भारतीय टीम सीरीज को 3-0 से जीतने का प्रयास करेगी © AFP
भारतीय टीम सीरीज को 3-0 से जीतने का प्रयास करेगी © AFP

भारतीय क्रिकेट टीम शनिवार को इंदौर के होल्कर स्टेडियम में न्यूजीलैंड के साथ सीरीज का तीसरा और अंतिम टेस्ट मैच खेलने उतरेगी। सीरीज में 2-0 की बढ़त बना चुकी भारतीय टीम तीसरे टेस्ट को जीतकर किवी टीम का सूपड़ा साफ करना चाहेगी। भारतीय खिलाड़ियों ने सीरीज में अब तक एकजुट प्रदर्शन किया है। गेंदबाजी या बल्लेबाजी दोनों डिपार्टमेंट में खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन किया है। अब भारतीय टीम पर तीसरे टेस्ट में भी यही प्रदर्शन दोहराने का दबाव होगा। एक के बाद एक खिलाड़ियों के चोटिल होने की वजह से टीम के अंतिम एकादश चुनना कप्तान विराट कोहली के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होगा। तो आइए जानते हैं कोहली किन ग्यारह खिलाड़ियों को तीसरे टेस्ट में उतार सकते हैं।

बल्लेबाजी

टॉप आर्डर:

भारतीय टॉप आर्डर में सलामी बल्लेबाजी का चयन परेशानी का सबब बना हुआ है। पहले दो टेस्ट मैचों में भारतीय टीम मुरली विजय के जोड़ीदार के रूप में दो खिलाड़ियों को आजमा चुकी है। पहले टेस्ट में विजय के जोड़ीदार लोकेश राहुल थे तो दूसरे टेस्ट में शिखर धवन को उनके जोड़ीदार के रूप में उतारा गया। पहले टेस्ट में राहुल खुद को चोटिल कर बैठे तो दूसरे टेस्ट में धवन का चोटिल होना भारतीय टीम के लिए बुरी खबर रहा। लेकिन इन खिलाड़ियों का चोटिल होना एक खिलाड़ी के लिए वरदान साबित हुआ वो हैं गौतम गंभीर। तीसरे टेस्ट में गंभीर विजय को जोड़ीदार के रूप में उतरेंगे। गंभीर इस मैच में अपने बल्ले से शानदार प्रदर्शन करने की कोशिश करेंगे क्योंकि सलामी बल्लेबाज के रूप में जगह लेने के लिए राहुल और धवन जैसे बल्लेबाज तैयार बैठे हैं। तीसरे नंबर पर पुजारा का रन बनाना भारत के लिए अच्छी खबर है। पुजारा अब तक सीरीज की 4 पारियों में 3 अर्धशतक बना चुके हैं। अब उनसे एक शतकीय पारी की उम्मीद टीम को होगी। [Also Read: भारत बनाम न्यूजीलैंड, तीसरा टेस्ट( प्रिव्यू): सीरीज में क्लीन स्वीप करने उतरेगा भारत]

मिडिल आर्डर:

विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा की मौजूदगी टीम के मिडिल आर्डर को मजबूत बनाती है। दूसरे टेस्ट में कोहली के बल्ले से रन निकले यह टीम के लिए सुखद संकेत है। कोहली का फॉर्म में होना टीम के लिए बेहद जरूरी है। नंबर 5 पर रहाणे लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। पहले टेस्ट में कुछ खास नहीं कर सके रहाणे ने दूसरे टेस्ट में शानदार अर्धशतक बनाया था। नंबर 6 पर रोहित ने कप्तान के भरोसे को सही साबित किया है। रोहित ने इस सीरीज में खुद को एक टेस्ट बल्लेबाज के तौर पर स्थापित करने की ओर कदम बढ़ा दिये हैं, जो टीम के लिए अच्छी खबर है। रोहित ने दूसरे टेस्ट में मुश्किल परिस्थितियों में स्वभाव के विपरीत बल्लेबाजी करते हुए अच्छा स्कोर बनाया था। सीरीज के अंतिम मुकाबले में उनसे ऐसी ही पारी की उम्मीद दर्शकों को फिर से होगी।

लोवर मिडिल आर्डर:

लोवर मिडिल आर्डर में रविचन्द्रन अश्विन, रिद्धिमान साहा और रविन्द्र जडेजा की मौजूदगी भारतीय बल्लेबाजी की गहराई का प्रदर्शन करती है। इन तीनों में खासकर साहा ने जिस तरह की बल्लेबाजी की है वो काबिलेतारीफ है। कोलकाता टेस्ट में मुश्किल विकेट और मुश्किल परिस्थितियों में साहा ने जिस अंदाज में बल्लेबाजी की वो निचले क्रम में भरोसेमंद बनते जा रहे हैं। अश्विन और जडेजा का बल्ले से योगदान भारतीय टीम के लिए बोनस की तरह ही है। [Also Read: विराट कोहली ने कहा इंदौर टेस्ट खेलेंगे गौतम गंभीर]

गेंदबाजी:

भारतीय गेंदबाजों ने भी सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया है। पहले टेस्ट में जहां भारतीय स्पिनर्स ने जलवा दिखाया तो दूसरे टेस्ट में भारतीय तेज गेंदबाजों ने बाजी मारी। कुल मिलाकर देखें तो इस सीरीज में भारी बॉलिंग अटैक कुछ अलग ही नजर आ रहा है।

स्पिन अटैक:

स्पिन अटैक की बाते करें तो भारत के दोनों ही स्पिन गेंदबाज अश्विन और जडेजा का प्रदर्शन शानदार रहा है। दोनों ही गेंदबाजों ने किवी बल्लेबाजों को बड़ी आसानी से अपना शिकार बनाया है। दूसरे टेस्ट में भी जहां विकेट पर स्पिनर्स को इतनी मदद नहीं मिल रही थी, इन दोनों ने शानदार गेंदबाजी की। सीरीज में क्लीन स्वीप करने के लिए इन दोनों गेंदबाजों को फिर से अपना जलवा दिखाना होगा।

पेस अटैक:

कोलकाता टेस्ट में भारतीय तेज गेंदबाजों ने अपने शानदार प्रदर्शन से स्पिन गेंदबाजों के प्रदर्शन को पीछे छोड़ दिया था। भारतीय विकेटों पर ऐसा बहुत ही कम देखने को मिलता है। पहली पारी में भुवनेश्वर कुमार ने जलवा दिखाया तो दूसरी पारी में मोहम्मद शमी ने शानदार रिवर्स स्विंग गेंदबाजी कर किवी बल्लेबाजों को विकेट पर नजर जमाने का मौका नहीं दिया। टीम के पेस अटैक का नेतृत्व शमी करेंगे, हालांकि उनके साथी भुवनेश्वर का चोटिल होना टीम के लिए बुरी खबर है। कप्तान कोहली भुवनेश्वर की जगह उमेश यादव को मौका देना चाहेंगे।

तीसरे टेस्ट के लिए भारत की संभावित अंतिम एकादश इस प्रकार है:

भारत:

मुरली विजय, गौतम गंभीर, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली(कप्तान), अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, रविचन्द्रन अश्विन, रिद्धिमान साहा(विकेटकीपर), रविन्द्र जडेजा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव/ शार्दुल ठाकुर।