IPL 2020, SRH vs DC: From Rags to riches; Rise of the underdog T Natrajan

दिल्ली कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच अबू धाबी के शेख जायद स्टेडियम में खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें मैच के दौरान सभी की नजरें लेग स्पिनर राशिद खान पर थी, जिन्होंने तीन विकेट लेकर हैदराबाद को पहली जीत दिलाने में मदद की लेकिन इसी मुकाबले में एक और गेंदबाज ने शानदार प्रदर्शन किया था और वो थे तमिलनाडु के टी नटराजन।

दिल्ली की पारी के दौरान चौथे ओवर में अटैक में आए इस बांए हाथ के तेज गेंदबाज ने श्रेयस अय्यर और शिखर धवन जैसे बल्लेबाजों के खिलाफ गेंदबाजी करते हुए अपने पहले ओवर में मात्र 5 ही रन दिए। इस स्पेल के दौरान नटराजन की सबसे खास बात रही उनकी सटीक यॉर्कर डालने की काबिलियत।

शुरुआती ओवर में मात्र 12 रन देने के बाद नटराजन 14वें ओवर के लिए अटैक में लौटे और इस बार उनके सामने रिषभ पंत और शिमरोन हेटमायर जैसे बड़े हिटर थे लेकिन इस खिलाड़ी ने हार नहीं मानी। एक बार सटीक यॉर्कर और लो फुलटॉस गेंदो के दम पर नटराजन ने दोनों बल्लेबाजों को खामोश रखा। नटराजन ने चार ओवर में 25 रन देकर मार्कस स्टोइनिस का अहम विकेट हासिल किया।

तमिलनाडु प्रीमियर लीग ने दिलाई पहचान

ये पहला मौका नहीं था जब नटराजन ने अपनी सटीक यॉर्कर गेंदो से सभी को प्रभावित किया हो। साल 2016 के तमिलनाडु प्रीमियर लीग में डिंडीगुल ड्रैगन्स और एलबर्ट टुटी पैट्रियॉट्स के बीच खेले गए मैच में हुए सुपर ओवर के दौरान छह की छह गेंद यॉर्कर डालकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जिसके बाद साल 2017 की आईपीएल नीलामी के दौरान किंग्स इलेवन पंजाब ने उन्हें 3 करोड़ में खरीदा। उस सीजन नटराजन ने पंजाब के लिए 6 मैच खेले थे, जहां उनकी इकॉनामी रेट (9.07) काफी महंगी रही थी।

राशिद खान ने अपनी मां को समर्पित किया मैन ऑफ द मैच का खिताब

पंजाब ने ठुकराया तो हैदराबाद ने दिया मौका

खराब सीजन के बाद उनकी कीमत काफी गिर गई और आईपीएल 2018 में सनराइजर्स हैदराबाद ने उन्हें 40 लाख में खरीदा। टीएनपीएल का हिस्सा रह चुके पूर्व दिग्गज और हैदराबाद टीम के गेंदबाजी कोच मुथैया मुरलीधरन ने नटराजन पर भरोसा दिखाया। हालांकि नटराजन ने 2018 और 2019 सीजन में एक भी मैच नहीं खेला लेकिन इस दौरान वो घरेलू टूर्नामेंट्स में प्रदर्शन करते रहे।

मंगलवार को आईपीएल 2020 में दिल्ली के खिलाफ खेलने उतरे नटराजन को देखकर ऐसा बिल्कुल नहीं लगा कि वो दो सीजन से टीम की प्लेइंग इलेवन से बाहर थे। एक के बाद एक शानदार यॉर्कर डालकर नटराजन ने अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। इस सीजन नटराजन हैदराबाद के प्रमुख गेंदबाज के तौर पर उभर सकते हैं।

जम्मू-कश्मीर से IPL2020 तक: जानें कौन है SRH के नए खिलाड़ी अब्दुल समद

क्यों अपने नाम की जर्सी पहनकर नहीं खेले नटराजन

सेलम से 35 किमी दूर चिनप्पामपट्टी गांव के रहने वाले नटराजन के पिता थंगारासू बुनाई का काम करते हैं और उनकी माता सड़क किनारे मांस बेचती हैं। पांच भाई बहनों में सबसे बड़े नटराजन को क्रिकेट से जोड़ने के पीछे बड़ा हाथ है जयप्रकाश का, जिन्होंने इस युवा खिलाड़ी की प्रतिभा को पहचाना और नटराजन को क्रिकेट में आगे बढ़ने की सलाह दी। अपने मेंटोर का शुक्रिया अदा करने के लिए नटराजन ने दिल्ली के खिलाफ मैच के दौरान ‘जेपी नट्टू’ नाम की जर्सी पहनी थी।

युवा खिलाड़ियों की कर रहे हैं मदद

खुद मुश्किलों से जूझ कर आईपीएल जैसे बड़े मंच तक पहुंचे नटराजन ने दो साल पहले आईपीएल से मिली बड़ी रकम की मदद से अपने गांव में मॉर्डन फैकल्टी तैयार की, ताकि युवा खिलाड़ियों को उन परेशानियों से ना गुजरना पड़े जिससे वो गुजरे हैं।