वायरल बुखार के कारण सुरेश रैना पहले वनडे से बाहर, अश्विन और जडेजा को भी आराम। © AFP
वायरल बुखार के कारण सुरेश रैना पहले वनडे से बाहर, अश्विन और जडेजा को भी आराम। © AFP

भारत न्यूजीलैंड के बीच टेस्ट सीरीज शूरू होने के बाद वनडे मैच आज से शुरू होने जा रहा है। दोनो ही टीमों में कई बदलाव देखने को मिल रहें हैं। टीम इंडिया ने जहां अपने दो प्रमुख गेंदबाजों को टीम से बाहर रखा है वहीं कीवी टीम ने टेस्ट में विकेट लेने वाले जीतन पटेल को वनडे में जगह नही दी है। मेहमान टीम ने टेस्ट से चोटिल होने के चलते बाहर हुए टिम साउदी को टीम में शामिल किया है। आखिरी एकादश में किसे जगह मिलेगी ये तो अभी तय नही है लेकिन किन खिलाड़ियों के बीच रोमांचक मुकाबला होगा ये हम आपकों बताने जा रहे हैं।

1- विराट कोहली बनाम ट्रेंट बोल्ट- टेस्ट में दोहरा शतक लगाने के बाद फैन्स को कोहली से एक बेहतरीन वनडे पारी की उम्मीद रहेगी। धर्मशाला के मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड कोहली के ही नाम है। इस मैदान पर कोहली ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 2014 में 127 रनों की शानदार पारी खेली थी और भारत 59 रनों से मैच जीत गया था। वहीं आंकड़ों से ये भी पता चलता है कि धर्मशाला की पिच तेज गेंदबाजों और मीडियम पेसर को फायदा पहुंचाने वाली है। इस मैदान पर सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में सभी तेज गेंदबाज ही हैं। मोहम्मद शमी, उमेश यादव, अक्षर पटेल, रविन्द्र जडेजा और ईशांत शर्मा के नाम इस सूची में शामिल है। न्यूजीलैंड की वनडे टीम में इस समय दो तेज गेंदबाज हैं, ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी। टिम साउदी टेस्ट सीरीज से बाहर थे इसलिए उनके प्रदर्शन के बारें में कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन बोल्ट टेस्ट सीरीज में भी शानदार प्रदर्शन कर रहे थे। अब वनडे सीरीज में जब पिच भी उनकी मददगार होगी तो मुमकिन है दर्शकों को कोहली और बोल्ट के बीच एक अच्छा मुकाबला देखने को मिले।

2- महेन्द्र सिंह धोनी बनाम मिचेल सेंटेनर– वनडे सीरीज के शुरू होने के साथ ही महेन्द्र सिहं धोनी एक बार फिर फैन्स को नीली जर्सी में नजर आएंगे। पिछले दिनों रिलीज हुई उनकी फिल्म एमएस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी को मिली शानदार सफलता को देखकर लगता है कि फैन्स माही को बड़े पर्दे पर देखकर काफी खुश हैं और अब वे अपने पसंदीदा क्रिकेटर को मैदान पर भी चौके छक्के मारते देखना चाहेंगे। धोनी को आखिरी बार अमेरिका में वेस्ट इंडीज के खिलाफ टी20 में खेलते देखा गया था। जहां दो मैचों की सीरीज में पहला मैच हम हार गए थे और दूसरा मैच बारिश के कारण रद्द हो गया था। पहले मैच में धोनी ने 25 गेंदो पर 43 रन बनाए थे लेकिन भारत ये मैच 1 रन से हार गया था। जिस वजह से धोनी को आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। इस बार धोनी की कोशिश होगी की एक अच्छी पारी खेली जाए जिससे उनका और टीम दोनों का आत्मविश्वास बढ़ेगा। वैसे तो धोनी का स्ट्राइक रेट वनडे में काफी शानदार है लेकिन उनकी एक परेशानी जो हमेशा से रही है वह है लेफ्ट ऑर्म स्पिनर्स। धोनी का स्ट्राइक रेट इनके खिलाफ काफी कम हो जाता है। इसी का फायदा उठाने के लिए कीवी गेंदबाज मिचेल सेंटेनर तैयार रहेंगे। सेंटेनर ने टेस्ट में बेहतरीन गेंदबाजी का प्रदर्शन किया है जिसे वह वनडे में जरूर दोहराना चाहेंगे।

