विशाखापत्तनम में होने वाले पांचवें वनडे में भारत को हर हाल में हासिल करनी होगी जीत। © IANS
विशाखापत्तनम में होने वाले पांचवें वनडे में भारत को हर हाल में हासिल करनी होगी जीत। © IANS

भारत बनाम न्यूजीलैंड सीरीज के पांचवें और आखिरी वनडे के लिए टीम में किन ग्यारह खिलाड़ियों को शामिल किया जाएगा ये कप्तान धोनी के लिए एक बड़ा सवाल है। चौथे वनडे में मिली हार के बाद मुमकिन है धोनी टीम में कुछ बड़े बदलाव करें। बल्लेबाजी से लेकर गेंदबाजी क्रम में कई खिलाड़ियों की जगह बदली जा सकती है। चौथे वनडे में बुमराह की जगह शामिल किए गए धवल कुलकर्णा ने केवल एक ही विकेट लिया है ओर काफी रन लुटाए। अगले वनडे मैच में उन्हें टीम में रखने की गलती धोनी नही करना चाहेंगे। बुमराह की टीम में रहने से अंतिम ओवरों में जाने वाले रन बचाए जा सकते हैं। इसके अलावा और भी कई बदलाव किए जा सकते हैं, आइए जानते हैं कि विशाखापत्तनम वनडे में क्या रहेंगे भारतीय टीम के अंतिम एकादश।

शीर्ष क्रम- भारतीय शीर्षक्रम को संभालने की जिम्मेदारी अब तक सलामी जोड़ी रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे पर रही है। हालांकि अब तक किसी भी मैच में रोहित ने कुछ खास रन नहीं बनाए और रहाणें ने भी रांची वनडे में बनाए अर्धशतक के अलावा कोई और अच्छी पारी नहीं खेली। धोनी के पास फिलहाल ऐसा कोई खिलाड़ी नहीं है जो रोहित शर्मा की जगह ले सके, इसलिए अगले वनडे में भी रोहित और रहाणे की ही जोड़ी देखने को मिलेगी। वहीं तीसरे नंबर पर विराट कोहली की जगह तय ही है।

मध्य क्रम- मध्य क्रम में अभी तक हर मैच में कई बदलाव किए गए हैं जिससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि आखिरी वनडे में भी मध्य क्रम में बदलाव देखा जा सकता है। चौथे नंबर पर धोनी एक बार फिर खुद को मौका देना चाहेंगे। वहीं पिछले वनडे में पांचवे नंबर पर अक्षर पटेल को भेजना गलत फैसला था जिसे धोनी दोहराना नहीं चाहेंगे। मनीष पांडे ने मोहाली वनडे में कोहली के साथ छोटी लेकिन अच्छी साझेदारी बनाई थी। अपनी इस पारी में उन्होंने कई कमाल के शॉट खेले जिससे पता चलता है कि उनमें कितनी काबिलियत है। बल्लेबाज के बतौर टीम में शामिल किए गए केदार जाधव ने गेंद से अब तक कई कमाल किए है लेकिन बल्ले से वह कुछ खास नहीं कर पाएं हैं। छठें नंबर पर उन्हें भेजकर धोनी ये तय कर सकते हैं कि जाधव टीम में सुरेश रैना की जगह ले सकते हैं या नहीं। जिससे भविष्य में टीम चयन में आसानी होगी।

निचला क्रम- सांतवें नंबर पर फिनिशर की भूमिका निभाने के लिए भारत के सबसे सफल ऑल राउंडर हार्दिक पंड्या सबसे उपयुक्त खिलाड़ी है। पंड्या ने अब तक गेंद और बल्ले दोनों से अपनी योग्यता साबित की है। मुश्किल समय में वह भारत की पारी को संभालने का दम रखते है। वहीं अक्षर पटेल भी निचले क्रम में बल्लेबाजी कर सकते हैं। अक्षर अब तक रन बनाने में नाकाम रहे हैं लेकिन आखिरी और निर्णायक वनडे पटेल की कोशिश रहेगी की टीम की जीत में अपना योगदान दे सकें।

स्पिन गेंदबाजी- पूरी वनडे सीरीज में स्पिन का जिम्मा अमित मिश्रा ने बखूबी निभाया है और आखिरी वनडे में उनकी भूमिका अहम रहेगी। उनका साथ देने के लिए टीम में अक्षर पटेल रहेंगे। ये जोड़ी हालांकि अश्विन जडेजा जितनी कारगर नहीं साबित हो पाई है। इसकी वजह यह है कि अक्षर, अमित मिश्रा से कुछ पीछे हैं और उनका तालमेल अभी उतना नहीं बना है पर धोनी आखिरी वनडे से पहले कोई बदलाव करने का जोखिम नहीं उठाएंगे।

तेज गेंदबाजी- आखिरी वनडे में तेज गेंदबाजी को मोर्चा संभालेंगे हार्दिक पंड्या, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह। चौथे वनडे में बुमराह की जगह टीम में शामिल किए गए धवल कुलकर्णा अपनी छाप नहीं छोड़ पाए जिसका नतीजा यह निकलता है कि बुमराह की वापसी तय है। धोनी धवल को आखिरी वनडे में मौका नहीं देंगे। हार्दिक पंड्या, उमेश यादव और जसप्रीत बुमराह की तिकड़ी तेज गेंदबाजी से कीवी बल्लेबाजों को हैरान करेंगे।