वानखेड़े की पिच का मिजाज देखते हुए दूसरे सेमीफाइनल में दर्शकों को रनों की बारिश देखने को मिल सकती है© AFP
वानखेड़े की पिच का मिजाज देखते हुए दूसरे सेमीफाइनल में दर्शकों को रनों की बारिश देखने को मिल सकती है© AFP

गुरूवार को टी20 विश्व कप 2016 के दूसरे सेमीफाइनल में भारत और वेस्टइंडीज की टीमें आमने सामने होगी। दोनों ही टीमों ने अपने चार मैचों में तीन-तीन जीत हासिल कर सेमीफाइनल में जगह बनाई है। न्यूजीलैंड के हाथों हार का सामना करने के बाद भारतीय टीम ने शानदार वापसी करते हुए अगले तीन मैचों में जीत हासिल करते हुए सेमीफाइनल में जगह बनाई। भारतीय टीम का पलड़ा इस मुकाबले में भारी रहेगा लेकिन अगर रिकॉर्ड्स की बात करें तो कैरेबियन टीम का रिकॉर्ड बेहतर है। भारत और वेस्टइंडीज अब तक टी20 विश्व कप में 3 बार एक दूसरे से भिड़ी है जिनमें 2 मौकों पर जीत वेस्टइंडीज के हाथ आई है जबकि एक बार भारतीय टीम ने जीत हासिल की है। भारतीय टीम इस मैच को हर हाल में जीतकर फाइनल में जाना चाहेगी। लेकिन उसकी इस राह में सबसे बड़ी अड़चन क्रिस गेल हैं जिनसे पार पाना भारतीय गेंदबाजों के लिए चुनौती होगी। ALSO READ:  भारत बनाम वेस्टइंडीज, टी20 विश्व कप: टीम इंडिया के संभावित ग्यारह खिलाड़ी

भारतीय टीम के लिए एक बार फिर विराट कोहली सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ी होंगे। टीम के सदस्यों ने शिखर धवन को बड़े मैचों का खिलाड़ी बताया है तो अब समय आ गया है कि धवन अपने बल्ले से इस बात को सही साबित करें। रोहित शर्मा और सुरेश रैना की फॉर्म भारत के लिए चिंता का विषय है। इन बल्लेबाजों के ना चलने के कारण विराट पर दबाव बढ़ जाता है। युवराज के खेलने पर संशय बरकरार है उनके नहीं खेलने की स्थिति में धोनी के उपर भी जिम्मेदारी बढ़ जाएगी। हार्दिक पांड्या को बल्ले से जौहर दिखाने का मौका नहीं मिल पाया है। ALSO READ: भारत के लिए खतरा साबित हो सकते हैं क्रिस गेल

भारतीय टीम को इस मैच में जीत हासिल करनी है तो शुरूआत में ही क्रिस गेल को पवेलियन भेजना जरूरी है। गेल से निपटने के लिए धोनी अश्विन और बुमराह के साथ गेंदबाजी की शुरूआत कर सकते है। नेहरा टीम के सबसे अनुभवी गेंदबाज है इसलिये इस स्तर पर आकर उनसे और बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद होगी। हार्दिक पांड्या और रवीन्द्र जडेजा सहयोगी गेंदबाज की भूमिका में अब तक सफल रहे हैं।

वेस्टइंडीज टीम को इस मैच में जीत हासिल करनी है तो खुद के प्रदर्शन में स्थिरता लानी होगी। वेस्टइंडीज टीम ने जिस तरह अफगानिस्तान के सामने आत्मसमर्पण किया इस मुकाबले में वैसा करने से बचना होगा। गेल टीम के लिए सबसे प्रमुख खिलाड़ी होंगे और हर भारतीय गेंदबाज उनका शिकार करना चाहेंगे। लेकिन टीम के पास डैरेन सैमी, ड्वेन ब्रावो, आन्द्रे रसेल जैसे खिलाड़ी है जो मैच का रूख बदल सकते है। गेंदबाजी में वेस्टइंडीज टीम सुलेमान बेन और सैमुअल बद्री की स्पिन जोड़ी पर निर्भर रहेगी।

भारत:
शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली, सुरेश रैना, युवराज सिंह, महेन्द्र सिंह धोनी(कप्तान), हार्दिक पांड्या, रवीन्द्र जडेजा, रविचन्द्रन अश्विन, जसप्रीत बुमराह, आशीष नेहरा, मनीष पांडे, अंजिक्य रहाणे, पवन नेगी, मोहम्मद शमी, हरभजन सिंह, भुवनेश्वर कुमार।

वेस्टइंडीज:
डैरेन सैमी(कप्तान), जानसन चार्ल्स, आन्द्रे फ्लेचर, क्रिस गेल, ड्वेन ब्रावो, मार्लोन सैमुअल्स, दिनेश रामदीन(विकेटकीपर), आन्द्रे रसेल, सैमुअल बद्री, सुलेमान बेन, कार्लोस ब्रेथवेट, जेसन होल्डर, जेरेम टेलर, एस्ले नर्स, इविन लुईस।