एरन फिंच  © AFP
एरन फिंच © AFP

आईपीएल में आज गुजरात लायंस और मुंबई इंडियंस के बीच खेले जाने वाले मैच में मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। उन्होंने बताया कि शाम को वह ओस गिरने की उम्मीद कर रहे हैं इसलिए स्कोर का पीछा करना उनके लिए ठीक रहेगा। वहीं जब विपक्षी टीम के कप्तान सुरेश रैना से बात की गई तो उन्होंने जो बताया वो सुनकर एक खिलाड़ी की हालत पर तरस आ गया। रैना ने बताया कि उनकी टीम में एरन फिंच नहीं खेल रहे हैं क्योंकि उनका किट बैग नहीं आया है। इसलिए उनकी जगह टीम में जेसन रॉय को शामिल किया गया है। फिंच पिछले मैच में अच्छे स्ट्रोक लगाते हुए नजर आए थे और उन्होंने राजकोट में पुणे के खिलाफ नाबाद 33 रन बनाए थे। ऐसे में उम्मीद की जा रही थी कि वह इस मैच में धमाका मचाएंगे। लेकिन उनका किट बैग न आने की वजह से वह नहीं खेल पाए और सुरेश रैना को आउट ऑफ फॉर्म बैट्समेन जेसन रॉय को टीम में जगह देनी पड़ी।

एरन फिंच के साथ घटा यह पहला वाकया नहीं है बल्कि साल 1993 में भारत आई वेस्टइंडीज टीम के साथ ऐसा ही एक वाकया घटा था। साल 1993 में भारत में त्रिकोणीय और द्विपक्षीय सीरीज खेलने के लिए वेस्टइंडीज टीम ने भारत का दौरा किया था। त्रिकोणीय सीरीज का फाइनल मैच भारत बनाम वेस्टइंडीज कोलकाता के ईडेन गार्डन में खेला गया था जो डे-नाइट मैच था। इसके दो दिन बाद इन दोनों टीमों के बीच द्विपक्षी सीरीज का मैच विशाखापत्तनम में खेला गया जो डे था। भारतीय टीम को ‘आईए एयरलाइंस’ ने उनकी किट के साथ आराम से विशाखापत्तनम अगले मैच के लिए पहुंचा दिया।

लेकिन ‘आईए एयरलाइंस’ की गलती की वजह से वेस्टइंडीज टीम की किट मद्रास में ही छूट गई। फलस्वरूप दोनों टीमों के कप्तानों को टॉस के लिए एक घंटे तक इंतजार करना पड़ा। समय की बर्बादी के कारण मैच को 44-44 ओवरों का कर दिया गया। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू के शानदार शतक 114 और सचिन तेंदुलकर के अर्धशतक की बदौलत निर्धारित 44 ओवरों में 4 विकेट पर 260 रनों का स्कोर खड़ा किया। ये भी पढ़ें- आईपीएल 10, 16वां मैच, गुजरात लायंस बनाम मुंबई इंडियंस का स्कोरकार्ड

इस तरह भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज के समक्ष एक बड़ा स्कोर खड़ा कर दिया। लेकिन इस बीच जो हुआ उसने वेस्टइंडीज टीम को बेहद निराश कर दिया। चूंकि मैच के नियम के मुताबिक वेस्टइंडीज को अपने 44 ओवरों की गेंदबाजी 1.26 बजे तक समाप्त कर लेनी थी, लेकिन उन्होंने इसके लिए 1.42 बजे तक का समय ले लिया। जिसके कारण मैच रेफरी ने वेस्टइंडडीज टीम पर 1 ओवर का ग्रेस लगा दिया और अब उन्हें यही स्कोर 43 ओवरों में चेज करने के लिए बोला गया। देर होने के पीछे वेस्टइंडीज टीम का हाथ कतई नहीं था, क्योंकि देर तो सिद्धू के मैदान पर घायल होने की वजह से हुई थी। अब वेस्टइंडीज को 6.07 के भारी-भरकम रन रेट के साथ भारत के स्कोर का पीछा करना था।

वेस्टइंडीज ने इस अन्याय के बावजूद बेहतरीन खेल दिखाया और उनके दोनों सलामी बल्लेबाजों फिल सिमंस(51 रन 77 गेंद) और स्टुअर्ट विलियम्स(49 रन 60 गेंद) ने बेहतरीन शुरुआत दी। इस मैच में दूसरे वनडे में खेले कपिल देव के स्थान पर वेंकटेश प्रसाद को शामिल किया गया था(उस मैच के बाद कपिल देव ने विश्व क्रिकेट को अलविदा कह दिया)। वेंकटेश को वेस्टइंडीज टीम के बल्लेबाजों ने खूब निशाना बनाया। कार्ल हूपर ने बेहतरीन बल्लेबाजी की और 47 गेंदों में आतिशी 74 रन ठोंक दिए, लेकिन अंतिम ओवर उन्हें खल गया जो मैच रैफरी ने काट लिया था और वह मैच 4 रनों से हार गए। इस तरह ‘आईए एयरलाइंस’ की गलती का शिकार हुई वेस्टइंडीज टीम इस मैच को हार गई। जाहिर है कि अगर ‘आईए एयरलाइंस’ये गलती न करती तो मैच 50 ओवर का होता और तब शायद वेस्टइंडीज टीम को चार रन से हार का सामना न करना पड़ता।