जितना हो सके खुद को व्यस्त रखने की कोशिश करते हैं.’