IPL 2019: All you need to know about RCB’s, CSK’s, and MI’s schedule and other teams

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण में एक महीने का समय बचा है। विश्व की सबसे चर्चित क्रिकेट लीग के लिए टीमों ने कमर कस ली है। 23 मार्च से शुरू हो रही लीग में चमचमाती ट्रॉफी के लिए जद्दोजहद करने को तैयार हैं।
इस बार टीमों में कई बदलाव दिखेंगे। एक ओर जहां दिल्ली फ्रेंचाइजी अपना नाम बदल कर दिल्ली कैपिटल्स के नए नाम से उतर रही है तो वहीं राजस्थान ने नई जर्सी के साथ नए सीजन का आगाज करने का फैसला किया है। तीन टीमों को छोड़कर बाकी टीमों का मालिकाना हक किसी न किसी रूप में बदला है।

चेन्नई सुपर किंग्स :

सभी की नजरें मौजूदा विजेता चेन्नई सुपर किंग्स पर रहेंगी। बीते सीजन में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में इस टीम ने दो साल के निलम्बन बाद वापसी की थी और तीसरा खिताब जीता था। चेन्नई आईपीएल इतिहास की सबसे सफल टीम है।

चेन्नई ने बीते सीजन के कई खिलाड़ियों को अपने साथ बनाए रखा और इस साल कम ही खिलाड़ियों को नीलामी में खरीदा। उन खिलाड़ियों में से एक हैं मोहित शर्मा जो पहले भी चेन्नई का हिस्सा रह चुके हैं। चेन्नई ने मोहित के लिए पांच करोड़ रुपये की कीमत अदा की। लेकिन इस टीम पर सभी की नजरें शेन वॉटसन, फाफ डु प्लेसिस, ड्वेन ब्रावो, लुंगी एंगिडी पर रहेंगी।

इन सभी के अलावा केदार जाधव और अंबाती रायडू वो खिलाड़ी होंगे जो सुर्खियां बटोरेंगे। जाधव को बीते सीजन के शुरुआत में ही मांसपेशियों की समस्या हो गई थी और उनकी जगह रायडू को मौका मिला था। इस बल्लेबाज ने मौका पूरा फायदा उठाते हुए टीम को खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी।

दिल्ली कैपिटल्स :

नए नाम वाली दिल्ली कैपिटल्स नए मालिक के साथ उतर रही है। टीम ने कई बदलाव किए हैं। भारत की टेस्ट टीम का अहम हिस्सा ईशांत शर्मा दिल्ली से खेलेंगे। ईशांत के अलावा शिखर धवन की भी दिल्ली वापसी हुई है जिनके बदले दिल्ली ने सनराइजर्स हैदराबाद को तीन खिलाड़ी सौंपे हैं। दिल्ली की अच्छी बात यह है कि उसके पास वो खिलाड़ी हैं जिनके हाथों में भारत का भविष्य देखा जा रहा है। पृथ्वी शॉ, रिषभ पंत, श्रेयस अय्यर उन खिलाड़ियों में शामिल हैं।

किंग्स इलेवन पंजाब :

पंजाब नीलामी में अपनी जेब में सबसे ज्यादा पैसा लेकर उतरी थी। बीते सीजन इस टीम ने अच्छी शुरुआत की थी लेकिन आखिर में राह भटकने के कारण वह प्लेऑफ में जाने से चूक गई थी। टीम ने इस बार घरेलू खिलाड़ियों पर बड़ा दांव खेला है। उसने हरफनमौला खिलाड़ी वरूण चक्रवर्ती को 8.40 करोड़ की कीमत में खरीदा है तो वहीं महज 17 साल के प्रभसिमरन सिंह के लिए 4.80 करोड़ खर्च किए हैं। वेस्टइंडीज के निकोलस पूरण के लिए भी टीम ने 4.20 करोड़ रुपये की भारी भरकम कीमत दी है।

कोलकाता नाइट राइडर्स :

