IPL 2019: Royal Challengers Bangalore Team performance review
Yuzvendra Chahal, Virat Kohli, AB De Villiers

आईपीएल के 11 सीजन बीत जाने के बावजूद खिताब से वंचित बैंगलुरू ने जब इस सीजन की शुरुआत की तो लगातार पहली छह हार के बाद टीम के लिए प्‍लेऑफ की राहें धुंधली पड़ने लगी थी। कप्‍तान विराट कोहली का खेल के प्रति जुनून और टीम को एक जुट रखने की उनकी सोच यहां काम आई। बैंगलुरू प्‍लेऑफ में तो नहीं पहुंच सकी लेकिन आखिरी आठ में से पांच मैच जीतकर इस टीम ने पंजाब, कोलकाता जैसी टीमों का खेल जरूर बिगाड़ दिया।

केवल एक और जीत से बैंगलुरू बना लेती प्‍लेऑफ में जगह

इस सीजन में बैंगलुरू ने अपने 14 में से पांच मैच जीते और 11 प्‍वाइंट के साथ आठवें स्‍थान पर सीजन का अंत किया। इस सीजन में आईपीएल के इतिहास में पहली बार महज छह मैच जीतकर कोई टीम प्‍लेऑफ में पहुंची। हैदराबाद ने 12 प्‍वाइंट्स के साथ प्‍लेऑफ में प्रवेश किया। पंजाब और कोलकाता के पास भी 12 प्‍वाइंट ही थे, लेकिन हैदराबाद की नेट रनरेट दोनों से ज्‍यादा थी। यानी विराट कोहली की टीम अगर एक मैच और जीत जाती तो वो आखिरी पायदान पर सीजन का अंत करने के उलट प्‍लेऑफ में 13 प्‍वाइंट के साथ अपनी जगह पक्‍की कर लेती।

विराट-डीविलियर्स रहे मोस्‍ट वैल्यूएबल प्‍लेयर

बैंगलुरू के लिए इस सीजन में एबी डीविलियर्स सबसे मूल्‍यवान खिलाड़ी रहे। साउथ अफ्रीका के इस बल्‍लेबाज ने 13 मैचों में पांच अर्धशतक लगाए। उन्‍होंने 44 की औसत से 442 रन बनाए। बैंगलुरू के लिए वो दूसरे सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे। कप्‍तान विराट कोहली ने फ्रेंचाइजी के लिए सर्वाधिक 14 मैचों मं 464 रन बनाए। इस सीजन में कोहली रन बनाने वालों की सूची में आठवें और डीविलियर्स 11वें स्‍थान पर रहे।

उमेश-सिराज बने कमजोर कड़ी

बैंगलुरू के लिए इस सीजन में सबसे बड़ी कमजोरी उनके तेज गेंदबाज उमेश यादव और मोहम्‍मद सिराज रहे। दोनों खिलाड़ी अहम मौकों पर टीम के लिए विकेट निकाल पाने में विफल रहे। पिछले दो सीजन में उमेश यादव का प्रदर्शन काफी अच्‍छा रहा था, जिसके कारण कोहली को उनसे काफी उम्‍मीदें थी। पावरप्‍ले के दौरान विकेट निकालने की उमेश की क्‍वालिटी नदारद रही। उमेश ने 9.55 की इकनॉमी से रन लुटाए। 11 मैचों में वो केवल आठ विकेट ही निकाल पाए। इसी तरह सिराज ने सात मैचों में सात विकेट निकाले।

किस्‍मत का नहीं मिला साथ

विराट कोहली की टीम इस सीजन में काफी बदकिस्‍मत भी रही। ऑस्‍ट्रेलिया के गेंदबाज नाथन कूल्‍टर नाइल चोट के चलते पूरे सीजन से ही बाहर हो गए। साउथ अफ्रीका के डेल स्‍टेन को टूर्नामेंट के बीच में बैंगलुरू की टीम में शामिल किया गया। स्‍टेन केवल दो मैच खेलने के बाद ही कंधे की चोट के चलते बाहर हो गए। इसके बाद टीम को ऐसा कोई गेंदबाज नहीं मिल सका, जो उनकी जगह भर पाता। अगले सीजन में बैंगलुरू को अपनी कमजोर गेंदबाजी की समस्‍या से उबरना होगा।

हेटमेयर-शिवम दुबे को टीम में लेना पड़ा मेहंगा

पिछले साल भारत दौरे पर वेस्‍टइंडीज के युवा बल्‍लेबाज शिमरोन हेटमेयर ने शानदार प्रदर्शन कर विराट कोहली का दिल जीत लिया था। जिसके कारण 50 लाख के बेस प्राइज वाले हेटमेयर को बैंगलुरू ने 4.20 करोड़ की बड़ी रकम खर्च कर अपनी टीम में शामिल किया। हेटमेयर ने कोहली को पूरी तरह निराश किया। वो पांच मैचों में एक अर्धशतक की मदद से महज 90 रन का योगदान ही दे पाए। इसी तरह 20 लाख के बेस प्राइज वाले बल्‍लेबाज शिवम दुबे पर बैंगलुरू ने पांच करोड़ रुपये का दांव लगाया। दुबे चार मैचों में महज 40 रन ही बना पाए।

सर्वाधिक रन: विराट कोहली- 464

सर्वाधिक विकेट: युजवेंद्र चहल- 18

एक मैच में सर्वाधिक स्‍कोर: विराट कोहली- 100 बनाम कोलकाता

सर्वश्रेष्‍ठ गेंदबाजी प्रदर्शन: युजवेंद्र चहल- 4/38 बनाम मुंबई