IPL 2019: Previous winners over the 11 years journey

साल 2008 में भारतीय क्रिकेट बोर्ड के तहत एक प्रयोग की तरह शुरू की गया इंडियन प्रीमियर लीग टूर्नामेंट एक दशक का सफर तय करने के बाद विश्व की सबसे पसंदीदा टी20 लीग में से एक बन चुका है। आईपीएल का 12वां सीजन 23 मार्च से शुरू होने जा रहा है लेकिन इससे पहले इस लीग के 11 सीजन के विजेताओं पर एक नजर डालना जरूरी है।

आईपीएल (2008) के इतिहास का पहला खिताब जीतने वाली टीम राजस्थान रॉयल्स है। दिग्गज लेग स्पिन शेन वार्न की अगुवाई में राजस्थान रॉयल्स ने चेन्नई सुपर किंग्स को फाइनल में हराकर आईपीएल 2008 का खिताब जीता था। यूसुफ पठान राजस्थान की जीत के नायक रहे थे। 2008 के आईपीएल सीजन में ऑरैंज कैप किंग्स इलेवन पंजाब के शॉन मार्श (616 रन) और पर्पल कैप राजस्थान के सोहेल तनवीर (22 विकेट) को मिली थी। जबकि प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट शेन वॉटसन  (472 रन-17 विकेट) रहे थे।

आईपीएल 2009 पहला ऐसा सीजन था जिसे भारत से बाहर आयोजित किया गया था। दक्षिण अफ्रीका में आयोजित हुए इस टूर्नामेंट को एडम गिलक्रिस्ट की कप्तानी में डेक्कन चार्जस टीम में जीता था। गौरतलब है कि फाइनल मैच में 6 विकेट से हारने के बावजूद रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान अनिल कुंबले (4-16-4) मैन ऑफ द मैच रहे थे। डीसी के कप्तान एडम गिलक्रिस्ट (495 रन) प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट रहे थे। ऑरेंज कैप चेन्नई सुपर किंग्स के मैथ्यू हेडन (572 रन) और पर्पल कैप डीसी के रुद्र प्रताप सिंह (23) को मिली थी।

आईपीएल 2010 में महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में चेन्नई सुपर किंग्स ने अपना पहला खिताब जीता था। फाइनल मैच में सुरेश रैना के नाबाद अर्धशतक के दम पर सीएसके ने मुंबई को 22 रन से हराकर ट्रॉफी पर कब्जा किया। हालांकि प्लेयर ऑफ द सीरीज के साथ-साथ ऑरेंज कैप के विजेता मुंबई इंडियंस के कप्तान सचिन तेंदुलकर (618 रन) रहे थे। पर्पल कैप डेक्कन चार्जर्स के प्रज्ञान ओझा (21 विकेट) ने जीती थी।

आईपीएल 2011 में चेन्नई सुपर किंग्स ने लगातार दूसरी बार खिताब पर कब्जा किया। सीएसके ने आरसीबी के खिलाफ फाइनल मैच में 58 रनों से जीत हासिल की थी। मैन ऑफ द मैच खिताब 95 रनों की पारी खेलने वाले मुरली विजय को मिला था। प्लेयर ऑफ द सीरीज आरसीबी के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल (608 रन) रहे। मुंबई इंडियंस के लसिथ मलिंगा (28) ने पर्पल कैप पर कब्जा किया।

आईपीएल 2012 में एक नई टीम विजेता के रूप में उभरी। गौतम गंभीर की कप्तानी में कोलकाता नाइट राइडर्स ने दो बार की विजेता सीएसके को फाइनल में हराकर पहला खिताब जीता। फाइनल मैच में मैन ऑफ द मैच रहे मनविंदर बिसला ने 89 रनों की शानदार पारी खेली थी। 2012 सीजन के प्लेयर ऑफ द सीरीज केकेआर के घातक स्पिनर सुनील नरेन (24 विकेट) रहे। दिल्ली डेयरडेविल्स के मॉर्ने मॉर्केल (25 विकेट) ने पर्पल कैप पर कब्जा किया और आरसीबी के क्रिस गेल (733) ने एक बार फिर ऑरेंज कैप जीती।

आईपीएल 2013 में नए कप्तान रोहित शर्मा की अगुवाई में मुंबई इंडियंस ने अपना पहला खिताब जीता। फाइनल मैच में महेंद्र सिंह धोनी की अर्धशतकीय पारी भी सीएसके को हार से नहीं बचा पाई। मुंबई की जीत के नायक कीरोन पोलार्ड रहे। प्लेयर ऑफ द सीरीज का खिताब राजस्थान के शेन वॉटसन (543 रन-13 विकेट) रहे। जबकि ऑरेंज कैप पर चेन्नई के माइक हसी (733) ने कब्जा किया। पर्पल कैप भी चेन्नई के ही ड्वेन ब्रावो (32) के खाते में गई।

