भारतीय टीम © Getty Images

भारतीय टीम श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज का पहला मैच खेलने जा रही है। टेस्ट सीरीज में 3-0 से ऐतिहासिक जीत दर्ज करने के बाद टीम इंडिया वनडे सीरीज पर भी कब्जा करने के इरादे से मैदान पर उतरेगी। आईसीसी वनडे रैंकिग में तीसरे स्थान पर मौजूद टीम इंडिया के पास ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो श्रीलंका टीम पर भारी पड़ सकते हैं। भारत के पास विराट कोहली, शिखर धवन, रोहित शर्मा और महेंद्र सिंह धोनी जैसे बल्लेबाजों के साथ जसप्रीत बुमराह, युजवेंद्र चहल और हार्दिक पांड्या जैसे गेंदबाज भी हैं। यहां हम श्रीलंका के खिलाफ वनडे मैच से पहले टीम इंडिया की ताकत पर एक नजर डालेंगे।

शीर्ष बल्लेबाजी: भारतीय टीम का शीर्ष बल्लेबाजी क्रम ऐसा अभेद किला है जिसे तोड़ना श्रीलंकाई गेंदबाजों को लिए आसान नहीं होगा। भारत के दोनों सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और रोहित शर्मा बढ़िया फॉर्म में हैं। दोनों खिलाड़ियों ने चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान शानदार बल्लेबाजी की थी। हालांकि रोहित को चैंपियंस ट्रॉफी खत्म होने के बाद वेस्टइंडीज दौरे पर खेलने का मौका नहीं मिला था लेकिन धवन ने कैरेबियन दौरे पर खेले पांच वनडे मैचों में 161 रन बनाए थे। [ये भी पढ़ें: भारत के खिलाफ दांबुला वनडे के पहले जानें श्रीलंका टीम की मजबूती और कमजोरी]

हालिया प्रदर्शन की बात करें तो धवन ने पिछले दो साल में 22 वनडे मैचों में 42 की औसत से 924 रन बनाए हैं। वहीं पिछले दो सालों में रोहित ने 20 मैचों में 1123 रन बनाए हैं। इन दो धमाकेदार खिलाड़ियों के साथ भारतीय शीर्ष क्रम में विराट कोहली जैसा बल्लेबाज भी है। भले ही कप्तान कोहली टेस्ट सीरीज में कुछ खास कमाल नहीं कर पाएं हो लेकिन उनका वनडे रिकॉर्ड लाजवाब है। कोहली ने एक साल में खेले 18 वनडे मैचों में 95 की औसत से 1045 रन बनाए हैं।

मध्य क्रम: टेस्ट में सलामी बल्लेबाजी करने वाले केएल राहुल वनडे में चौथे स्थान पर बल्लेबाजी करेंगे। राहुल को वनडे का ज्यादा अनुभव तो नहीं हैं लेकिन अब तक खेले 6 मैचों में उन्होंने 220 रन बनाए हैं जिसमें एक शतक और एक अर्धशतक शामिल है। वहीं श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भी उनका प्रदर्शन अच्छा था। अब जबकि राहुल को वनडे खेलने का मौका मिला है तो वह सभी को प्रभावित करना चाहेंगे। [ये भी पढ़ें: नंबर चार पर खेलेंगे केएल राहुल, इस बड़े बल्लेबाज को करना होगा इंतजार]

वैसे अगर राहुल फ्लॉप भी हुए तो टीम इंडिया के पास वनडे में दुनिया का सबसे बेहतरीन फिनिशर है ही। जी हां महेंद्र सिंह धोनी, जो कि कप्तानी छोड़ने के बाद और ज्यादा खतरनाक हो गए हैं। धोनी ने पिछले एक साल में 18 मैचों में 52.54 की औसत से 578 रन बनाए हैं। जिसमें एक शतक और चार अर्धशतक शामिल हैं। धोनी के टीम में रहने के मध्यक्रम को और मजबूती मिलती है। वहीं विकेट के पीछे धोनी की फुर्ती का कोई जवाब नहीं है।

पुछल्ले बल्लेबाज: भारतीय वनडे टीम में निचले क्रम में हार्दिक पांड्या और केदार जाधव जैसे विस्फोटक बल्लेबाज हैं। हाल ही में अपना टेस्ट डेब्यू करने वाले हार्दिक इस समय शानदार फॉर्म में हैं। हार्दिक ने पिछले ही साल अपना वनडे डेब्यू किया था। अब तक खेली 10 वनडे पारियों में हार्दिक ने 289 रन बनाए हैं। वनडे में उनका स्ट्राइक रेट 100 से भी ऊपर का है। वहीं केदार जाधव भी छोटे पैकेट में बड़ा धमाका हैं। जाधव ने एक साल में खेले 17 मैचों में एक शतक और एक अर्धशतक की मदद से 419 रन जोड़े हैं। अच्छी बात ये हैं कि अब टीम इंडिया के पास निचले क्रम में केवल काम चलाऊ खिलाड़ी नहीं हैं बल्कि अपने दम पर मैच जिताने का दम रखने वाले बल्लेबाज हैं। [ये भी पढ़ें: दांबुला वनडे से पहले टीम इंडिया ने की ‘जीत की ट्रेनिंग’, हंसी-मजाक करते दिखे विराट-धोनी]