दो बार की विजेता ने इस बार वेस्टइंडीज की टी-20 विश्व कप जीत के नायक रहे कार्लोस ब्राथवेट को पांच करोड़ देकर अपने साथ जोड़ा है। पिछले साल कोलकाता ने अपने सफल कप्तान गौतम गंभीर से विदाई लेकर दिनेश कार्तिक को कमान सौंपी थी, लेकिन सफल नहीं हो पाई थी। इस बार प्रबंधन ने टीम संयोजन में बदलाव किए हैं। मिशेल स्टार्क और मिशेल जॉनसन इस बार टीम में नहीं हैं, लेकिन टीम ने एनरीच नोर्टजे को अपने साथ जोड़ा है।

मुंबई इंडियंस :

जयपुर में हुई नीलामी में तीन बार की विजेता मुंबई ने ज्यादा पैसा खर्च नहीं किया क्योंकि उसने पहले से ही अपनी जरूरत के हिसाब से खिलाड़ियों को रिटने किया था। हां, नीलामी में युवराज सिंह को खरीद कर मुंबई ने सभी को हैरान तो किया। तो वहीं टीम लसिथ मलिंगा को भी अपने साथ दो करोड़े की कीमत में जोड़ने में सफल रही। अनमोलप्रीत सिंह के रूप में टीम ने एक अच्छा खिलाड़ी अपने साथ जोड़ा है। बेंगलोर से क्विंटन डी कॉक टीम में आ गए हैं।

राजस्थान रॉयल्स :

लीग के पहले सीजन का खिताब जीतने वाली यह टीम अपने दूसरे खिताब के लिए बेताब है। पिछले साल चेन्नई के साथ इस टीम ने भी दो साल बाद आईपीएल में वापसी की थी, लेकिन शुरुआती सफलता के बाद अंत में भटकने के कारण टीम वो चीज हासिल नहीं कर पाई जिसकी ख्वाहिश उसे थी। बॉल टैंपरिंग विवाद के कारण टीम ने स्टीवन स्मिथ जैसा खिलाड़ी खो दिया था।
राजस्थान ने स्मिथ को अपने साथ बनाए रखा है। अब देखना होगा कि स्मिथ राजस्थान के साथ इस साल खेल पाते हैं या नहीं। बीते सीजन कृष्णाप्पा गौतम ने राजस्थान के लिए शानदार प्रदर्शन किया था। इस बार भी उन पर निगाहें होंगी।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर :

विराट कोहली की कप्तानी वाली बैंगलोर को शुरू से अभी तक बल्लेबाजी पावरहाउस माना जाता है, लेकिन यह टीम अभी तक खिताब से दूर ही रही है। इस टीम में एबी डिविलियर्स जैसा खिलाड़ी भी है, लेकिन इस बार टीम ने पांच करोड़ में शिवम दुबे को लेकर सभी को चौंका दिया। शिवम कितना सफल होते हैं यह वक्त बताएगा लेकिन मोइन अली, कोलिन डी ग्रैंडहोम, मार्कस स्टोइनिस के साथ टीम ने संतुलन बनाने की कोशिश की है।

सनराइजर्स हैदराबाद :

राजस्थान की तरह इस पूर्व विजेता को भी बीते सीजन में अपने मुख्य खिलाड़ी डेविड वार्नर के बिना उतरी थी। स्मिथ के साथ ही वार्नर पर भी बॉल टैंपरिंग विवाद में एक साल का प्रतिबंध है। वार्नर की गैरमौजूदगी में केन विलियमसन ने टीम को भार अच्छे से उठाया था। अब वार्नर के आने के बाद कप्तान कौन होगा यह लीग के शुरू होने के आस-पास साफ होगा। इस बार हालांकि हैदराबाद के लिए परेशानी बढ़ सकती है क्योंकि शिखर धवन वापस दिल्ली लौट गए हैं, लेकिन टी-20 के दिग्गज मार्टिन गुप्टिल टीम में आ गए हैं।