IPL 2019, CSK vs DC: Chennai Super Kings again top the  points table after defeating Delhi Capitals
CSK vs DC

आईपीएल 2019 के 50वें मुकाबले में दिल्‍ली को 80 रन से हराकर महेंद्र सिंह धोनी की चेन्‍नई सुपर किंग्‍स एक बार फिर अंकतालिका में पहले स्‍थान पर पहुंच गई है। दिल्‍ली और चेन्‍नई दोनों प्‍लेऑफ में अपनी जगह पक्‍की कर चुकी हैं। ऐसे में ये मैच दोनों टीमों के लिए दो मायनाें में अहम था। पहला- अंकतालिका में वर्चस्‍व की लड़ाई और दूसरा- प्‍लेऑफ खत्‍म होने तक पहले दो स्‍थानों पर जगह बनाए रखना।

चेन्‍नई के हाथों हार से पहले दिल्‍ली ने बैंगलुरू को हराकर न सिर्फ प्‍लेऑफ में अपनी जगह पक्‍की की थी बल्कि वो अंकतालिका में पहले स्‍थान पर भी पहुंच गई थी। दिल्‍ली की इस जीत के बाद सीजन की शुरुआत से ही टॉप पर रही चेन्‍नई को दूसरे स्‍थान पर संतोष करना पड़ा था। हालांकि युवा श्रेयस अय्यर की टीम को अपने होम ग्राउंड हराकर धोनी एक बार फिर प्‍वाइंट्स टेबल के बादशाह बन गए हैं।

पढ़ें:- जैसे धोनी ने मुझे स्टंप किया वो बिजली की तरह तेज था- श्रेयस अय्यर

चेन्‍नई से करारी हार दिल्‍ली के लिए खतरे की घंटी

नियम के मुताबिक प्‍वाइंट्स टेबल की टॉप दो टीमों को फाइनल में पहुंचने के लिए एक अतिरिक्‍त अवसर मिलता है। यानि लीग स्‍तर के मैच खत्‍म होने के बाद प्‍लेऑफ मे अगर टॉप दो टीमें एक मैच हार भी जाती हैं तो उन्‍हें तीसरे व चौथे नंबर की बीच विजेता टीम के खिलाफ जीत दर्ज कर फाइनल में पहुंचने का अतिरिक्‍त अवसर मिलता है। ऐसे में चेन्‍नई के खिलाफ 80 रन से करारी हार दिल्‍ली के लिए खतरे की घंटी के समान है। बुरी तरह हारने से दिल्‍ली की नेट रनरेट अब -0.096 हो गई है। मुंबई और हैदराबाद जैसी टीमों के पास बाकी बचे अपने दोनों मैच जीतकर टॉप दो में जगह बनाने का मौका है। दिल्‍ली किसी कीमत पर इस अवसर को नहीं गंवाना चाहेगी।

पढ़ें:- IPL 2019: चेन्‍नई के हाथों करारी हार के बाद दूसरे पायदान पर फिसली दिल्‍ली

अच्‍छी शुरुआत का फायदा उठाने से चूकी दिल्‍ली

दिल्‍ली और चेन्‍नई के बीच मैच में दोनों टीमों के फैन्‍स कांटे की टक्‍कर देखने की उम्‍मीद कर रहे थे। लगातार खराब फॉर्म से जूझ रहे शेन वॉटसन इस मैच में शून्‍य पर आउट हुए। दिल्‍ली के गेंदबाजों ने अच्‍छी शुरुआत का फायदा उठाते हुए चेन्‍नई के बल्‍लेबाजों को बांधकर रखा। पहले 10 ओवरों में चेन्‍नई एक विकेट के नुकसान पर महज 53 रन ही बना पाई थी। 15वें ओवर में जाकर चेन्‍नई 100 रन तक पहुंच पाई। यहां से दिल्‍ली के लिए जीत आसान नजर आ रही थी, लेकिन 14वें ओवर में बल्‍लेबाजी के लिए आए धोनी ने 22 गेंद पर 44 रन की नाबाद पारी खेलकर मैच का रुख पलट दिया। आखिरी पांच ओवर में चेन्‍नई ने 77 रन ठोक दिए।

पढ़ें:- हार्दिक पांड्या को रोकने के लिए हमारे पास योजना: टॉम मूडी

ताहिर-जडेजा की फिरकी में फंसे दिल्‍ली के धुरंधर

चेन्‍नई का होम ग्राउंड और उपर से चेपॉक की पिच पर 180 रन का विशाल लक्ष्‍य। दिल्‍ली के लिए जीत की राहें आसान नहीं थी। इमरान ताहिर और रवींद्र जडेजा की फिरकी ने दिल्‍ली के हाथ से इस मैच को कोसों दूर धकेल दिया।। लगातार खराब फॉर्म से जूझ रहे दिल्‍ली के सलामी बल्‍लेबाज पृथ्‍वी शॉ 4(5) को दीपक चाहर ने मैच के पहले ही ओवर में डगआउट का रास्‍ता दिखा दिया। शिखर धवन 19(13) और कप्‍तान श्रेयस अय्यर 44(31) ने दूसरे विकेट के लिए 48 रन जोड़कर बड़े लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने की अपनी इच्‍छा शक्ति जरूर दिखाई, लेकिन छठे ओवर में धवन के आउट होने के बाद पूरी टीम ताश के पत्‍तों की तरह ढह गई। इमरान ताहिर ने चार विकेट अपने नाम किए तो रवींद्र जडेजा का तीन विकेट मिले। दोनों की फिरकी के जाल में दिल्‍ली के धुरंधर इस कदर फंसे कि धवन और अय्यर के अलावा अन्‍य कोई खिलाड़ी दो अंकों में रन तक नहीं बना पाया।

पढ़ें:- डेविड वार्नर के बिना अहम मुकाबले में हैदराबाद के सामने होगी मुंबई

विकेट के पीछे भी धोनी ने दिखाई बिजली सी तेजी

धोनी 37 साल के हो चुके हैं और वो क्रिकेट से संन्‍यास लेने के काफी करीब हैं, लेकिन उम्र के इस पड़ाव पर भी वो एक 20-22 साल के युवा की तरह मैदान में एक्टिव दिखते हैं। धोनी ने 200 की स्‍ट्राइकरेट से 22 गेंद पर नाबाद 44 रन बनाकर न सिर्फ अपनी टीम को संकट से उबारा बल्कि विकेट के पीछे रहते हुए एक ही ओवर में दो स्‍टंप आउट भी किए। 12वें ओवर में मैदान पर क्रिस मॉरिस के साथ दूसरे छोर पर कप्‍तान श्रेयस अय्यर थे। ये ओवर रवींद्र जडेजा डाल रहे थे। चौथी गेंद पर मॉरिस की जरा सी चूक का फायदा उठाते हुए धोनी ने बिना देरी करे उन्‍हें स्‍टंप कर दिया। मॉरिस शून्‍य पर आउट हुए। इसी ओवर की आखिरी गेंद पर ठीक मॉरिस की तरह ही कप्‍तान श्रेयस अय्यर भी धोनी का शिकार बने।