3- मार्टिन गप्टिल बनाम जसप्रीत बुमराह- कीवी सलामी बल्लेबाज गप्टिल के लिए टेस्ट सीरीज कुछ खास यादगार नहीं रही। गप्टिल टेस्ट सीरीज में पूरी तरह फेल रहे। कानपुर टेस्ट की पहली पारी में उन्होंने 21 रन बनाए तो दूसरी पारी में वह शून्य पर आउट हो गए। वहीं कोलकाता टेस्ट में पहली पारी में 13 और दूसरी में 24 का स्कोर बनाया। हालांकि इंदौर टेस्ट में वह कुछ अच्छे फॉर्म में दिखे और 72 रनों की पारी खेली पर जल्दबाजी से रन लेने के चक्कर में वह रन आउट हो गए। लेकिन वनडे में गप्टिल के आंकड़े कुछ और ही बयान करते हैं। वनडे में दोहरा शतक लगा चुके गप्टिल एक खतरनाक बल्लेबाज हैं। जब गप्टिल बल्लेबाजी करने उतरेंगे तो सबसे पहले उनका सामना बुमराह से ही होगा। इसकी संभावना अधिक इसलिए हैं क्योंकि ये कप्तान धोनी की रणनीति का अहम हिस्सा रहा है कि शुरूआती ओवर में नई गेंद वह बुमराह को ही देते हैं। नई गेंद के साथ शूरूआती ओवरों में बुमराह काफी सहज हैं। भारत पिछलें कई वनडे और टी20 मैचों में शुरूआती 5-10 ओवरों के अंदर विपक्षियों को कई विकेट चटकाएं है। अब ये देखना मजेदार होगा कि बुमराह और गप्टिल के इस मुकाबले का क्या नतीजा निकलता है।

4-केन विलियमसन बनाम अमित मिश्रा- टेस्ट सीरीज में कीवी कप्तान केन विलियमसन ने अच्छी पारियां खेली थी। टॉम लेथम के साथ कई लंबी साझेदारियां भी बनाई और न्यूजीलैंड का स्कोरबोर्ड संभाला। लेकिन टेस्ट सीरीज में रविचंद्रन अश्विन के आगे विलियमसन की एक न चली। विलियमसन ने तीन में से केवल दो टेस्ट मैच खेले और चारों पारियों में विलियमसन को अश्विन ने ही आउट किया। इससे ये भी जाहिर है कि विलियमसन स्पिन अटैक के आगे बेबस हो जाते हैं। धर्मशाल वनडे में हालांकि अश्विन नहीं खेल रहे हैं लेकिन वि लियमसन को कोई राहत नहीं मिलेगी क्योकि स्पिन की जिम्मेदारी संभालने के लिए टीम में अमित मिश्रा शामिल हैं। अश्विन और मिश्रा की गेंदबाजी के तरीके में काफी अंतर है, अश्विन ऑफ ब्रेक कराते हैं तो वहीं मिश्रा लेग ब्रेक लेकिन मिश्रा विलियमसन के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं। धर्मशाला वनडे में विलियमसन और अमित मिश्रा के बीच का मुकाबला देखना काफी दिलचस्प होगा।

5- अजिंक्य रहाणे बनाम ईश सोढी- रहाणे ने इंदौर टेस्ट में 188 रनों का शानदार पारी खेली थी। पूरी टेस्ट सीरीज में उनका प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। वनडे में भी रहाणें कमाल के खिलाड़ी हैं लेकिन उनके साथ सबसे बड़ी समस्या है बल्लबाजी क्रम की। रहाणे के लिए अभी तक बल्लेबाजी क्रम में एक निश्चित स्थान ढूंढने में कप्तान धोनी सफल नहीं हुए हैं। रहाणे ने अपना आखिरी वनडे 20 जनवरी को ऑस्ट्रिेलिया के खिलाफ खेला था जहां वह केवल 2 रन पर आउट हो गए। इस मैच में रहाणे 7वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे थे और इस स्थान पर खेलने में फेल रहे। वहीं कीवी गेंदबाज ईश सोढी ने अपना आखिरी वनडे ऑस्ट्रेलिया के ही खिलाफ 8 फरवरी को खेला था जिसमें उन्होंने 8 ओवर में 31 रन देकर 2 विकेट लिए थे। न्यूजीलैंड वो मैच 55 रनों से जीता था और सोढी को मैन ऑफ द मैच के खिताब से नवाजा गया था। धर्मशाला वनडे में क्या रहाणे अपनी जगह वनडे में पक्की कर पाएंगे या नही ये देखना होगा। साथ ही रहाणे और सोढी के बीच का मुकाबला भी देखने लायक होगा।