स्पिन गेंदबाजी: कप्तान कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज के लिए अपने दो सबसे सफल स्पिन गेंदबाजों अश्विन-जडेजा को आराम दिया है। ऐसे में फिरकी का दारोमदार युवा खिलाड़ियों पर रहेगा। टीम इंडिया के पास अक्षर पटेल, युजवेंद्र चहल, शर्दुल ठाकुर और कुलदीप यादव हैं। यहां पर शर्दुल ठाकुर की बात करना सबसे जरूरी है क्योंकि वो ऐसे खिलाड़ी हैं जिनसे श्रीलंका टीम पूरी तरह अनजान हैं। ऐसे में वह खतरनाक साबित हो सकते हैं। ठाकुर ने कोई अंतर्राष्ट्रीय मैच तो नहीं खेला है लेकिन आईपीएल में उनके आंकड़े जबरदस्त हैं। वहीं हाल ही में भारत ए बनाम साउथ अफ्रीका ए सीरीज पर भी ठाकुर ने गजब का प्रदर्शन किया। उन्होंने चार मैचों में कुल 9 विकेट लिए, जिसमें 35 रन देकर चार विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा।

वहीं रवींद्र जडेजा की जगह टीम में शामिल हुए अक्षर पटेल की बात करें तो उन्होंने भी साउथ अफ्रीका ए के खिलाफ अच्छी गेंदबाजी की थी। वहीं अक्षर टीम में बल्लेबाजी का एक अतिरिक्त विकल्प ला सकते हैं ऐसे में अंतिम एकादश में उनका चयन होने की संभावना बढ़ जाती है। रविचंद्रन अश्विन की गैर मौजूदगी में युजवेंद्र चहल स्पिन गेंदबाजी का नेतृत्व कर सकते हैं। हालांकि चहल ने केवल 3 वनडे मैच खेले हैं लेकिन आईपीएल में उनके सामने बड़े-बड़े दिग्गज बल्लेबाजों ने घुटने टेके हैं।

बाएं हाथ के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव दाएं हाथ के बल्लेबाजों के खिलाफ घातक हथियार साबित हो सकते हैं। पांच वनडे खेल चुके कुलदीप ने वेस्टइंडीज दौरे पर अच्छी गेंदबाजी की थी। मुमकिन है कि कोहली तीन स्पिन गेंदबाजों के साथ उतरे ऐसे में चारों युवा खिलाड़ियों में से किसी एक को इंतजार करना पड़ सकता है। [ये भी पढ़ें: टीम इंडिया से क्लीन स्वीप का बदला लेना चाहती है श्रीलंकाई टीम !]

तेज गेंदबाजी: टीम इंडिया की तेज गेंदबाजी का जिम्मा हार्दिक पांड्या और जसप्रीत बुमराह संभालेंगे। दोनों गेंदबाज मिलकर श्रीलंका के शीर्ष बल्लेबाजों पर नई गेंद से वार करेंगे। बुमराह शुरुआती और डेथ ओवरों में बेहतरीन बल्लेबाजी करते हैं। उनकी सटीक यॉर्कर गेंदों से बचना बल्लेबाजों के लिए नामुमकिन है। हालांकि बुमराह की नो गेंदे उनके और टीम दोनों के लिए खतरनाक साबित होती हैं।

दूसरी ओर हार्दिक की गेंदबाजी में लगातार सुधार आ रहा है। उनमें वो काबिलियत है कि वह नई गेंद से शुरुआती ओवर में विकेट निकाल सकें। वहीं जब वह दूसरे स्पेल में गेंदबाजी करने आते हैं तो भी बल्लेबाजों को उन्हें खेलने में परेशानी होती है। श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कोहली के इस दांव ने उन्हें हमेशा विकेट दिलाए हैं और अब इसी पैंतरे से भारत को वनडे में भी सफलता मिलेगी।

भारतीय टीम की संभावित अंतिम एकादश: रोहित शर्मा (उप-कप्तान), शिखर धवन, विराट कोहली (कप्तान), केएल राहुल, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), हार्दिक पांड्या, केदार जाधव, अक्षर पटेल, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह।