दोनों टीमों का इरादा मैच जीतने का होगा © Getty Images
दोनों टीमों का इरादा मैच जीतने का होगा © Getty Images

भारत और न्यूजीलैंड के बीच सीरीज का चौथा मैच महेंद्र सिंह धोनी के गृहनगर रांची में खेला जाएगा। जाहिर है मैदान पर दर्शकों का हुजूम देखने को मिलेगा। सीरीज में पहले ही भारत 2-1 से आगे है ऐसे में रांची में धोनी और टीम इंडिया को मिलने वाला दर्शकों का साथ टीम के मनोबल को चार चांद लगा देगा। वहीं तीसरे वनडे में 80 रनों की तूफानी पारी खेलकर धोनी ने पहले ही अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। ऐसे में कीवी टीम के लिए रांची में मैच जीतना कतई आसान नहीं रहने वाला। अगर कीवी टीम ऐसा कर देती है तो यह शेर के मुंह से निवाला छीनने जैसी बात होगी। दोनों टीमें एक बार फिर तैयार हैं एक दूसरे से लोहा लेने के लिए और दोनों ही अपनी-अपनी जीत को लेकर आश्वस्त हैं।

भारतीय टीम की बात करें तो सलामी जोड़ी का लगातार फ्लॉप होना टीम के लिए चिंता की बात है। अजिंक्य रहाणेरोहित शर्मा की जोड़ी लगातार रन बनाने में विफल साबित हो रही है और तीनों ही मैचों में भारत को अच्छी शुरुआत से महरूम रहना पड़ा। सलामी जोड़ी के जल्दी आउट होने से दबाव मध्यक्रम पर आ जाता है। ऐसे में भारतीय टीम को यह उम्मीद होगी कि रहाणे-रोहित की जोड़ी टीम को चौथे वनडे में अच्छी शुरुआत दे सके। वहीं मध्यक्रम की बात करें तो विराट कोहली शानदार फॉर्म में हैं। कोहली ने पहले मैच में नाबाद अर्धशतक और तीसरे में नाबाद शतक लगाया था, ऐसे में कोहली के ऊपर एक बार फिर टीम को जिताने का दारोमदार होगा। हालांकि कोहली पर टीम का अतिनिर्भर होना भी घातक सिद्ध हो सकता है। ये भी पढ़ें: क्या है महेंद्र सिंह धोनी का ‘मिशन 2019 विश्वकप’?

वहीं धोनी की बात करें तो धोनी ने तीसरे वनडे में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी की थी जो टीम और धोनी दोनों के लिए अच्छा साबित हुआ। धोनी के नंबर चार पर खेलने से टीम का मध्यक्रम बेहद मजबूज हो जाता है। नंबर तीन पर कोहली और नंबर चार पर धोनी विपक्षी टीम के लिए बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकते हैं। निचले क्रम में टीम के पास युवाओं की फौज है, मनीष पांडे, केदार जाधव और हार्दिक पंड्या से टीम को काफी उम्मीद होगी। वहीं भारत की गेंदबाजी की बात करें तो वह अब तक काफी अच्छी रही है। टीम के तीनों तेज गेंदबाज अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं। उमेश यादव टीम को जल्दी सफलता दिलाने में कामयाब हो रहे हैं तो बुम्रा की यॉर्कर विपक्षी खेमे के लिए झेलना आसान नहीं हो रही हैं वहीं पंड्या से भी टीम को ढेरों उम्मीदें हैं। वहीं टीम की स्पिन गेंदबाजी की बात करें तो अमित मिश्रा ने गजब की गेंदबाजी की है और तीन मैचों में 8 विकेट हासिल किए हैं। अमित मिश्रा ने कीवी बल्लेबाजों को काफी परेशान किया है। हालांकि दूसरे स्पिन गेंदबाज अक्षर पटेल उतने प्रभावी नहीं रहे हैं। लेकिन केदार जाधव ने भी अपनी गेंदबाजी से धोनी को समय-समय पर विकेट दिलाए हैं। ये भी पढ़ें: अब मैं पहले जैसा फुर्तीला नहीं रहा: महेंद्र सिंह धोनी

वहीं दूसरी तरफ न्यूजीलैंड टीम की बात करें तो सलामी जोड़ी में मार्टिन गप्टिल का लगातार खराब खेल जारी है, गप्टिल हालांकि तीसरे मैच में रंग में लौटते नजर आ रहे थे लेकिन इससे पहले की वो बड़ी पारी खेलते भारतीय गेंदबाजों ने उन्हें पवेलियन भेज दिया था। वहीं विलियम्सन की बात करें तो यह खिलाड़ी फॉर्म में तो है लेकिन निरंतर रन बनाने में कामयाब नहीं हो पा रहा है, हालांकि भारत को विलियम्सन से बचके रहना होगा। वहीं टेलर की फॉर्म भी टीम के लिए चिंता बनी हुई है। टेलर टेस्ट से लेकर वनडे तक फ्लॉप ही रहे हैं और टीम पर बोझ सा लग रहे हैं। रही-सही कसर टेलर ने तीसरे वनडे में कोहली का कैच छोड़कर पूरी कर दी थी

लेकिन न्यूजीलैंड की गेंदबाजी बहुत अच्छी रही है, खासकर न्यूजीलैंड की पेस बैट्री। ट्रेंट बोल्ट, टिम साऊदी और मेट हेनरी की तिकड़ी ने भारतीय बल्लेबाजों को लगातार परेशान किया है और चौथे वनडे में भी ये तीनों एक बड़ा खतरा साबित हो सकते हैं। तीनों ही गेंदबाजों ने दूसरे वनडे में न्यूजीलैंड को रोमांचक जीत दिलाई थी। वहीं स्पिन गेंदबाजी में सैंटनर रन रोकने में कामयाब हुए हैं लेकिन वह विकेट नहीं ले पा रहे ऐसे में टीम को सैंचनर से विकेट लेने की उम्मीद होगी।

तो कह सकते हैं भारत और न्यूजीलैंड के बीए चौथा वनडे काफी रोमांचक रहने की उम्मीद है।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं

भारत: रोहित शर्मा, अजिंक्य रहाणे, विराट कोहली, महेन्द्र सिंह धोनी(कप्तान, विकेटकीपर), मनीष पांडे, केदार जाधव, हार्दिक पांड्या, अक्षर पटेल, अमित मिश्रा, जसप्रीत बुमराह, उमेश यादव, मंदीप सिंह, धवन कुलकर्णी, जयंत यादव।

न्यूजीलैंड: केन विलियमसन(कप्तान), कोरी एंडरसन, ट्रेंट बोल्ट, डग ब्रेसवेल, अंतनों देवचिच, मार्टिन गप्टिल, मैट हेनरी, टॉम लैथम, जिमी नीशाम, ल्यूक रॉन्की(विकेटकीपर), मिशेल सेंटनर, ईश सोढ़ी, टिम साउथी, रॉस टेलर , बीजे वाटलिंग(विकेटकीपर)।