आईपीएल 2014 में ये लीग एक बार फिर भारत से बाहर गई। सातवें सीजन का आयोजन संयुक्त रूप से भारत और यूएई में किया गया। 2014 में कोलकाता नाइट राइडर्स ने पहली बार फाइनल में पहुंची किंग्स इलेवन पंजाब को हराकर दूसरी ट्रॉफी जीती। फाइनल मैच में रनों का पीछा करते हुए मनीष पांडे ने 94 रनों की धमाकेदार पारी खेली। हालांकि प्लेयर ऑफ द सीरीज पंजाब के ग्लेन मैक्सवेल (552 रन) रहे। ऑरेंज कैप केकेआर के रॉबिन उथप्पा (660) और पर्पल कैप चेन्नई के मोहित शर्मा (23) को मिली।

आईपीएल 2015 में मुंबई इंडियंस ने अपना दूसरा खिताब जीता। टूर्नामेंट के पहले भाग में लगातार हार का सामना करने के बाद मुंबई टीम ने दूसरे भाग में धमाकेदार वापसी की और फाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स को 41 रनों से मात दी। फाइनल मैच में कप्तान रोहित शर्मा ने शानदार अर्धशतक जड़ा। 2015 सीजन में प्लेयर ऑफ द सीरीज केकेआर के आंद्रे रसेल (326 रन-14 विकेट) रहे। सनराइजर्स हैदराबाद के डेविड वार्नर (562 रन) ने ऑरेंज कैप अपने नाम की। चेन्नई सुपर किंग्स के ड्वेन ब्रावो (26 विकेट) ने दूसरी बार पर्पल कैप जीती।

आईपीएल 2016 में डेविड वार्नर की अगुवाई में सनराइजर्स हैदराबाद ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का खिताब जीतने का सपना तोड़ा। फाइनल मैच में वार्नर ने 69 रनों की शानदार पारी खेली लेकिन मैन ऑफ द मैच नाबाद 39 रन बनाने वाले बेन कटिंग रहे। आरसीबी के कप्तान विराट कोहली ने रिकॉर्ड 973 रन बनाकर प्लेयर ऑफ द सीरीज खिताब के साथ ऑरेंज कैप पर भी कब्जा किया। हैदराबाद के भुवनेश्वर कुमार (23 विकेट) पर्पल कैप विजेता बने। ये पहला सीजन था जिसमें चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स टीमों ने हिस्सा नहीं लिया था। जिसके चलते गुजरात लायंस और राइसिंग पुणे सुपरजायंट्स टीम की इंट्री हुई थी।

आईपीएल 2017 में इतिहास रचते हुए मुंबई इंडियंस तीन खिताब जितने वाली पहली टीम बनी। रोहित शर्मा की कप्तानी में मुंबई में रोमांचक फाइनल मैच में पुणे सुपरजायंट्स को एक रन हराकर तीसरी बार आईपीएल ट्रॉफी जीती। शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन करने वाले क्रुनाल पांड्या मैन ऑफ मैच रहे। वहीं पहली बार आईपीएल में हिस्सा लेने वाले और उस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी रहे बेन स्टोक्स (316 रन-12 विकेट) ने प्लेयर ऑफ द सीरीज खिताब जीता। हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर (614 रन) ने ऑरेंज कैप पर कब्जा किया। भुवनेश्वर कुमार (26 विकेट) ने दूसरी बार पर्पल कैप जीती।

आईपीएल 2018 को इंडियन प्रीमियर लीग के इतिहास का सबसे रोमांचक सीजन कहना जायज होगा। आईपीएल के 11वें सीजन की कहानी किसी बॉलीवुड फिल्म जैसी है। 2018 में दो साल के बाद टूर्नामेंट में लौटी चेन्नई सुपरकिंग्स ने लगातार अच्छा प्रदर्शन कर अपना तीसरा खिताब जीता। सनराइजर्स के खिलाफ फाइनल मैच में शेन वॉटसन ने शतकीय पारी खेलकर सीएसके की आईपीएल में धमाकेदार वापसी कराई। इसी सीजन में कावेरी नदी विवाद के चलते सीएसके टीम अपने घरेलू मैच चेपॉक स्टेडियम में नहीं खेल सकी लेकिन सीएसके फैंस को लोकल फैंस का सपोर्ट दिलाने के लिए चेन्नई से पुणे स्पेशल ट्रेन तक चलवाई गई।

2018 सीजन के प्लेयर ऑफ द सीरीज केकेआर के सुनील नरेन (357 रन-17 विकेट) रहे जो कि 11वें सीजन में अपनी गेंदबाजी से ज्यादा बल्लेबाजी के लिए पसंद किए गए। ऑरेंज कैप डेविड वार्नर की गैर मौजूदगी में सनराइजर्स की कप्तानी कर रहे केन विलियमसन (735 रन) को गई। पर्पल कैप पर किंग्स इलेवन पंजाब के एंड्रयू टाय (24 विकेट) ने कब्जा किया।