IPL 2019, RCB v SRH: Shimron Hetmyer,Gurkeerat Singh Mann’s partnership and other talking points of Bangalore vs Hyderabad, 54th Match

इंडियन प्रीमियर लीग के 54वें मैच में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मुकाबले में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 4 विकेट से शानदार जीत हासिल की। हैदराबाद के खिलाफ इस मैच में वो सब कुछ देखने को मिला जो बैंगलुरू की टीम पूरे सीजन में नहीं कर पाई। विराट कोहलीएबी डिविलियर्स के जल्दी आउट होने के बाद मध्य क्रम के बल्लेबाजों ने पारी को संभाला। साथ ही बैंगलुरू टीम की गेंदबाजी में भी सुधार देखने को मिला। घरेलू मैदान पर सीजन के आखिरी मैच में शिमरोन हेटमेयर और गुरकीरत सिंह मान बैंगलुरू की जीत के नायक रहे। हालांकि इन दोनों बल्लेबाजों के अलावा इस मैच में और भी कई शानदार प्रदर्शन देखने को मिले।

नवदीप सैनी ने दिलाई शुरुआती सफलता:

हैदराबाद के खिलाफ मैच में टॉस जीतकर कप्तानी कोहली ने विपक्षी टीम को पहले बल्लेबाजी के लिए बुलाया। डेविड वार्नर और जॉनी बेयरस्टो की गैर मौजूदगी में ऋद्धिमान साहा और मार्टिन गप्टिल पारी की शुरुआत करने उतरे। दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 46 रन जोड़े। नवदीप सैनी ने इस साझेदारी को बढ़ने से रोका और पावरप्ले में बैंगलुरू टीम को पहली सफलता दिलाई। सैनी ने पांचवें ओवर में साहा को आउट कर टीम को शुरुआती सफलता दिलाई।

वाशिंगटन सुंदर का आठवां ओवर:

पावरप्ले में साहा का विकेट खोने के बाद हैदराबाद टीम को झटका जरूर लगा लेकिन गप्टिल के क्रीज पर मौजूद रहते चिन्नास्वामी स्टेडियम में चौके-छक्कों की बरसात जारी रही। जिसे रोकने का काम वाशिंगटन सुंदर ने किया। आठवें ओवर से अटैक में आए सुंदर ने दूसरी ही गेंद पर गप्टिल को चलता किया। गति से मात खा गए गप्टिल ने गेंद को सीधा मिड विकेट पर खड़े कोहली की तरफ खेल दिया और अपना विकेट गंवा बैठे।

ये भी पढ़ें: शिमरोन हेटमायर ने बताई देर से बड़ी पारी खेलने की वजह

ओवर की पांचवीं गेंद पर मनीष पांडे आते ही बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में आउट हुए। पांडे के विकेट का श्रेय फील्डर हेटमेयर को मिलना चाहिए, जिन्होंने डाइव लगाते हुए बेहतरीन कैच पकड़ा। सुंदर ने तीन ओवर में 24 रन देकर तीन विकेट लिए। एक ओवर में लगातार दो विकेट खोने के बाद हैदराबाद की बल्लेबाजी बिखरने लगी लेकिन एक खिलाड़ी था जो एक छोर से टिका रहा।

केन विलियमसन की कप्तानी पारी:

61 रन के स्कोर पर तीन विकेट खोने के बाद केन विलियमसन ने हैदराबाद की पारी को संभाला। विलियमसन के लिए 12वां सीजन बतौर बल्लेबाज उतना खास नहीं रहा था। चोट और फिटनेस की वजह से उन्होंने काफी मैच मिस किए और जिन मैचों में उन्हें मौका मिला, वहां पर वो कुछ खास नहीं कर पाए लेकिन बैंगलुरू के खिलाफ मैच में जब टीम को एक सीनियर खिलाड़ी की जरूरत थी तो विलियमसन ने इस जिम्मेदारी को निभाया। कप्तान ने 43 गेंदो पर 5 चौकों और 4 छक्कों की मदद से नाबाद 70 रन बनाए। जिसकी मदद से एक समय ऑलआउट होने की स्थिति में लग रही हैदराबाद 7 विकेट पर 175 रन का स्कोर खड़ा कर सकी।

हेटमेयर-गुरकीरत की साझेदारी:

176 के लक्ष्य का पीछा करने उतरी बैंगलुरू टीम की शुरुआत भी हैदराबाद जितनी ही खराब रही। पहले ओवर में भुवनेश्वर कुमार ने पार्थिव पटेल को शून्य पर आउट किया। और अगले ओवर में कप्तान कोहली खलील अहमद के शिकार बने। तीसरे ओवर में एबी डीविलियर्स मात्र एक रन बनाकर भुवनेश्वर की गेंद पर आउट हो गए। केवल 20 रन के स्कोर पर तीन विकेट खोने के बाद पूरे सीजन असफल रहे शिमरोन हेटमेयर ने बैंगलुरू को जीत तक पहुंचाया और उनका साथ दिया गुरकीरत सिंह मान ने।

ये भी पढ़ें: हेटमेयर और गुरकीरत के दम पर बैंगलुरू ने जीत से ली विदाई

दोनों बल्लेबाजों ने मिलकर चौथे विकेट के लिए 144 रनों की शानदार साझेदारी बनाई। हेटमेयर ने 47 गेंदो पर 4 चौकों और 6 छक्कों की मदद से 75 रनों की मैच विनिंग पारी खेली। वहीं गुरकीरत ने 48 गेंदो पर 65 रन बनाए। जिसकी मदद से बैंगलोर ने चार गेंद बाकी रहते 4 विकेट से मैच जीता।