मनीष पांडे और के एल राहुल © Getty Images
मनीष पांडे और के एल राहुल © Getty Images, Design: Sandeep Dhayma

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में भले ही टीम इंडिया ने 3-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली है, लेकिन इस जीत के बीच भारतीय टीम का एक बल्लेबाज ऐसा भी जिसके साथ कहीं ना कहीं नाइंसाफी सी हो रही है। इस बल्लेबाज का नाम है मनीष पांडे। मनीष पांडे को अबतक 3 मैचों में खेलने का मौका नहीं मिला है। पांडे की जगह के एल राहुल को मौका दिया जा रहा है। खुद कप्तान विराट कोहली ने पहले वनडे से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मनीष पांडे को प्लेइंग इलेवन में मौके के लिए इंतजार करना होगा क्योंकि के एल राहुल गजब की फॉर्म में हैं। विराट कोहली का ये बयान कहीं ना कहीं मनीष पांडे के साथ नाइंसाफी कर रहा है? आखिर कैसे? जानिए इसके बड़े कारण

1. मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज होने के बावजूद मौका नहीं

मनीष पांडे एक मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज हैं। वो जानते हैं कि कैसे बीच के ओवरों में रन बनाए जाते हैं विकेट बचाए जाते हैं। ऑस्ट्रेलिया में सिडनी वनडे के दौरान उन्होंने जिस तरह की शतकीय पारी खेल टीम इंडिया को जीत दिलाई थी ये कोई नहीं भूल सकता। लेकिन इसके बावजूद टीम इंडिया मैनेजमेंट श्रीलंका के खिलाफ उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं दे रहा। पांडे की जगह के एल राहुल को मिडिल ऑर्डर में खिलाया जा रहा है जो कि एक ओपनिंग बल्लेबाज हैं।

मनीष पांडे और के एल राहुल © Getty Images and AFP, Design: Sandeep Dhayma
मनीष पांडे और के एल राहुल © Getty Images and AFP, Design: Sandeep Dhayma

2. मिडिल ऑर्डर में के एल राहुल बेअसर

श्रीलंका के खिलाफ हुए 3 में से 2 मैचों में के एल राहुल मिडिल ऑर्डर में उतरे और दोनों में उनका बल्ला नहीं चला। दूसरे वनडे में राहुल 4 रन पर निपट गए और तीसरे वनडे में उनके बल्ले से 17 रन निकले। के एल राहुल के इस खराब प्रदर्शन की मुख्य वजह उनका मिडिल ऑर्डर में अनुभवहीन होना है। दरअसल के एल राहुल ओपनर हैं उन्हें शुरुआत में तेज गेंदबाजों को खेलने की आदत है। जब वो सेट हो जाते हैं तो वो स्पिनर्स को अच्छे से खेलते हैं लेकिन श्रीलंका के खिलाफ सीधे स्पिनर्स का सामना करना उन्हें रास नहीं आ रहा है।  करियर के 50वें टेस्ट में तमीम इकबाल ने किया ये बड़ा कारनामा

के एल राहुल © AFP, Design: Sandeep Dhayma
के एल राहुल © AFP, Design: Sandeep Dhayma

3. मनीष पांडे भी अच्छी फॉर्म में हैं

कप्तान विराट कोहली ने ये तर्क देकर के एल राहुल को वनडे टीम में जगह दी है कि वो जबर्दस्त फॉर्म में हैं। प्लेइंग इलेवन में उनकी जगह बनती है। मगर दूसरी ओर मनीष पांडे की फॉर्म भी जबर्दस्त है। इंडिया ए की कप्तानी करते हुए मनीष पांडे ने द.अफ्रीका में ट्राई सीरीज जीती। उस सीरीज में मनीष पांडे ने 5 पारियां खेली, जिसमें 3 में उन्होंने अर्धशतक लगाया और 4 पारियों में वो टीम को जीत दिलाकर पैवेलियन लौटे।  करियर के 50वें टेस्ट में तमीम इकबाल ने किया ये बड़ा कारनामा

मनीष पांडे © Getty Images, Design: Sandeep Dhayma
मनीष पांडे © Getty Images, Design: Sandeep Dhayma

सबसे बड़ी बात ये कि इस सीरीज में भी मनीष पांडे मिडिल ऑर्डर में खेले, जबकि के एल राहुल ने श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में रन जरूर बनाए लेकिन एक ओपनर के तौर पर। माना कि के एल राहुल बड़े टैलेंटेड खिलाड़ी हैं लेकिन मनीष पांडे मिडिल ऑर्डर के बेमिसाल बल्लेबाज हैं और उन्हें मौका ना देकर टीम इंडिया कहीं ना कहीं मनीष पांडे के साथ नाइंसाफी कर रही है।